Sunday, September 19, 2021

सुप्रीम कोर्ट के सख्त आदेश, फरीदाबाद में खाली करवाया जाए वन क्षेत्र, 10 हजार घरों पर चलेगा बुलडोजर

Must Read

फरीदाबाद में वैश्य समाज के तृतीय मेगा वैक्सीनशन कैम्प में हुआ 701 का टीकाकरण

फरीदाबाद । वैश्य समाज सेक्टर 28,29,30,31द्वारा स्वास्थ्य विभाग के सहयोग से आयोजित तृतीय मेगा वैक्सीनशन कैम्प मे 701 जनों...

केंद्रीय मंत्री गुर्जर ने कहा, फरीदाबाद से आसान होगा जेवर एयरपोर्ट जाना, 119 करोड़ से बनेंगी औद्योगिक क्षेत्र की सडक़ें

फरीदाबाद,18 सितंबर। औद्योगिक क्षेत्र के अंतर्गत सेक्टर-24, 25 व 32 (डीएलएफ इंडस्ट्रीयल एरिया) में 119 करोड़ रुपये की लागत...

Faridabad News – रविंदर फागना क्रिकेट अकादमी ने आरपीसीए स्टोर को 96 रन से हराया

फरीदाबाद । रविंदर फागना क्रिकेट अकादमी मैदान पाली में प्रैक्टिस मैच खेला गया यह मैच रविंदर फागना क्रिकेट अकादमी...

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद फरीदाबाद में बड़े पैमाने पर तोडफ़ोड़ करने की तैयारी की जा सकती है। अदालत ने लकड़पुर और खोरी गांव के वन क्षेत्र में बने हुए सभी घरों को तोडऩे के आदेश जारी किए हैं। माना जा रहा है कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के चलते करीब 10 हजार मकानों पर तोडफ़ोड़ की गाज गिर सकती है। कोर्ट ने साफ तौर पर कहा है कि वन क्षेत्र को अवैध निर्माणों से मुक्त किया जाना चाहिए। इसके लिए अदालत ने जिला प्रशासन को 6 हफ्ते का समय दिया है। इसके साथ ही अदालत ने फरीदाबाद के पुलिस कमिश्नर को यह सख्त हिदायत दी है कि तोडफ़ोड़ करने वाले नगर निगम कर्मचारियों को पर्याप्त सुरक्षा उपलब्ध करवाना उनका दायित्व है। यदि इसमें किसी भी प्रकार की ढील बरती गई तो उसकी जिम्मेदारी फरीदाबाद पुलिस की होगी।

यह आदेश सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस ए एम खानविलकर और जस्टिस दिनेश माहेश्वरी की खंडपीठ ने जारी किए हैं। अदालत ने प्रशासन व सरकार को 6 हफ्ते का समय देते हुए स्पष्ट कहा है कि यदि इस आदेश की पालना नहीं की गई तो संबंधित अधिकारी इसके दोषी माने जाएंगे। अदालत ने कहा कि उनके द्वारा साल 2016 में वन क्षेत्र में बने निर्माणों को हटाने का आदेश दिया था, पंरतु पांच साल का समय बीत जाने के बावजूद भी कार्रवाई नहीं की गई है। साल 2020 में भी यही आदेश दिए गए थे, मगर प्रशासन और सरकार ने इस ओर ध्यान नहीं दिया।

वहीं नगर निगम की ओर से पेश वकील ने कर्मचारियों के लिए पर्याप्त सुरक्षा उपलब्ध करवाने की मांग की, जिससे कोर्ट ने स्वीकार कर लिया। जबकि वनक्षेत्र में रहने वाले लोगों की ओर से पेश हुए वरिष्ठ वकील कॉलिन गोंजाल्विस ने तब तक इस कार्रवार्ई को स्थगित करने की मांग की, जब तक लोगों का पुर्नवास ना हो जाए। मगर अदालत ने कहा कि 6 साल से आदेश लागू नहीं हुए, इस बीच लोगों को अपने पुर्नवास का प्रबंध कर लेना चाहिए था। मगर अब यह नीतिगत मसला है। अदालत ने साफ कहा कि इन सभी निर्माणों का हटना जरूरी है। इसलिए बेहतर होगा कि लोग स्वयं वहां से मकान खाली करके चले जाएं।

- Advertisement -
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Connect With Us

223,344FansLike
3,123FollowersFollow
3,497FollowersFollow
22,356SubscribersSubscribe

Latest News

फरीदाबाद में वैश्य समाज के तृतीय मेगा वैक्सीनशन कैम्प में हुआ 701 का टीकाकरण

फरीदाबाद । वैश्य समाज सेक्टर 28,29,30,31द्वारा स्वास्थ्य विभाग के सहयोग से आयोजित तृतीय मेगा वैक्सीनशन कैम्प मे 701 जनों...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -
Do NOT follow this link or you will be banned from the site!