फरीदाबाद में कहर बनकर बरप रहा है कोरोना, ESI कोविड सेंटर में भी मरीजों की एंट्री बंद, खत्म हुए बैड

0
- Advertisement -

फरीदाबाद में कोरोना का विस्तार इतनी तेजी से हो रहा है कि अब प्राईवेट के साथ साथ जिले के सबसे बड़े कोविड सेंटर ईएसआई ने भी अपने हाथ खड़े कर दिए हैं। एनआईटी नंबर-3 स्थित मेडीकल कॉलेज एवं ईएसआई अस्पताल में जिले का सबसे बड़ा कोविड सेंटर स्थापित किया गया है। इसमें काफी संख्या में कोरोना मरीजों के ईलाज की सुविधा उपलब्ध करवाई गई है।

मरीजों की एंट्री की गई बंद

पंरतु जिस रफ्तार से फरीदाबाद में कोरोना के केस आ रहे हैं, उसे देखते हुए जहां जिले के प्राईवेट अस्पताल बैड ना होने की वजह से मरीजों को प्रवेश नहीं दे रहे, वहीं अब सरकारी कोविड सेंटर ईएसआई ने भी बकायदा एक सूचना लगाकर अपने हाथ खड़े कर दिए हैं। इससे सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है कि फरीदाबाद में कोरोना का कहर किस तेजी से बरप रहा है।

कोविड सेंटर ने लगाया नो एंट्री को बोर्ड

ईएसआई मेडीकल सेंटर ने वीरवार को अपने मेन गेट पर एक सूचना लगाई है। जिसमें कहा गया है कि हम क्षमा प्रार्थी हैं, आईसीयू बेड एवं ऑक्सीजन बेड आज की तारीख में उपलब्ध नहीं हैं। असुविधा के लिए खेद है। यह सूचना कोविड सेंटर के प्रशासन की तरफ से जारी की गई है। इसके बाद अब आप आसानी से समझ सकते हैं कि जिले में कोरोना किस तरह से कहर बनकर टूट पड़ा है।

रखें अपनों का ख्याल

इसलिए आप सभी से अपील है कि खुद का और अपनों का ध्यान रखें। स्थिति बेहद ही विकट रूप धारण कर चुकी है। मास्क और सोशल डिस्टेंस की पालना करना बेहद जरूरी हो गया है। कोरोना मरीज भी ठीक होने के बाद अपने घरों से ना निकलें। अन्यथा वह ना केवल दोबारा वायरस की चपेट में आ सकते हैं, बल्कि अन्य लोगों के लिए भी खतरा बन सकते हैं। अब बीमार होने पर शायद ही लोगों को मेडीकल हेल्प मिल पाए।

जानिए क्या कहते हैं डीन डा. असीम

इस बारे में मेडीकल कॉलेज के डीन डा. असीम दास का कहना है कि उनके पास कुल 400 बैड हैं। इनमें से 350 पूरी तरह से फुल हैं। 90 मरीज आईसीयू में भर्ती हैं तथा उनके पास ऑक्सीजन वाले बैड और आईसीयू भर्ती करने के लिए जगह नहीं बची है। फिलहाल 50 बैड उनके पास खाली हैं। मगर वह ऐसे मरीजों केे लिए हैं, जिन्हें ऑक्सीजन की जरूरत नहीं है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here