मानसून की दस्तक , जानें दिल्ली-एनसीआर और हरियाणा में कब आएगी बारिश, कैसे मिलेगी गर्मी से राहत

0

New Delhi News (citymail news ) देश में अर्थव्यवस्था का हाल खस्ताहाल है. ऐसे में खेती-किसानी से ही कुछ आस है. जैसा कि ज्ञात है भारत में खरीफ की फसल पूरी तरह से मानसून पर निर्भर है और इस बार केरल में आज मानसून दस्तक दे रहा है. भारतीय मौसम विभाग  ने सूचना दी है कि 3 जून यानी आज केरल में मानसून के आगमन की उम्मीद है. हालांकि इस बार मानसून कुछ देरी से दस्तक दे रहा है. आईएमडी के मुताबिक श्रीलंका में मानसून आ चुका है. मानसून केरल में सामान्य समय से देर से पहुंच रहा है.

आईएमडी ने कहा है कि 1 जून से दक्षिण-पश्चिमी हवाओं में जैस-जैसे मजबूती आएगी केरल में केरल में बारिश की फुहारें वैसे-वैसे तेज होगी. IMD के निदेशक एम मोहापात्रा ने बताया, केरल में बारिश शुरू हो चुकी है लेकिन हम मानसून आगमन के बारे में तब तक घोषणा नहीं कर सकते जब तक सभी मानदंड पूरे नहीं हो जाते. अगले कुछ दिनों में इसके पूरा होने की संभावना है. भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने बुधवार को बताया कि केरल में स्थानिक वर्षा वितरण में वृद्धि हुई है और दक्षिण अरब सागर के निचले स्तरों में पछुआ हवाएं चल रही हैं. उपग्रह से हासिल तस्वीरों के अनुसार, केरल तट और उससे सटे दक्षिण-पूर्वी अरब सागर में बादल छाए हुए हैं.

मौसम विभाग ने हालांकि अब तक विस्तृत अनुमान के बारे में जानकारी नहीं दिया है लेकिन संभावना जताया है कि मानसून केरल में दस्तक देने के बाद आगे बढ़ेगा. 11 जून को महाराष्ट्र व तेलंगाना में मानसून आने की संभावना है. 12 जून को पश्चिम बंगाल और 13 जून को ओडिशा में मानसून पहुंच सकता है. इसके बाद मानसून झारखंड और बिहार की ओर रुख करेगा. झारखंड में 14 जून को मानसून आने के आसार है. वहीं 16 जून को मानसून बिहार और छत्तीसगढ़ में प्रवेश करेगा. मौसम विभाग के अनुमान के मुताबिक 20 जून को मानसून उत्तराखंड और मध्य प्रदेश में दस्तक देगा.

उत्तर प्रदेश में इस बार 23 जून को मानसून आने की संभावना है. 26 जून को मानसून गुजरात पहुंच सकता है. इस बार राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली और हरियाणा में 27 जून को मानसून आने की संभावना है. दिल्ली के बाद मानसून का रुख पंजाब की ओर होगा. यहां 28 मई तक आने की संभावना व्यक्त की जा रही है. अंत में 29 जून को मानसून राजस्थान पहुंच सकता है.

आईएमडी ने कहा, केरल में अगले 24 घंटे में बारिश के और बढ़ने से स्थिति के मानसून के अधिक अनुकूल होने का पूर्वानुमान है. केरल में आमतौर पर मानसून एक जून को पहुंचता है. आईएमडी ने इससे पहले मानसून के यहां 31 मई या इससे चार दिन अधिक या पहले पहुंचने का अनुमान लगाया था, लेकिन 30 मई को उसने कहा था कि केरल मे अभी मानसून आने की स्थिति नहीं बनी है. आईएमडी के अनुसार, मानसून के इस साल सामान्य रहने का अनुमान है. हालांकि वेदर एजेंसी स्काईमेट के मुताबिक, पूरे भारत में मानसून के 4 महीनों के दौरान औसत 880.6 मिलीमीटर बारिश होती है, जिसे लॉन्ग पीरियड एवरेज कहते हैं. यानी 880.6 मिलीमीटर बारिश को 100 प्रतिशत माना जाता है. इस साल 907 मिलीमीटर बारिश होने की संभावना है.

साभार: एबीपी न्यूज

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here