Thursday, September 23, 2021

Delhi-NCR और हरियाणा के बीच बढ़ जाएगी दूरी, जाम में घंटों फंसना होगी मजबूरी, जानिए क्या है पूरा मामला

Must Read

बेरोजगारों के लिए बड़ी खबर ,फरीदाबार में 26 सितंबर को लगेगा रोजगार मेला, कई बड़ी कंपनियां बाटेंगी नौकरियां

फरीदाबाद । हरियाणा कौशल विकास मिशन की परियोजना प्रबंधक अधिकारी  नेहा छाबड़ा ने बताया कि हरियाणा कौशल विकास मिशन...

बुजुर्गों को नहीं मिल पा रही थी पेंशन, दर-दर भटक रहे थे सभी, ऐसे में मिला सीएम मनोहर लाल का सहारा

फरीदाबाद । गाँव मलेरना में पिछले तीन महीने से बुजुर्गों को पेंशन नहीं आने की सूचना पर मुख्यमंत्री मनोहर...

DAV शताब्दी महाविद्यालय फरीदाबाद में हुआ सेमीनार, मुख्य वक्ता ने कहा, स्वस्थ शरीर मे ही स्वस्थ मस्तिष्क का निवास होता है

Faridabad News (citymail news) डी ए वी शताब्दी महाविद्यालय फरीदाबाद तथा राष्ट्रीय चेतना शक्ति फाउंडेशन के सौजन्य से 'स्वास्थ्य...

नई दिल्ली। मानसून की पहली शानदार बारिश से लोगों को प्रचंड गर्मी से राहत तो मिल गई है, मगर बारिश के इस सीजन में अब लोगों को एक और नई मुसीबत का सामना करने के लिए तैयार रहना होगा। बारिश के इस मौसम में फरीदाबाद, गुरूग्राम और हरियाणा के बाकि शहरों सोनीपत, पलवल, बहादुरगढ, नोएडा और गाजियाबाद सहित अन्य क्षेत्रों से दिल्ली जाना भारी पडऩे वाला है।

यह दूरी अब घंटों में बदलने वाली है

हरियाणा के इन शहरों से आमतौर पर दिल्ली का रास्ता महज 15 से 20 मिनट में तय हो जाता है। फरीदाबाद से बदरपुर बार्डर और आश्रम तक की दूरी मात्र 25 मिनट में पूरी हो जाती है, वहीं गुरूग्राम की बात करें तो वहां के सिरहौल बार्डर से भी जब जाम नहीं होता तो वहां तेज गति से वाहन सवार दिल्ली में एंट्री ले लेते हैं। इसी प्रकार से सोनीपत से भी दिल्ली जाने की दूरी कोई अधिक नहीं है। मगर मानसून के दिनों में कुछ मिनटों की यह दूरी अब घंटों में बदलने वाली है। यह परेशानी लोगों को केवल बारिश की वजह से ही नहीं बल्कि दिल्ली और गुरूग्राम में बनने वाले अंडरपास की वजह से भी होने वाली है।

आश्रम पर अंडरपास का हो रहा है निर्माण

दिल्ली में आश्रम चौक पर अंडरपास का निर्माण चल रहा है, इस वजह से फरीदाबाद से दिल्ली जाने वाले लोगों को बदरपुर बार्डर से होते हुए आश्रम पर जाने में तो थोड़ा समय लगता है, मगर जैसे ही वाहन आश्रम के पास पहुंचते हैं तो वहां घंटों तक जाम में फंसने की नौबत आ जाती है। बारिश के दिनों में तो जाम की स्थिति और भी लंबी होने वाली है। एक तरह से यह कहा जाए कि बारिश के दिनों में दिल्ली जाना और वहां से वापिस हरियाणा सहित एनसीआर के शहरों में आना, किसी जंग जीतने से कम नहीं है।

दिल्लीगुरूग्राम रोड की भी है बुरी हालत

ठीक यही स्थिति दिल्ली- गुरूग्राम रोड की भी है। सिरहौल बार्डर की बात करें तो आम दिनों में ही वहां वाहनों की रेलमपेल रहती है। लोगों का सुबह और शाम को जब आफिस जाने और शाम को घर वापिस आने का समय होता है तो नजदीक होते हुए भी दिल्ली बहुत दूर हो जाती है। शाम को गुरूग्राम, फरीदाबाद और नोएडा आने जाने वाले लोगों को ना चाहते हुए भी घंटों तक जाम में फंसे रहना पड़ता है। दिल्ली-गुरूग्राम रोड पर भी एंबियस मॉल के पास अंडरपास का निर्माण कार्य चल रहा है, जोकि पूरी तरह से बना नहीं है और वहां काम चल रहा है। इस निर्माणधीन अंडरपास की वजह से भी लोगों को अक्सर जाम में फंंसने के लिए मजबूर होना पड़ता है। ठीक यही स्थिति दिल्ली से नोएडा की भी है, वहां भी लोगों को अक्सर जाम का सामना करना पड़ता है।

टीकरी बार्डर की भी है बुरी हालत

वहीं हरियाणा के सोनीपत की बात करें तो कुंडली और बहादुरगढ़ के पास टीकरी बार्डर पर किसानों का धरना चल रहा है। इस वजह से लोगों को आसपास के इलाकों के अंदर से होते हुए दिल्ली और हरियाणा के बीच का रास्ता घंटों के टाईम बर्बाद करते हुए पार करना पड़ता है। किसान आंदोलन की वजह से पुलिस ने सोनीपत और दिल्ली के बीच का यह रास्ता बंद किया हुआ है। इस वजह से लोगों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ता है। मगर अब बारिश होने की वजह से यह रास्ता और भी लंबा होने वाला है। बारिश के दिनों में सडक़ों पर जाम लगना एक पुरानी समस्या है, जिसका कई सालों बाद आज तक भी कोई समाधान नहीं हुआ है। हालांकि प्रशासन को इसके बारे में अच्छे से पता है, मगर हैरत की बात है कि समाधान कोई नहीं करना चाहता।

फरीदाबाद से बदरपुर बार्डर की दूरी मात्र 16 KM

बता दें कि फरीदाबाद से बदरपुर बार्डर की दूरी महज 16 किलोमीटर है, जिसे तय करने में मात्र 15 से 20 मिनट तक का ही समय लगता है। मगर जैसे ही पुल के बाद आली गांव आता है तो वहां से आश्रम चौक तक जाने में एक घंटे का समय लग जाता है। सुबह नौ से 11 बजे तक इस 8 किलोमीटर का रास्ता पार करना एक जंग जीतने जैसा हो जाता है। इस रूट पर आने जाने वाले लोगों का कहना है कि इस जाम की वजह से उनका अपने काम पर जाने का मन ही नहीं करता। वह जाम के बारे में सोचकर ही थकान महसूस करने लगते हैं।

यातायात पुलिस केवल चालान काटने में मस्त

हालांकि आली गांव से लेकर आश्रम चौक तक कई जगह यातायात पुलिस भी चौकस रहती है, मगर उनका काम सडक़ को जाम से मुक्त करवाने की बजाए चालान काटना रहता है। आली गांव से लेकर आश्रम तक करीब तीन प्वाइंट पर यातायात पुलिस कर्मचारी तैनात दिखाई देते हैं। पंरतु जैसे ही कोई वाहन चालक गलती करता है, उसे दबोचने में वह एक सैकेंड की देरी भी नहीं लगाते और यदि जाम की बात करें तो उस ओर वह देखते तक नहीं। लोगों का कहना है कि चालान काटने के साथ साथ यातायात पुलिस को सडक़ जाम को खुलवाने की ओर भी ध्यान देना चाहिए।

 

- Advertisement -
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Connect With Us

223,344FansLike
3,123FollowersFollow
3,497FollowersFollow
22,356SubscribersSubscribe

Latest News

बेरोजगारों के लिए बड़ी खबर ,फरीदाबार में 26 सितंबर को लगेगा रोजगार मेला, कई बड़ी कंपनियां बाटेंगी नौकरियां

फरीदाबाद । हरियाणा कौशल विकास मिशन की परियोजना प्रबंधक अधिकारी  नेहा छाबड़ा ने बताया कि हरियाणा कौशल विकास मिशन...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -
Do NOT follow this link or you will be banned from the site!