फरीदाबाद के सनफ्लैग अस्पताल को बेचने का विरोध, SRS के जिंदल की बर्बादी में इस अस्पताल की भूमिका रही

0
कैप्शन: वर्तमान में यह अस्पताल पूरी तरह से खंडहर में तब्दील हो चुका है

फरीदाबाद। पिछले कई सालों से खंडहर में तब्दील हो चुके सैक्टर 16 के सनफ्लैग अस्पताल को प्राईवेट हाथों में देने की तैयारी की जा रही है। शहर में जैसे ही यह खबर सोशल मीडिया के माध्यम से सभी के सामने आई तो इस पर हो-हल्ला शुरू हो गया है। सामाजिक क्षेत्र में कार्य कर रहे लोगों ने इसका विरोध शुरू कर दिया है। बताया गया है कि इस अस्पताल को प्राईवेट हाथों में देने के लिए कई अस्पताल मालिकों ने एचएसवीपी को आवेदन भी दिया है। माना जा रहा है कि इस अस्पताल को जल्द ही प्राईवेट हाथों में दिया जा सकता है।

एसआरएस ने किया था इसका अधिग्रहण

बता दें कि सनफ्लैग अस्पताल को एसआरएस कंपनी के अनिल जिदंल ने खरीद लिया था। इस अस्पताल को खरीदने के बाद से ही अनिल जिंदल के बुरे दिन शुरू हो गए थे। सनफ्लैग अस्पताल को जिंदल के लिए अशुभ माने जाने लगा था। इस अस्पताल का अधिग्रहण करने के बाद से ही जिदंल का अर्श से फर्श पर वापिस आने का दौर शुरू हो गया था। अस्पताल में काम करने वालों ने भी वेतन और अन्य मांगों को लेकर जिंदल के खिलाफ मोर्चा खोल दिया। वहीं जिंदल का पूरा साम्राज्य भी ध्वस्त होने लगा। जिसके बाद एचएसवीपी ने सनफ्लैग अस्पताल को रिज्यूम कर लिया। तभी से यह अस्पताल खंडहर में तब्दील हो गया है और पूरा अस्पताल भूतिया बन गया है। वहीं अनिल जिंदल फिलहाल नीमका जेल में बंद हैं और बुरे दिनों का सामना कर रहे हैं।

वरूण, अनीश और प्रवेश ने किया विरोध

सामाजिक कार्यकर्ता वरूण श्योकंद ने सनफ्लैग अस्पताल को बेचने का विरोध किया है। उन्होंने कहा कि कुछ अन्य अस्पताल मालिक सनफ्लैग को खरीदने की जुगत लगा रहे हैं। वरूण ने इस मामले को सोशल मीडिया पर सार्वजनिक कर उसका विरोध जताया है। श्योकंद ने हरियाणा सरकार से मांग की है कि इस अस्पताल को प्राईवेट हाथों में सौंपने की बजाए डीआरडीओ को दे दिया जाए। ताकि उसे कोविड अस्पताल के तौर पर बनाया जा सके। वहीं सामाजिक कार्यकर्ता अनीशपाल ने भी सनफ्लैग अस्पताल को निजी हाथों में देने का विरोध जताया है। अनीशपाल ने कहा है कि इस अस्पताल को कोविड सेंटर के तौर पर स्थापित कर सरकार इसका संचालन अपने हाथों में ले। इस आपदा को किसी भी प्राईवेट संस्थानों के लिए अवसर नहीं बनने देना चाहिए। वहीं मिशन जाग्रति संस्था ने सनफ्लैग अस्पताल के संचालन की जिम्मेदारी अपने हाथों में लेने को लेकर सरकार को पत्र लिखा है। मिशन जाग्रति के अध्यक्ष प्रवेश मलिक ने कहा कि वह इस अस्पताल को कोविड सेंटर के तौर पर संभालने के लिए पूरी तरह से तैयार है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here