गृहमंत्री अनिल विज ने फिर कहा, हरियाणा में नहीं लगेगा लॉकडाऊन, प्राईवेट अस्पतालों की मनमानी से लोग दुखी

0
Anil Vij
- Advertisement -

Chandigarh News (citymail news ) हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज ने अपने प्रदेश में कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच कहा है कि 70 प्रतिशत से भी अधिक कोरोना पेशेंट दिल्ली और आसपास के राज्यों से हैं। गृहमंत्री ने कहा कि उन्होंने हरियाणा के सभी पोस्ट ग्रेजुएट और एमबीबीएस के सीनियर स्टुडेंट को आदेश जारी किए हैं कि वह इसमें सरकार की मदद करें।

गृहमंत्री ने जारी किया है यह बयान

गृहमंत्री अनिल विज ने एक बार फिर से बयान जारी कर कहा है कि हरियाणा में लॉकडाऊन लगाने की योजना नहीं है। सरकार केवल सख्ती से कोरोना पर नियंत्रण कर रही है। उन्होंने यह भी कहा कि 1 मई से 18 साल से अधिक उम्र के युवाओं को वैक्सीन देने की पूरी तैयारी कर ली गई है। जैसे ही प्रदेश में वैक्सीन आ जाती है, सरकार यह काम शुरू कर देगी। उन्हें उम्मीद है कि समय पर वैक्सीन आ जाएगी।

हरियाणा में तेजी से बढ़ रहे हैं केस

विज के इस बयान के बाद एक बार फिर से सरकार की लॉकडाऊन को लेकर मंशा सार्वजनिक हो गई है। हालांकि दूसरी ओर प्रदेश में कोरोना के केस इतनी रफ्तार से बढ़ रहे हैं कि राज्य भर में अस्पताल और वैक्सीन का टोटा पड़ गया है। फरीदाबाद जिले के सबसे बड़े और आधुनिक कोविड सेंटर में भी बैड समाप्त हो गए हैं। फरीदाबाद के एनआईटी क्षेत्र में स्थित ईएसआई कोविड सेंटर ने सार्वजनिक रूप से यह सूचना अस्पताल के मुख्य गेट पर चस्पा भी कर दी है। इसके अलावा प्रदेश भर में निजी अस्पतालों ने भी अपने यहां बैड और ऑक्सीजन की कमी का रोना शुरू कर दिया है।

कुछ और ही है सरकार का दावा

वहीं प्रदेश सरकार लगातार कह रही है कि हरियाणा में चिकित्सा सुविधा और ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं है। सरकार दवाओं की ब्लैक करने वालों पर छापेमारी कर रही है। सीएम ने कई बार बयान जारी कर कहा है कि वह इस आपात स्थिति में अपने प्रदेश के लोगों को कोई परेशानी नहीं होने देंगे। पंरतु दूसरी ओर जमीन पर हकीकत कुछ और ही है। लोगों को अस्पतालों में चक्कर काटने पड़ रहे हैं। ऑक्सीजन के संकट में लोगों की जान जा रही है।

समाजसेवी अनीशपाल ने कहा सब गोलमाल है

समाजसेवी अनीशपाल ने कहा है कि अस्पतालों में बड़े पैमाने पर गोलमाल हो रहा है। अस्पताल में जानबूझकर हर किसी मरीज को भर्ती नहीं किया जा रहा। ये प्राईवेट अस्पताल बड़ी और दिल्ली जैसे राज्यों के मालदार मरीजों को भर्ती कर रहे हैं। ताकि उनसे लाखों रुपए वसूल कर चुके हैं, यही नहीं बल्कि बहुत से अस्पताल ऑक्सीजन और दवाओं को भी खेल कर रहे हैं। कहने को तो सरकार इन पर अंकुश लगाने के लिए अधिकारियों की एक कमेटी भी बना चुकी है। मगर लोगों को इस कमेटी पर ही विश्वास नहीं हो रहा। इसलिए सरकार को ऐसी निष्पक्ष और निडर अधिकारियों को यह जिम्मेदारी सौंपनी चाहिए। अनीशपाल ने सरकार से यह भी मांग की है कि ऑक्सीजन सिलेंडर को लोग अपने घरों में बेवजह जमा करके रख रहे हैं। इससे भी बाजार में ऑक्सीजन की कमी हो गई है। ऐसे लोगों पर भी नजरें रखी जानी चाहिएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here