पुलिस रिमांड में मना पहलवान सुशील का जन्मदिन, घटना को याद कर बच्चों की तरह रोने लगा, मकोका लगाने की तैयारी

0
Susil Kumar

New Delhi । देश के लिए दो बार ओलंपिक पदक जीतने वाला पहलवान सुशील आज 38 साल का हो गया। अपने जन्मदिन के मौके पर वह पुलिस रिमांड में है। इस मौके पर सुशील पुलिस के सामने ही अपने परिवार को याद कर भावुक हो गया और बच्चों की तरह रोने लगा। हत्या के मामले में पुलिस उसके खिलाफ मकोका के तहत एक्शन लेने पर भी विचार कर रही है। इसके लिए पुलिस कानूनी सलाह ले रही है। इधर पुलिस के हाथ नीरज बवाना गैंग के 4 सदस्य लगे हैं और इसके साथ ही पुलिस ने काला जठेड़ी गैंग पर मकोका लगा दिया है।

जानकारी के अनुसार, ओलंपिक पदक विजेता एवं हत्या के आरोपी सुशील पहलवान का जन्म 26 मई 1983 को हुआ था। वह प्रत्येक वर्ष अपना जन्मदिन परिवार के सदस्यों के साथ मनाता था, लेकिन इस बार उसका जन्मदिन पुलिस रिमांड में बीत रहा है। पुलिस सूत्रों ने बताया कि अपने जन्मदिन के मौके पर वह परिवार के सदस्यों को याद कर भावुक हो गया। उसकी आंखों से आंसू निकल आये। उसने पुलिस को बताया कि वह अपना जन्मदिन धूमधाम से नहीं बल्कि अपने परिवार के सदस्यों के साथ मनाता था, लेकिन इस बार वह अपने परिवार के सदस्यों को देख भी नहीं सकता है।
पुलिस हिरासत में चल रही सुशील से पूछताछ में कई महत्त्वपूर्ण खुलासे हुए हैं। यह साफ हो गया है कि नीरज बवाना और आसौदा गैंग से उसके संबंध थे।

रोहिणी जिला पुलिस ने भी हत्या के इस मामले में जिन आरोपियों को गिरफ्तार किया है, वह नीरज और असोदा गैंग के सदस्य हैं। ऐसे में दिल्ली पुलिस को लग रहा है कि सुशील इनके साथ मिलकर संगठित तौर पर अपराध कर रहा था। इसके चलते पुलिस सुशील पर मकोका लगाने पर विचार कर रही है। दरअसल नीरज बवाना एवं उसके गैंग के कई सदस्यों पर मकोका लगा हुआ है। ऐसे में पुलिस कानूनी सलाह ले रही है कि उस मामले में क्या सुशील की गिरफ्तारी हो सकती है। सूत्रों का कहना है कि कानूनी एक्सपर्ट की सलाह पर ही मकोका को लेकर निर्णय लिया जाएगा।

दिल्ली पुलिस ने नीरज बवाना गैंग के चार बदमाशों को गिरफ्तार किया है। चारों बदमाश 4-5 मई की रात छत्रसाल स्टेडियम में ब्रेदा और स्कॉर्पियो गाड़ी में सवार होकर वारदात की रात पहुंचे थे। सूचना मिलने के बाद चारों बदमाशों को पुलिस ने घेरकर गांव से गिरफ्तार कर लिया है। दिल्ली पुलिस की जांच में यह बात सामने आई थी कि उस रात को ओलंपियन सुशील कुमार ने नीरज बवाना गैंग के सदस्यों को बुलाया हुआ था। इसके बाद इन्होंने सागर धनकड़ और उसके साथी सोनू महाल की छत्रसाल स्टेडियम के अंदर जमकर पिटाई की।

दिल्ली पुलिस ने इस बीच कार्रवाई करते हुए काला जठेड़ी गैंग पर भी मकोका लगा दिया है। काला जठेड़ी विदेश में बैठकर अपना गैंग चला रहा है। यहां उसके गुर्गे दिल्ली पंजाब हरियाणा राजस्थान, उत्तर प्रदेश में हत्या लूट और एक्सटॉर्शन जैसी वारदातों को अंजाम दे रहे हैं। पुलिस सूत्रों के मुताबिक काला जठेड़ी विवादित जमीनों में डील करता है और फिर उन जमीनों से कब्जे छुड़वा कर कमीशन का खेल खेलता है। ऐसा माना जाता है कि काला जठेड़ी के गैंग में करीब 500 गुर्गे है। फिलहाल काला जठेड़ी राजस्थान के कुख्यात लॉरेंस बिश्नोई गैंग की भी कमान संभाले हुए है।

जेल में बंद गैंग्स्टर लॉरेंस बिश्नोई को दिल्ली पुलिस ने रिमांड पर लिया है। काला जठेड़ी को लेकर पूछताछ करेगी। दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने लॉरेंस बिश्नोई, संपत नेहरा और 2 अन्य बदमाशों को सागर मर्डर केस में पूछताछ के लिए रिमांड पर लिया है। ये सभी गैंगस्टर दिल्ली राजस्थान और हरियाणा की अलग-अलग जेल में बंद थे. दिल्ली पुलिस इनसे काला जठेड़ी गैंग और सागर धनखड हत्या कांड में पूछताछ करेगी।

बता दें मकोका है क्या तो महाराष्ट्र सरकार ने 1999 में मकोका (महाराष्ट्र कंट्रोल ऑफ ऑर्गेनाइज्ड क्राइम एक्ट) बनाया था। इसके तहत संगठित अपराध जैसे अंडरवर्ल्ड से जुड़े अपराधी, जबरन वसूली, फिरौती के लिए अपहरण, हत्या या हत्या की कोशिश, धमकी, उगाही सहित ऐसा कोई भी गैरकानूनी काम जिससे बड़े पैमाने पर पैसे बनाए जाते हैं जैसे मामले शामिल हैं। दिल्ली में भी ये एक्ट लागू है।

पुलिस अधिकारियों का कहना है कि उनकी जांच काफी तेजी से आगे जा रही है। मंगलवार को सुशील एवं एफएसएल की टीम के साथ वह छत्रसाल स्टेडियम गए थे, जहां पूरे घटना का रिक्रिएशन किया गया। इसके अलावा हत्याकांड में अभी तक कुल सात आरोपी गिरफ्तार हो गए हैं। उनके पास पिटाई का वीडियो एवं उसकी एफएसएल रिपोर्ट है जो सुशील का अपराध साबित करने के लिए महत्वपूर्ण साक्ष्य हैं। इसके अलावा अन्य टेक्निकल साक्ष्य भी पुलिस ने जुटा लिए हैं।

साभार: गरिमा टाईम्स

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here