Tuesday, December 7, 2021

धांधली: खजाना खाली, वेतन के पैसे नहीं, फिर भी सडक़ों की सफाई ना करने वाली स्विपिंग मशीन को MCF दे रहा करोड़ों रुपए

Must Read

मात्र 28 रुपए का कर्ज चुकाने अमेरिका से हरियाणा आया ये शख्स, साल 1954 में ली थी इस हलवाई से उधारी

हिसार। कहते हैं कि जीवन में यदि आपने किसी से उधार लिया है तो वह आपको अगले जन्म में...

मुसीबत है कि पीछा नहीं छोड़ती, 86 साल की उम्र में भी 6 लोगों का पेट पाल रहे हैं ये बुजुर्ग बाबा

फ़रीदाबाद । आमतौर पर कई लोग छोटी छोटी मुश्किलों के सामने भी हार मानकर बैठ जाते हैं लेकिन ऐसे...

पेट्रोल-डीजल की महंगाई से बचना है तो करें ये मामूली सा उपाय, मिलेगी बड़ी राहत और बचेंगे हजारों रुपए

नई दिल्ली। पेट्रोल और डीजल के रेटों को लेकर इन हाय-तौबा मची हुई है। देश में हर रोज पेट्रोल...

फरीदाबाद। एक ओर नगर निगम फरीदाबाद का खजाना पूरी तरह से खाली है। वेतन देने के लिए निगम के पास फंड का अभाव है, मगर दूसरी ओर आज भी इस निकाय में जमकर धांधली हो रही है। हैरत की बात है कि लोगों को निगम आयुक्त के तौर पर नियुक्त आईएएस अधिकारी व फरीदाबाद के डीसी रहे यशपाल यादव से काफी उम्मीदे हैं, इसके बावजूद भी निगम में धांधली का खेल रूक नहीं रहा है। जी हां हम बात कर रहे हैं स्विपिंग मशीन की आड़ में होने वाले खेल की। जिसे उजागर किया है सिटीमेल न्यूज ने, पंरतु हैरत की बात है कि इस पूरे मामले पर नगर निगम प्रशासन से लेकर सरकार तक सभी चुप्पी साधे हुए हैं। मजे की बात तो यह है कि इन सभी को अच्छी तरह से पता है कि स्विपिंग मशीन से ना तो शहर की सफाई हो रही है और ना ही इसका लाभ फरीदाबाद के लोगों को मिल पा रहा है। मगर फिर भी नगर निगम के खजाने से लाखों रुपए के बिल जारी हो रहे हैं। इसे सरेआम धांधली नहीं तो और क्या कहेंगे।

मशीनों पर हो रहा है मोटा खर्च

बता दें कि राज्य सरकार ने नगर निगम फरीदाबाद सहित प्रदेश की अनेक निकायों को शहर की सडक़ों पर सफाई करने के लिए स्विपिंग मशीन दी हैं। इन मशीनों के रखरखाव और उन्हें चलाने के लिए ठेकेदार भी नियुक्त किए गए हैं। आपने इन मशीनों को रात के समय सडक़ के बीच में बनें डिवाईर के साथ धूल उड़ाते हुए देखा होगा। इन मशीनों से सफाई कम और प्रदूषण अधिक फैलता है, मगर फिर भी कहा जा रहा है कि यह सडक़ किनारे जमी मिटटी की सफाई कर रही है। मगर आपको बता दें कि ये मशीन ना तो सफाई कर पा रही है और ना ही गीली मिटटी को हटाने अथवा उठाने की क्षमता रखती है। फिर भी निगम इस काम के लिए मशीन संचालकों को लाखों रुपए का भुगतान करता है। इसके अलावा मशीन को डीजल उपलब्ध करवाने की जिम्मेदारी भी निगम प्रशासन के कमजोर कंधों पर हैं।

वेतन के लिए पैसे तक नहीं

लोगों का कहना है कि एक ओर निगम के पास वेतन देने के लिए पैसे नहीं हैं, ऊपर से सफाई मशीनों को मोटा भुगतान करने की जिम्मेदारी सौंप दी गई है, वह भी एक केवल धांधली के लिए, जिससे आम आदमी का कोई सरोकार नहीं है। इस सारे मामले को लेकर दायर की गई आरटीआई का जवाब भी नगर निगम का सफाई विभाग देना नहीं चाहता। प्रथम अपील लगाने के बावजूद भी संबंधित अधिकारी इस आरटीआई का जवाब इसलिए नहीं दे रहा, ताकि सारा भंडा ना फूट जाए। यदि वह अपनी जिम्मेदारी के प्रति ईमानदार हैं तो उन्हें तत्काल इस आरटीआई का जवाब देना चाहिए। वर्ना तो यही माना जाएगा कि इस सारे खेल में नीचे से लेकर ऊपर तक सभी शामिल हैं। इस मामले में निगम आयुक्त यशपाल यादव को तत्काल संज्ञान लेते हुए निष्पक्ष व उचित जांच करवानी चाहिए, ताकि वह अपने कार्यकाल में इस बड़े गड़बड़ झाले को रूकवा सकें।

- Advertisement -
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Connect With Us

223,344FansLike
3,123FollowersFollow
3,497FollowersFollow
22,356SubscribersSubscribe

Latest News

मात्र 28 रुपए का कर्ज चुकाने अमेरिका से हरियाणा आया ये शख्स, साल 1954 में ली थी इस हलवाई से उधारी

हिसार। कहते हैं कि जीवन में यदि आपने किसी से उधार लिया है तो वह आपको अगले जन्म में...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -
Do NOT follow this link or you will be banned from the site!
error: Content is protected !!