Sunday, October 17, 2021

हुनर के आगे फेल हुई डिग्री, मात्र 10वीं पास किसान ने बंजर जमीन को उपजाऊ बना शुरू कर दी लाखों की कमाई

Must Read

दिल्ली में बन रही है सबसे बड़ी सुरंग सडक़, बिना जाम के फर्राटा भरेंगे एनसीआर और हरियाणा के लोग

नई दिल्ली। दिल्ली के लोगों के लिए यह बड़ी खुशखबरी हो सकती है। अब उन्हें दिल्ली के जाम से...

खूबसूरत होने के साथ ही बेहद ही इंटेलीजेंट हैं IAS टीना डाबी, UPSC स्टुडेंटस को देती हैं टिप्स

नई दिल्ली। यूपीएससी पास करने के बाद आईएएस अधिकारियों को कौन सी चुनौतियों का सामना करना पड़ता है। यह...

केंद्रीय मंत्री गुर्जर ने कहा, राशन कार्ड है तो जरूर मिलेगा मुफ्त अनाज, टेंशन लेने की जरूरत नहीं

फरीदाबाद । प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना जरूरतमंद परिवारों के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण महत्वकांक्षी योजना है। यह विचार ऊर्जा एवं...

कांगड़ा ।अगर आपमे हुनर है तो आपकी डिग्री महत्व नहीं रखती है। आप अपने हुनर के जरिए ही अच्छी कमाई कर सकते है। हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिले के रहने वाले ओमप्रकाश केवल दसवीं तक पढ़े है। परिवार की आर्थिक स्थिति काफी खराब थी। परिवार को सहयोग देने के लिए वह कम उम्र में ही काम करने लगे। उन्होंने मजदूरी शुरू कर दी। ओमप्रकाश के पास जमीन तो थी, लेकिन उस जमीन का अधिकतर हिस्सा बंजर था। इसलिए फसल बिल्कुल न के बराबर ही होती थी। उनको यूट्यूब के जरिए लैमन ग्रास के बारे में जानकारी मिली। उनको भी लैमन ग्रास की खेती काफी पसंद आई। उन्होंने पालमपुर से बीज लाकर लेमन ग्रास की खेती शुरू कर दी। उनके साथ 100 से अधिक किसान जुड़े हुए है। वह लेमनग्रास से तेल निकालकर मध्यप्रदेश, राजस्थान, सहित अन्य कई राज्यों मेंं बेचते है। इसके जरिए वह साल में लाखों रुपए की कमाई करते है।

लेमन ग्रास की खेती करना मुश्किल नहीं

ओमप्रकाश कहते है कि लेमन ग्रास की खेती करना अधिक मुश्किल काम नहीं है। इस समय उनके पास लेमन ग्रास के काफी प्लांट है। वह बताते है कि अक्सर यूट्यूब पर खेती से जुड़े हुए वीडियो देखते रहे है। जिसके जरिए ही उनको लेमन ग्रास की जानकारी मिली। उन्होंने कहा कि मुझे जानकारी मिली कि लेमन ग्रास के लिए किसी खास जमीन की जरूरत नहीं होती है। यह बंजर जमीन पर भी पैदा हो जाती है। इसके बाद मैने अपने एक जानकार के जरिए पालमपुर स्थित इंस्टीट्यूट आफ हिमालयन बायोरिसोर्स टेक्नोलॉजी में इसकी ट्रेनिंग ली।

10 हजार प्लांट अपने गांव लेकर आ गए

ओमप्रकाश कहते है कि ट्रेनिंग के बाद वह 10 हजार प्लांट अपने गांव लेकर आ गए। ओमप्रकाश कहते हे कि उन्होंने लेमन ग्रास की बंजर जमीन पर खेती शुरू कर दी। कुछ ही समय बाद पूरी जमीन हरी भरी हो गई। इसके बाद मेरे भीतर आत्मविश्वास पैदा हो गया। मैने खेती का दायरा बढ़ा दिया। साल 2019 तक 2 लाख प्लांट मैने अपने खेतों में लगवा दिए। फिर मैने लेमन ग्रास से तेल निकालना शुरू कर दिया। ओमप्रकाश ने आसपास के किसानों को जोडक़र सोसायटी बना दी। उन्होंने अपने गांव और आसपास के किसानों को भी जोड़ा। फिलहाल 100 से अधिक किसान लेमन ग्रास की खेती कर रहे है। कुछ किसानों ने शुरुआत में ओमप्रकाश को गलत भी कहा था। उनका कहना था कि इस घास को लगाने से कुछ नहीं मिलने वाला है। सब बेकार ही चला जाएगा।

1500 रुपए में बिक जाता है एक लीटर तेल 

ओमप्रकाश बताते है कि उनका एक लीटर तेल 1500 रुपए में बिक जाता है। वह बताते है कि ऑयल निकालने के लिए मशीन की जरूरत होती है। हमारे पास पैसे नहीं थे। इसलिए पालमपुर की मदद से एक मशीन की व्यवस्था की। इसके बाद हम ऑयल निकालकर मार्केटिंग करने लगे। जैसे जैसे लोगों को हमारे बारे में जानकारी मिली हम मार्केटिंग करने लगे। वह बताते है कि पहले उनको ऑयल बेचने के लिए जगह-जगह जाना पड़ता था। लेकिन लोग अब खुद आकर उनसे ऑयल ले जाते है।

जंगलों और जमीन में हो सकती है लेमन ग्रास की खेती 

लेमन ग्रास की खेती के लिए अधिक उपजाऊ जमीन की जरूरत नहीं है। यह जंगल और बंजर जमीन में भी हो जाती है। बरसात के सीजन में इसकी प्लाटिंग की जा सकती है। हालांकि कोई भी मौसम इसकी प्लाटिंग के लिए उपयुक्त रहता है। वह कहते है कि प्लाटिंग करने के बाद इसको किसी तरह के सपोर्ट की जरूरत नहीं होती है। सिंचाई के लिए बारिश का पानी ही काफी होता है। प्लाटिंग करने के दो से तीन माह के भीतर ही फसल तैयार हो जाती है। इसकी कटिंग करके इसका कर्मिशयल यूज भी किया जा सकता है।

यहां से मिल सकती है आपको फार्मिंग की ट्रेनिंग 

लेमन ग्रास की फार्मिंग की ट्रेनिंग देश के कई राज्यों में दी जाती है। इसका कोर्स एक दिन से लेकर सप्ताह का होता है। उन्होंने बताया कि नजदीकी कृषि विज्ञान केंद्र से जाकर इसकी जानकारी ली जा सकती है। सेंट्रल इंस्टीट्यूट आफ मेडिसिनल एरोमेटिक प्लांट लखनऊ, पालमपुर हिमाचल स्थित इंस्टीट्यूट आफ हिमालयन बायोरिसोर्स टेक्नोलॉजी से ट्रेनिंग ले सकते है। यह प्लांट एक रुपए की दर से भी मिल जाता है। वहीं कृषि विज्ञान केंद्र की ओर से इसको मुफ्त में भी दिया जाता है। कई सरकारी संस्थान भी मुफ्त में प्लांट किसानों को उपलब्ध करवाते है।

दवाई के रूप में इस्तेमाल किया जाता है यह पौधा 

यह पौधा दवाई का काम करता है। इसकी पत्तियों और इसके ऑयल का इस्तेमाल दवाईयों के रूप में किया जाता है। यह एंटीआक्सीडेट, एंटी इनफ्लेमेटरी और एंटीसेप्टिक होता है। यह सिर दर्द, अनिद्रा और डिप्रेशन के काम आता है। यहइम्यूनिटी बूस्टर का काम करता है। इसका ऑयल तैयार करने के लिए बॉयलर की जरूरत होती है। पहले लेमन ग्रास को बॉयलर में भर दिया जाता है। फिर इसको टाइट बंद कर दिया जाता है। इसके बाद उसको स्टीम किया जाता है। इसको ठंडा करके ऑयल तैयार कर दिया जाता है। लेमन ग्रास से आप कम लागत में अच्छी कमाई कर सकते है। एक एकड़ जमीन में इसकी खेती की जा सकती है। कुल खर्च केवल 15 से 20 हजार रुपए ही आता है। वहीं इसका प्लांट मुफ्त मेंं मिल जाए तो इसकी लागत बिल्कुल न के बराबर होती है।

- Advertisement -
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Connect With Us

223,344FansLike
3,123FollowersFollow
3,497FollowersFollow
22,356SubscribersSubscribe

Latest News

दिल्ली में बन रही है सबसे बड़ी सुरंग सडक़, बिना जाम के फर्राटा भरेंगे एनसीआर और हरियाणा के लोग

नई दिल्ली। दिल्ली के लोगों के लिए यह बड़ी खुशखबरी हो सकती है। अब उन्हें दिल्ली के जाम से...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -
Do NOT follow this link or you will be banned from the site!