सर्वे में सामने आई बड़ी खबर, आईआईटी प्रोफेसर ने किया दावा, इस दिन से थमने लगेगा कोरोना

देश में कोरोना के आंतक ने भारी तबाही मचाई हुई है। लगातार लोगों की जान जानें की खबरें आ रही हैं। ऐसे में आईआईटी प्रोफेसर का दावा बेहद ही सुखद है। कोरोना के ढलान पर जाने को लेकर उन्होंने यह दावा किया है।

0
- Advertisement -

कानपुर। देश में कोरोना की खतरनाक लहर के बीच एक सुखद खबर भी आ रही है। कहा जा रहा है कि मई महीने के पहले सप्ताह में कोरोना की खतरनाक लहर शांत होने लगेगी। आईआईटी कानपुर के एक प्रोफेसर ने अपनी गहन रिसर्च के बाद यह दावा किया है। आप भी जानिए किस आधार पर प्रोफेसर इस बात का दावा कर रहे हैं। उनका यह भी कहना है कि कोरोना ने देश में जितना भी कहर ढहाना था, वह ढहा चुका है। अब इसके शांत होने का समय आ गया है।

मई से मिलने लगेगी राहत

संभावना है कि अब देशवासियों को कोरोना के कहर से राहत महसूस होने लगेगी। बता दें कि इस समय कोरोना का पीक इतनी ऊंचाई पर है कि वह किसी को भी बख्शने के मूड में नहीं है। जो भी उसकी चपेट में आ रहा है, वह उसे अपनी आगोश में ले रहा है। कोरोना के हर रोज तीन लाख से भी अधिक नए केस आ रहे हैं। लोगों की जान जानें का सिलसिला भी थमने का नाम नहीं ले रहा है। अस्पताल कम पड़ गए हैं और ऑक्सीजन और वेंटीलेटर की सुविधा भी लोगों का नहीं मिल पा रही है। ऐसे में आईआईटी के प्रोफेसर मुनिंद्र अग्रवाल का दावा लोगों को राहत प्रदान करने वाला है।

प्रोफेसर मुनिंद्र अग्रवाल ने किया है ये दावा

प्रोफेसर मुनिंद्र अग्रवाल ने दावा किया है उन्होंने इस पर पूरी रिसर्च कर ली है। पीक पर पहुंचने के बाद मई के पहले सप्ताह में इसके ढलान पर आने की पूरी उम्मीद है। बता दें कि प्रोफेसर अग्रवाल सरकार की ओर से कोरोना पर रिसर्च एवं रोकथाम के उपाय बताने वाली टीम के सदस्य भी हैं। उन्होंने अपनी टीम के साथ इस रिसर्च पर खासी मेहनत की है। उनका मानना है कि मई से ढलान पर आते ही जून में लोगों को इससे काफी राहत मिल जाएगी। उन्होंने यह भी कहा है कि देश में कोरोना के केसों का आंकड़ा प्रतिदिन चार लाख तक ही जा सकता है और उत्तर प्रदेश में यह आंकड़ा अधिकतम पचास हजार प्रतिदिन है। इसी तरह से दिल्ली में भी अब कोरोना के ज्यादा मामले नहीं बढ़ेंगे।

इन राज्यों में रहेगा कोरोना का असर

प्रोफेसर मुनिंद्र अग्रवाल ने यह भी कहा है कि फिलहाल पश्चिम बंगाल में चुनावों की वजह से कोरोना के मामले बढ़ सकते हैं। यही स्थिति उत्तर प्रदेश में पंचायत चुनावों की वजह से रह सकती है। बिहार को लेकर भी उन्होंने अपनी राय व्यक्त करते हुए कहा है कि वहां भी अभी मामले बढऩे की नौबत रहेगी। मगर उनकी रिसर्च के अनुसार अब कोरोना का थमने का समय आ चुका है। पंरतु इसमें पूरी तरह से राहत मई और जून में ही मिलने की संभावना है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here