बाबा रामदेव की कोरोना दवा खरीदने पर कांग्रेस नेता अनीशपाल ने सरकार को कठघरे में खड़ाकर दिखाया आईना

0

फरीदाबाद। हरियाणा सरकार द्वारा पतंजलि की कोरोनिल किट को खरीदने पर राज्य भर में विवाद बढ़ता ही जा रहा है। इंडियन मेडीकल एसोसिएशन ने इसका कड़ा विरोध जाहिर किया है, वहीं कांग्रेस ने भी इस मुददे पर सरकार को घेर लिया है। फरीदाबाद के वरिष्ठ कांग्रेस नेता अनीशपाल ने सरकार को कठघरे में खड़ा करते हुए स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज को एक टवीट भेजकर अपनी नाराजगी जाहिर की है।

अनीशपाल ने कहा है कि बाबा रामदेव की पतंजलि वैसे तो दावा करती है कि वह लोगों को मिलावट के जहर से बचाने के लिए सस्ते दर पर सामान बेचती हैं। ऐसे में वह कोरोना की किट को भी लोगों को निशुल्क उपलब्ध करवा सकते हैं। इसके लिए हरियाणा सरकार से ना तो उन्हें इसके दाम लेने चाहिएं और ना ही राज्य सरकार को इसकी कीमत चुकानी चाहिए। बाबा रामदेव की यह संस्था कोई व्यापारिक संगठन नहीं है, बल्कि वह तो समाजसेवा में रहकर लोगों के अनुदान से अपने ट्रस्ट को संचालित कर रहे हैं। ऐसे में उन्हें लोगों तक कोरोना की यह आयुर्वेदिक दवा निशुल्क पहुंचानी चाहिए।

कांग्रेस नेता अनीशपाल ने स्वास्थ्य मंत्री को भेजे टवीट के जरिए सरकार को आईना दिखाने का शानदार प्रयास किया है। उन्होंने मंत्री अनिल विज को बताया है कि वह अपने स्तर पर अपने सहयोगियों के साथ फरीदाबाद शहर के 30 हजार परिवारों के करीब डेढ लाख सदस्यों तक निशुल्क रूप से इम्युनिटी बूस्टर की दवा पहुंचा चुके हैं। अनीशपाल ने कहा कि जब उन जैसा एक छोटा सा व्यक्ति इतने बड़े पैमानेे पर लोगों को निशुल्क लोगों को दवा पहुंचा सकते हैं तो रामदेव क्यों नहीं दे सकते। उनके ट्रस्ट के पास तो हजारों करोड़ रुपए हैं। एक करोड़ रुपए की कोरोनिल किट देकर वह राष्ट्र की सेवा क्यों नहीं कर सकते। इसलिए उनकी मांग है कि बाबा रामदेव को कोरोनिल दवा की कीमत का भुगतान ना किया जाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here