ग्रेटर फरीदाबाद में रहने वालों की दुर्दशा, नहीं आती बिजली, अंधेरे में रहने को मजबूर, कोई सुनने वाला नहीं

0
Faridabad News (citymail news) ग्रेटर फरीदाबाद में पिछले कई दिनों से हाई टॉवर्स, फ्लैट्स और सेकटोरस में रहने वाले लोग Power cuts  से परेशान हैं। दिन में 8 घंटे लाइट जाने से लोगों के इंवर्टर भी जवाब दे दे रहे हैं। जब लाइट रहती है, तो वोल्टेज इतना कम है की एक एयर-कन्डिशनर, फ्रिज और इलेक्ट्रॉनिक आइटम फुकने की वजह से चल नहीं पा रहे हैं।
ग्रेटर फरीदाबाद में  सेक्टर 75-89 में रिहायशी घर बने हुए हैं, जिनमे एक अनुमान के अनुसार एक लाख से भी  ज्यादा लोग रह रहे हैं। यहाँ पर सबसे ज्यादा प्रोजेक्ट्स बिल्डर  bptp द्वारा बनवाए गए हैं। bptp अभी dhbvn से बल्क इलेक्ट्रिक सप्लाइ लेता है और लोगों को देता हैं।
इस सोमवार को बिजली 8:30 pm से रात के 2:00 am  तक गई (5+ घंटे) , मंगलवार को रात 10 pm से 2:30 am तक (4:30+ घंटे), बुधवार को 10:30 pm से 2:30 am (4 घंटे) रही। इसके अलावा दिन भर लाइट ओवर्लोड की वजह से आती जाती रहती है। बुधवार को इलेक्ट्रिक केबल में फॉल्ट हुई, जिससे 4 घंटे दिन में भी लाइट गई।
फ्लैट तो बेचा , सुविधा ज़ीरो  
ग्रेटर फरीदाबाद के नए सेकटरस में dhbvn डायरेक्ट सप्लाइ, और ग्रेटर फरीदाबाद के लिए कोई सब स्टेशन नहीं हैं। bptp अभी dhbvn से बल्क इलेक्ट्रिक सप्लाइ लेता है और लोगों को देता हैं, और बिल्डर  सलाना करीब Rs 4,500 का लेता है बिजली की व्यवस्था को सुचारु रूप से चलाने के लिए।
उपभोक्ताओं की समस्या के समाधान के लिए bptp की हेल्पलाइन भी है, और व्हाट्सप्प ग्रुप भी। लेकिन ये  हाथी के दिखने वाले दांत हैं — हेल्पलाइन पर कोई फोन नहीं उठता और व्हाट्सप्प ग्रुप पर bptp का जवाब नहीं आता।
लोगों ने लगाई पुलिस थाने में गुहार
ग्रेटर फरीदाबाद, e ब्लॉक – पार्क ऐलीट फ्लोर, Sec 85    के लोग कल देर शाम खेड़ी पुल थाना    पहुंचे और bptp एवं उसकी मैन्ट्नन्स कंपनी bpms के खिलाफ कम्प्लैन्ट रजिस्टर की। उन्होंने sho से ज्ञापन किया की जल्द से जल्द बिल्डर की कंपनी पर कार्यवाही करी जाए। लोगों का कहना हैं की बिल्डर समस्या का स्थायी समाधान नहीं करते, और समस्या साल दर साल, वही की वहीं है।
लोगों की परेशानी
 
ग्रेटर फरीदाबाद, L ब्लॉक – पार्क ऐलीट फ्लोर, Sec 84 के लोगों का बयान
आभा अवस्थी (45): हर आठ साल से लाखों की सोसाइटी मैन्ट्नन्स दे चुके हैं, लेकिन निर्मम bptp की सुविधा कुछ नहीं है।  मेरे फॅमिली में कोविड से मम्मी की मृत्यु हुई है। नींद तो इस सदमे से ऐसे ही नहीं आती, और बिजली नहीं रहने से जीना दूभर हो चुका हैं।
विकास पाठक (49) : ग्रेटर फरीदाबाद में बिजली की समस्या गर्मी में पिछले सात साल से बनी है। एक बार तो बिजली तीन दिन से भी ज्यादा कटी थी। ऐसा लगता है  ग्रेटर फरीदाबाद   में घर खरीदने का फैसला गलत था।
विशाल अहलुवालिया (36): रात भर लाइट काटने से सो नहीं पाता, दिन में वर्क फर्म होम के लिए लैपटॉप  मे बैटरी नहीं बचती। बिजली काटने से हमारे वर्क फर्म होम पर बहुत ज्यादा प्रभावित हो रहा है।
कुणाल रंजन (38): रात रात तक लाइट कटने पर बालकों पर बाद प्रभाव पड़  रहा है। नींद नहीं आने की वजह से वो चिड़-चिड़े हो गए हैं, और अनलाइन क्लास में भी मन नहीं लगा पा रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here