मौसम में भारी बदलाव, दिल्ली-एनसीआर और हरियाणा में गर्मी का प्रकोप, जानें कब मिलेगी राहत

0

New Delhi । टॉक्टे तूफान के चलते हुई बारिश से दिल्ली-एनसीआर और हरियाणा के लोगों को मिली राहत में कमी आती नजर आ रही है। बुधवार सुबह-सुबह लोगों का तेज धूप और गर्मी के साथ सामना हुआ, दोपह होते-होते भारी पड़ने लगा। दोपहर होते ही तेज धूप जारी है। वहीं, भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के मुताबिक, अगले 24 घंटों में अधिकतम तापमान 40 डिग्री सेल्सियस एवं न्यूनतम तापमान 24 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया जाएगा। दो दिनों तक गर्मी अधिक होने के बाद तापमान फिर दो डिग्री सेल्सियस तक कम हो सकता है। मौसम विभाग का यह भी कहना है कि दिल्ली-एनसीआर में अगले दो दिन आसमान साफ रहेगा और गर्मी के तेवर तल्ख रहेंगे। इस दौरान अधिकतम तापमान 40 डिग्री सेल्सियस तक पहुंचेगा। दिन के साथ-साथ रात में भी गर्मी बढ़ेगी। हवा की रफ्तार कम होने के साथ मौसम पूरी तरह से शुष्क रहेगा। इसके बाद शुक्रवार से मौसम फिर करवट लेगा और सूरज के साथ बादलों की लुकाछिपी जारी रहेगी।

मौसम विभाग के मुताबिक मंगलवार को दिल्ली का अधिकतम तापमान सामान्य से एक डिग्री अधिक 39.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। न्यूनतम तापमान सामान्य से चार डिग्री कम 23 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। हवा में नमी का स्तर 19 से 67 फीसद रहा। दिल्ली के विभिन्न इलाकों की बात करें तो कुछ जगहों पर तापमान 39 से 40 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। पालम में अधिकतम तापमान 39.9 डिग्री सेल्सियस, लोदी रोड में 39, आया नगर में 38.8, गुरुग्राम में 38.7, जाफरपुर में 39.2 डिग्री सेल्सियस, मुंगेशपुर में 40.1, नजफगढ़ में 41.1 डिग्री सेल्सियस व पूसा में 40.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) द्वारा जारी एयर क्वालिटी इंडेक्स के अनुसार राजस्थान की धूल भरी हवाओं के बाद खराब श्रेणी में पहुंची एनसीआर की हवा मंगलवार को फिर से मध्यम श्रेणी में आ गई है। अगले तीन दिनों तक दक्षिण-पश्चिम दिशा की ओर से हवा जारी रहेगी। इससे हवा का स्तर इसी श्रेणी में बना रहेगा।  धूल भरे कण अभी हवा में मौजूद हैं। इसका प्रमुख कारण पीएम 10 के स्तर को बताया जा रहा है। अगले तीन दिनों तक हवा यथावत बनी रहेगी। इसके बाद इसमें बदलाव हो सकता है। पिछले 24 घंटों में हवा में पीएम 10 का स्तर 143 माइक्रोग्राम प्रतिघन मीटर व पीएम 2.5 का स्तर 44 माइक्रोग्राम प्रतिघन मीटर दर्ज किया गया।

साभार: जागरण

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here