MCF में मचा घमासान, ज्वाइंट कमिश्नर ने तोडफ़ोड़ के SDO और B I को हटाया, अधिकारियों ने कहा, उन्हें पावर ही नहीं

0
- Advertisement -

Faridabad News (citymail news ) नगर निगम फरीदाबाद के ज्वाइंट कमिश्नर प्रशांत कुमार अटकान ने तोडफ़ोड़ विभाग के दो अधिकारियों को उनकी पोस्ट से हटा दिया है। शुक्रवार को एक आदेश जारी कर प्रशांत ने दोनों अधिकारियों एसडीओ जीतराम और बीआई सुमेर सिंह को रिलिव कर दिया। हालांकि दूसरी ओर दोनों अधिकारियों ने ज्वाइंट कमिश्नर के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। एसडीओ जीतराम ने सीधे तौर पर कहा कि ज्वाइंट कमिश्नर को रिलिव करने की पावर ही नहीं है। उन्होंने ज्वाइंट कमिश्नर पर ही कई गंभीर आरोप भी लगाए दिए।

इस फार्म हाऊस को लेकर मचा है घमासान

बता दें कि ज्वाइंट कमिश्नर प्रशांत कुमार अटकान ने सूरजकुंड रोड पर के.के. उज्जवला फार्म हाऊस के बिल्कुल साथ लगते एक अन्य फार्म हाऊस पर अवैध निर्माण के मामले में एसडीओ जीतराम और बिल्डिंग इंस्पैक्टर सुमेर सिंह को कार्रवाई करने के आदेश दिए थे। बीते वीरवार को दोनों अधिकारी बुलडोजर लेकर कार्रवाई करने केे लिए गए। एसडीओ जीतराम का कहना है कि फार्म हाऊस मालिक ने उन्हें अदालत के स्टे आर्डर की कॉपी दिखा दी। इसके बाद वह वहां से बिना कार्रवाई किए वापिस आ गए।

ज्वाइंट कमिश्नर पर लगाए आरोप

एसडीओ जीतराम के अनुसार इससे नाराज होकर ज्वाइंट कमिश्नर ने तोडफ़ोड़ विभाग से उन्हें और बिल्डिंग इंस्पेक्टर सुमेर सिंह को हटाने के आदेश जारी कर दिए। जीतराम ने सिटीमेल न्यूज को बताया कि यह पावर केवल कमिश्नर के पास है। उन्होंने ज्वाइंट कमिश्नर पर कई आर्थिक हित साधने के आरोप भी लगाए। जीतराम ने कहा कि उनसे जबरन ऐसे काम करवाए जाते हैं, जिसे वह खुलकर बता सकते हैं। एसडीओ ने सीधे तौर पर ज्वाइंट कमिश्नर पर अनेक गंभीर आरोप भी लगाए।

अटकान ने कहा कोई स्टे आर्डर नहीं हैं

वहीं दूसरी ओर ज्वाइंट कमिश्नर ने कहा कि यह फार्म बिल्कुल अवैध रूप से बनाया जा रहा है। अदालत के कोई स्टे आर्डर नहीं हैं। उन्होंने अदालत के आदेश की कॉपी दिखाते हुए कहा कि डयू कोर्स ऑफ लॉ के आदेश हैं। यानि कि नगर निगम चाहे तो वहां कार्रवाई कर सकता है। यह फार्म हाऊस M/S JH REALTECH  प्राईवेट लि. द्वारा बनाया गया है। स्टे के लिए दायर याचिका पर सुनवाई जारी है, जिसमें अगली डेट 20 जुलाई 2021 को लगी है। अदालत ने कंपनी की याचिका पर नगर निगम को स्टे आर्डर नहीं दिए हैं।

मुझे रिलिव करने की पावर है: जेसीटी

ज्वाइंट कमिश्नर ने अपने ऊपर लगाए गए आरोपों पर कहा कि उन्हें अपने विभाग में किसी भी अधिकारी को उसके पद से रिलिव करने की पावर है। अटकान ने यह भी कहा कि किसी पोस्ट पर नियुक्ति की पावर कमिश्नर को है। उन्होंने जो भी कार्रवाई की है, उसकी जानकारी आयुक्त को भेज दी है।

कौन है आयुक्त किसी को पता नहीं

बता दें कि फरीदाबाद के उपायुक्त यशपाल यादव को नगर निगम कमिश्नर का अतिरिक्त चार्ज दिया गया था। आईएएस प्रशिक्षण के लिए यादव आऊट ऑफ स्टेशन गए हैं। इसलिए डीसी का चार्ज हुडडा प्रशासक कृष्ण कुमार को दिया गया है। मगर नगर निगम का चार्ज किस अधिकारी को दिया गया है, यह स्पष्ट नहीं हो पाया है। डीसी का काम तो कृष्ण कुमार देखेंगे, मगर नगर निगम आयुक्त का काम किस अधिकारी के पास रहेगा, सरकार के आदेश में यह स्पष्ट नहीं हो पाया है। नगर निगम के अधिकारी भी इस असमंजस में है कि कमिश्नर का चार्ज किस अधिकारी के पास है। ज्वाइंट कमिश्नर ने भी कहा कि उन्हें भी फिलहाल नहीं पता कि कमिश्नर का चार्ज किसके पास है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here