Thursday, September 23, 2021

ऑस्ट्रेलिया में भारतीयों का हीरो बना हरियाणा का विशाल जूद, बचाया तिरंगे का सम्मान, सीएम ने की रिहाई की मांग

Must Read

बेरोजगारों के लिए बड़ी खबर ,फरीदाबार में 26 सितंबर को लगेगा रोजगार मेला, कई बड़ी कंपनियां बाटेंगी नौकरियां

फरीदाबाद । हरियाणा कौशल विकास मिशन की परियोजना प्रबंधक अधिकारी  नेहा छाबड़ा ने बताया कि हरियाणा कौशल विकास मिशन...

बुजुर्गों को नहीं मिल पा रही थी पेंशन, दर-दर भटक रहे थे सभी, ऐसे में मिला सीएम मनोहर लाल का सहारा

फरीदाबाद । गाँव मलेरना में पिछले तीन महीने से बुजुर्गों को पेंशन नहीं आने की सूचना पर मुख्यमंत्री मनोहर...

DAV शताब्दी महाविद्यालय फरीदाबाद में हुआ सेमीनार, मुख्य वक्ता ने कहा, स्वस्थ शरीर मे ही स्वस्थ मस्तिष्क का निवास होता है

Faridabad News (citymail news) डी ए वी शताब्दी महाविद्यालय फरीदाबाद तथा राष्ट्रीय चेतना शक्ति फाउंडेशन के सौजन्य से 'स्वास्थ्य...

चंडीगढ़। हरियाणा के एक युवक ने ऑस्ट्रेलिया में अपने देश का नाम रोशन कर दिया। यह युवक भारतीयों के हीरो के रूप में उभर कर सामने आया है। फिलहाल विशाल जूद आस्टे्रलिया की जेल में बंद है और उसे छुड़ाने के लिए हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल अपने स्तर पर प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने विदेश मंत्री को पत्र लिखकर विशाल जूद को छुड़वाने की अपील की है। विशाल की रिहाई को लेकर हरियाणा से लेकर ऑस्ट्रेलिया तक प्रदर्शन हो रहे हैं। प्रदर्शन करने वाले लोगों का कहना है कि विशाल ने ऑस्ट्रेलिया में तिरंगे का अपमान होने से रोका है, मगर बाद में उसे एक झूठे मामले में फंसाकर जेल भिजवा दिया गया। विशाल के इस कारनामे ने उसे ऑस्ट्रेलिया में भारतीयों का हीरो बना दिया है। लेकिन यह पूरा मामला आखिर है क्या, इसे जानना भी आपके लिए बेहद जरूरी है।

 

कुरूक्षेत्र का रहने वाला है विशाल जूद

विशाल जूद की उम्र महज 24 साल है और वह हरियाणा के कुरूक्षेत्र का रहने वाला हैं। करीब चार साल पहले विशाल नौकरी करने के लिए आस्टे्रलिया चला गया था। प्रदेश की प्रभावशाली रोड जाति से ताल्लुक रखने वाले विशाल सिडनी में स्थित एक कंपनी में जॉब करता है। पंरतु 16 जून 2021 को अचानक पुलिस ने उन्हें वहां गिरफ्तार कर लिया। उन पर ऑस्ट्रेलिया में दंगा भडक़ाने का आरोप लगाया गया है। बताया गया है कि विशाल पर दंगा भडक़ाने, हथियार रखने और सपंत्ति को नुक्सान पहुंचाने के कई मामले दर्ज किए गए हैं।

भारतीय तिरंगे के अपमान का है मामला

बीते साल टिकटॉक पर एक वीडियो जारी हुआ था, जिसमें कुछ लोगों को भारतीय तिरंगे का अपमान करते हुए दिखाया गया था। इस वीडियो के बाद ऑस्ट्रेलियामें दो पक्षों के बीच झड़प होने की खबरें भी सामने आई थीं। 29 अगस्त 2020 को हैरिस पार्क इलाके में दो पक्षों के बीच हुई झड़प का वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुआ। इनमें एक पक्ष भारत के रहने वाले लोगों का था और दूसरे खेमे में तिरंगे का अपमान करने वाले लोग शामिल थे। बताया गया है कि भारतीयों के पक्ष का विशाल जूद नेतृत्व कर रहे थे। इसके बाद सितंबर और दिसबंर में इन दोनों पक्षों के बीच दो बार लड़ाई भी हुई। जिसमें विशाल जूद को पीटा भी गया था। इस लड़ाई का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था।

विशाल के समर्थन में ट्रेंड हुआ गाना

इसके बाद यह हरियाणवी युवक भारतीयों का हीरो बनकर उभरा। तब विशाल को गिरफ्तार कर लिया गया था। जिसके विरोध में ऑस्ट्रेलिया में लोग सडक़ों पर उतरे और सोशल मीडिया पर भी उसकी रिहाई के लिए अभियान चलाया गया। हरियाणवी भाषा में गाया एक गाना भी विशाल के समर्थन में ट्रेंड कर गया था, जिसके बोल थे तेरा हिंदू खून मार गया उबाले, तिरंगे का न होने दिया अपमान रे,। यही नहीं बल्कि विशाल ने 14 फरवरी को सिडनी में तिरंगा रैली का आयोजन किया था। इस रैली में भी दो पक्षों के बीच संघर्ष हुआ था और रैली को रोकने का प्रयास किया गया था।

विशाल की रिहाई को लेकर करनाल में हुआ प्रदर्शन

विशाल जूद के रोड समुदाय ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल के चुनाव क्षेत्र करनाल में एक प्रदर्शन कर अपने बेटे की रिहाई की मांग की थी। इसके बाद सीएम ने तत्कालीन विदेश राज्यमंत्री जयशंकर को पत्र लिखकर विशाल को जल्द से जल्द रिहा करने की मांग की थी। विदेश मंत्री ने जून 2021 में सीएम मनोहर लाल को आशवासन दिया था कि जल्द से जल्द विशाल की रिहाई करवा ली जाएगी। इसके बावजूद इस हरियाणवी लाल को आज तक भी जेल से छुड़ाया नहीं जा सका है। इस मामले को लेकर विशाल के परिवार वालों ने अपना दुख जताते हुए कहा है कि उनके बेटे को कानूनी मदद नहीं मिल पा रही है। भारतीय दूतावास के अधिकारी भी इस प्रकरण में ढिलाई बरत रहे हैं। वह केवल एक बार ही विशाल से मिलने गए थे।

विशाल के पिता ने जताया दुख

विशाल के पिता नाथीराम ने बताया कि दूतावास के अधिकारी दोबारा विशाल से मिलने तक नहीं गए हैं। जिसकी वजह से विशाल की रिहाई में देरी हो रही है। विशाल ने अपने परिवार वालों को जेल से फोन पर बताया कि उसकी जान को खतरा बना हुआ है। जेल में उसके साथ अभद्र व्यवहार किया जा रहा है और उसे ठीक तरीके से खाना भी नहीं दिया जा रहा। वहीं हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने एक बार फिर से मौजूदा विदेश एवं संस्कृति राज्यमंत्री मीनाक्षी लेखी को पत्र लिखकर कुरूक्षेत्र के युवक विशाल जूद को रिहा करवाने की मांग की है। विशाल अप्रैल 2021 से ऑस्ट्रेलिया की जेल में बंद है।

सीएम ने दोबारा विदेश मंत्री को लिखा पत्र

सीएम ने हरियाणा के बेटे को न्याय दिलवाने के लिए केंद्रीय राज्यमंत्री मीनाक्षी लेखी से उच्च प्राथमिकता के आधार पर हस्तक्षेप करने का आग्रह किया है। सीएम ने विदेश राज्यमंत्री को लिखे पत्र में कहा है कि विशाल जूद को रिहा करवाने के लिए उनके पास लगातार आवेदन प्राप्त हो रहे हैं। जिनमें बताया गया है कि विशाल जूद का एक समूह के साथ झगड़ा हो गया था, जो भारत विरोधी नारे लगाते हुए राष्ट्रीय ध्वज का अपमान कर रहे थे। विशाल ने उनका विरोध किया, जिसके एवज में उस पर झूठा मुकदमा लगाकर जेल भिजवा दिया गया। इसलिए इस प्रकरण में ऑस्ट्रेलिया स्थित भारतीय दूतावास को हस्तक्षेप करते हुए विशाल को जल्द से जल्द रिहा करवा लेना चाहिए।

- Advertisement -
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Connect With Us

223,344FansLike
3,123FollowersFollow
3,497FollowersFollow
22,356SubscribersSubscribe

Latest News

बेरोजगारों के लिए बड़ी खबर ,फरीदाबार में 26 सितंबर को लगेगा रोजगार मेला, कई बड़ी कंपनियां बाटेंगी नौकरियां

फरीदाबाद । हरियाणा कौशल विकास मिशन की परियोजना प्रबंधक अधिकारी  नेहा छाबड़ा ने बताया कि हरियाणा कौशल विकास मिशन...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -
Do NOT follow this link or you will be banned from the site!