ऑक्सीजन के संकट से ऐसे निपटेगी सरकार, हरियाणा के 8 जिलों में लगाए जाएंगे प्लांट

0

Chandigarh News (citymail news)  हरियाणा सरकार ने काेरोना के संक्रमण के पीक के दौरान आक्‍सीजन के लिए मची मारामारी से सबक लिया है। सरकार ने राज्‍य में काफी हद तक आक्सीजन की समस्या पर पार पा लिया है, लेकिन वह भविष्‍य के लिए तैयारी में जुट गई है। हरियाणाा सरकार राज्य में केंद्र सरकार के सहयोग से आठ जिलों में आक्‍सीजन के पीएसए प्‍लांट ( Pressure Swing Absorption Plant)  स्थापित करेगी।

पीएसए (प्रेशर स्विंग एब्‍सार्पशन) प्लांट में हवा से ही आक्सीजन बनाने की अनूठी तकनीक होती है। इसमें एक चैंबर में कुछ सोखने वाले रासायनिक तत्व डालकर उसमें हवा को गुजारा जाता है! इसके बाद हवा का नाइट्रोजन सोखने वाले तत्वों से चिपककर अलग हो जाता है और

रियाण के गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने सोमवार को बताया कि पीएसए आक्सीजन प्लांट बनाने की एजेंसी डीआरडीओ रहेगी। इन प्लांट को 30 जून तक आरंभ कर दिए जाने का लक्ष्य रखा गया है। बहुत कम रकम में हर बड़े अस्पताल में कैप्टिव पीएसए आक्सीजन प्लांट लगाया जा सकता है।

उन्‍होंने कहा कि इनके बारे में पहले न तो निजी अस्पतालों ने सोचा और न ही औद्योगिक घरानों ने कोई जरूरत महसूस की। ऐसे एक प्लांट लगाने में जितनी लागत आती है, करीब उतनी रकम कई अस्पताल हर साल आक्सीजन खरीदने में खर्च कर देते हैं।

से प्लांट लगाने का खर्च 40 लाख रुपये से लेकर 1.25 करोड़ रुपये तक हो सकता है यानी इसे हर जिला अस्पताल या किसी भी बड़े निजी अस्पताल में आसानी से लगाया जा सकता है। इस तरह के प्लांट में प्रेशर स्विंग एड्जार्ब्शन (पीएसए) टेक्नोलाजी का इस्तेमाल किया जाता है। यह इस सिद्धांत पर काम करता है कि उच्च दबाव में गैस सालिड सरफेस की तरफ आकर्षित हो।

अनिल विज के अनुसार इन प्लांटों के लगने से 6210 बेड पर आक्सीजन की आपूर्ति कराने में सहायता मिलेगी। इनमें सरकारी सहायता प्राप्त हिसार के अग्रोहा के महाराज अग्रसेन मेडिकल कालेज अग्रोहा में 550 बिस्तरों की क्षमता होगी। मिलिट्री अस्पताल (एमएच) अंबाला में 550 बिस्तर, एम्स झज्जर में 750 बिस्तर, करनाल के कल्पना चावला राजकीय मेडिकल कालेज में 550 बिस्तर, नल्‍हड़ के एसएचकेएम राजकीय मेडिकल कालेज में 652 बिस्तर, पंचकूला के वेस्टर्न कमांड चंडी मंदिर अस्‍पताल में 658 बिस्तर, रोहतक पीजीआइएमएस में 2000 बिस्तर तथा सोनीपत के खानपुर कलां के बीपीएस राजकीय मेडिकल कालेज में 500 बिस्तरों

निल विज ने बताया कि हरियाणा सरकार द्वारा इन प्लांटस के निर्माण के लिए अस्पतालों में स्थानों का चयन तथा बिजली की आपूर्ति करवाई जाएगी। इसके साथ ही बिजली के बाधित होने की स्थिति में जेनरेटर सेट लगाए जाएंगे, जो कि 24 घंटे बिजली का बैकअप दे सकेंगे। इसके अतिरिक्त प्लांट से आक्सीजन पाइप लाइन की व्यवस्था की जाएगी। इसके लिए सरकार द्वारा दो तकनीकी कर्मचारियों को जिम्मेदारी दी जाएगी, जिन्हें आनलाइन प्रशिक्षण भी दिया जाएगा। इसके अलावा सभी अस्पतालों में एक-एक नोडल अधिकारी भी लगाया जाएगा, जो कि पूरी व्यवस्था की देखरेख करेगा।

साभार- जागरण

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here