Monday, November 29, 2021

हरियाणा में सख्त हुआ सेवा अधिकार आयोग, चेयरमैन टीसी गुप्ता ने दी सीधी चेतावनी,डयूटी करें या छोड़े नौकरी

Must Read

MCF के SDO सुमेर सिंह के खिलाफ पुलिस में शिकायत, पीडि़त महिला ने लगाया शारीरिक व मानसिक प्रताडऩा का आरोप

फरीदाबाद। नगर निगम फरीदाबाद के विवादित एसडीओ सुमेर सिंह के खिलाफ एक महिला ने मानसिक, व शारीरिक प्रताडऩा देने...

गैंगस्टर नीरज बवाना गिरोह पर हरियाणा पुलिस की रेड, बुलेट प्रूफ गाड़ी सहित भारी मात्रा में हथियार बरामद

चंडीगढ़ । हरियाणा पुलिस ने कुख्यात नीरज बवाना गैंग के तीन सदस्यों को करनाल जिले से गिरफ्तार करते हुए...

पत्रकार सुरक्षा कानून बनाने की मांग, हरियाणा यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट ने राज्यपाल को सौंपा ज्ञापन

गुरूग्राम । हरियाणा यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स के प्रदेशाध्यक्ष संजय राठी ने गुरूग्राम में प्रदेश के राज्यपाल बंगारू दत्तात्रेय को...

फरीदाबाद । हरियाणा सेवा का अधिकार आयोग के मुख्य आयुक्त टीसी गुप्ता ने कहा है कि सभी विभागों के अधिकारी यह सुनिश्चित करें कि सरकार द्वारा आम नागरिकों को दी जा रही सभी सुविधाएं समयबद्ध ढंग से मिलें। समय पर मिल रही इन सुविधाओं से नागरिकों की संतुष्टि भी जरूरी है। फिलहाल सेवा का अधिकार अधिनियम के दायरें में 546 सेवाएं हैं और जल्द ही 10 अन्य सेवाओं को भी आरटीएस के दायरे में लाया जाएगा। वे सोमवार को सेक्टर-12 स्थित एचएसवीपी कन्वेंशन सेंटर में सेवा का अधिकार अधिनियम के तहत जिला स्तरीय वर्कशॉप में प्रशासनिक अधिकारियों, संबंधित विभागों के अध्यक्षों तथा जिले के गणमान्य नागरिकों की बैठक को संबोधित कर रहे थे।

विभागों का स्कोर 10 में से 9.9 होना चाहिए

 जल्द ही आयुष्मान भारत, प्रॉपर्टी आईडी, परिवार पहचान पत्र में संशोधन, सीवरेज कनेक्शन, खाद व फसल विविधीकरण प्रोत्साहन योजनाओं, मनरेगा, स्वामित्व योजना के तहत किए गए पंजीकरण में शुद्धीकरण, छात्रों को प्रदान की जाने वाली मार्कशीट, डिग्री व स्कूल लीविंग सर्टिफिकेट, महिलाओं व बच्चों के टीकाकरण जैसी विभिन्न योजनाओं को सेवा का अधिकार अधिनियम में शामिल किया जाएगा। इस अवसर पर उन्होंने विभागाध्यक्षों के लिए सख्त हिदायत के साथ कुछ लक्ष्य भी निर्धारित किए। उन्होंने निर्देश दिए कि सेवाओं के निपटान के मामले में विभागों का स्कोर 10 में से कम से कम 9.9 होना चाहिए। इसके अतिरिक्त नागरिकों से सेवाओं के संबंध में ली जाने वाली प्रतिक्रिया के मामले में भी 5 में से कम से कम 4 अंक होने चाहिए।

250 अधिकारियों को नोटिस जारी

मुख्य आयुक्त ने कहा कि 31 अक्टूबर तक सभी विभाग वर्ष 2020 तक की लंबित सेवाओं के मामलों का निपटान करना सुनिश्चित करें। उन्होंने यह भी हिदायत दी कि विभाग नागरिकों को प्रदान की जाने वाली विभिन्न सेवाओं के मामले में रिजेक्शन रेट को भी कम से कम करें। यदि इन बिंदुओं पर किसी भी अधिकारी की लापरवाही पाई गई तो उन्हें समन कर मुख्यालय बुलाया जाएगा। ऐसे मामलों में 20 हजार रुपये तक की पेनल्टी लगाई जाएगी और यदि किसी एक अधिकारी पर 3 बार इस प्रकार की पेनल्टी लग गई तो उन्हें नौकरी से बाहर का रास्ता दिखाया जाएगा। अभी तक लापरवाही के मामलों में आयोग ने 250 अधिकारियों को नोटिस जारी किए हैं।

546 सेवाओं को आरटीएस में सूचीबद्ध किया

मुख्य आयुक्त टीसी गुप्ता ने कहा कि फिलहाल 31 विभागों की 546 सेवाओं को आरटीएस में सूचीबद्ध किया गया है, जिनमें से 277 सेवाएं अंत्योदय सरल, 184 ऑनलाइन पोर्टल तथा 85 ऑफलाइन सेवाएं हैं। ऑफलाइन सेवाओं को भी जल्द ही आनलाइन कर सेवा का अधिकार अधिनियम के दायरे में लाया जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार व राज्य सेवा अधिकार आयोग का मुख्य लक्ष्य आम जनमानस तक सरकारी सेवाओं तथा योजनाओं का पूर्ण लाभ समयबद्ध अवधि में पहुंचाना है। सरकारी सेवाओं का लाभ मिलने में लोगों को कोई परेशानी न हो और विभागीय कार्य सुगम व पारदर्शी तरीके से हो। सेवा अधिकार के तहत योजनाओं का समयबद्ध अवधि में लाभ न पहुंचाने वाले अधिकारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

अधिकारियों को कड़ी चेतावनी

आवेदनों को ठोस कारण के बिना रद्द किये जाने पर भी कड़ा संज्ञान लिया जाएगा। बैठक में उन्होंने ऐसे अधिकारियों को कड़ी चेतावनी भी दी, जिनके पास लंबित आवेदनों की संख्या अधिक है। विशेष रूप से नगर निगम फरीदाबाद, दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम, वेलफेयर ऑफ एससी-बीसी, एचएसवीपी, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता, जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी, महिला एवं बाल विकास, श्रम विभाग के अधिकारियों को उन्होंने सुधार के लिए निर्देश दिए। इस अवसर पर मुख्य आयुक्त ने गणमान्य नागरिकों से भी सेवाओं के सम्बंध में प्रतिक्रिया ली।

अधिकारियों की जवाबदेही सुनिश्चित

मुख्य आयुक्त ने कहा कि सेवाओं में जानबूझकर लापरवाही करने वाले अधिकारियों की जवाबदेही को सुनिश्चित करने के लिए हाल ही में ऑटो अपील सिस्टम विकसित किया गया है जिसमें सेवाओं में की जाने वाली देरी के मामलों में स्वयं ही अपील फाइल होगी। इसके अतिरिक्त जल्द ही एक कॉल सेंटर की स्थापना भी की जाएगी, जिसमें देरी के मामलों में आवेदक फोन करके अपनी शिकायत दर्ज करवा सकेंगे। उन्होंने कहा कि नागरिक आरटीएससी-एचआरवाई डॉट जीओवी डॉट आईएन पर भी अपनी शिकायत आयोग को कर सकते हैं।

काम को जुनून के साथ करें

इस अवसर पर अपने संबोधन में फरीदाबाद मंडल के आयुक्त संजय जून ने अधिकारियों से कहा कि वे अपने काम को जुनून के साथ करें। दैनिक आधार पर कार्य लंबित नहीं रहना चाहिए। अधिकारी-कर्मचारी नागरिक सेवाओं को अपना नैतिक कर्तव्य समझें। अपने संबोधन में उपायुक्त डॉ जितेंद्र यादव ने सेवा का अधिकार अधिनियम के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि नागरिकों के लिए यह अधिनियम एक मजबूत माध्यम है, जिसके द्वारा उन्हें समयबद्ध सेवाएं मिलती है। उन्होंने बैठक में उपस्थित सभी विभागाध्यक्ष को हिदायत दी कि वे अपनी कार्य प्रणाली में सुधार करें।

डिप्टी मेयर मनमोहन गर्ग कहा

नगर निगम के डिप्टी मेयर मनमोहन गर्ग कहा कि सेवा का अधिकार अधिनियम सरकार का महत्वाकांक्षी अभियान है। उन्होंने कहा कि यदि वे अपना कार्य इमानदारी और बेहतर ढंग से करेंगे तो इससे लोगों का जीवन आसान बनेगा। उन्होंने कहा कि अधिकारियों को केवल नौकरी करने की बजाय लोक सेवा के भाव से कार्य करना होगा। इस अवसर पर पुलिस आयुक्त विकास अरोड़ा, स्मार्ट सिटी की सीईओ डा. गरिमा मित्तल, एचएसवीपी की प्रशासक मोनिका गुप्ता, नगर निगम के सहायक आयुक्त अभिषेक मीणा, एडीसी सतबीर सिंह मान, एसडीएम फरीदाबाद परमजीत सिंह चहल, सीटीएम पुलकित मल्होत्रा सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी व कर्मचारी उपस्थित थे।

- Advertisement -
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Connect With Us

223,344FansLike
3,123FollowersFollow
3,497FollowersFollow
22,356SubscribersSubscribe

Latest News

MCF के SDO सुमेर सिंह के खिलाफ पुलिस में शिकायत, पीडि़त महिला ने लगाया शारीरिक व मानसिक प्रताडऩा का आरोप

फरीदाबाद। नगर निगम फरीदाबाद के विवादित एसडीओ सुमेर सिंह के खिलाफ एक महिला ने मानसिक, व शारीरिक प्रताडऩा देने...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -
Do NOT follow this link or you will be banned from the site!
error: Content is protected !!