फरीदाबाद में अतिक्रमण के नाम पर तोड़े गए दुकानों के छज्जे और सीढिय़ां, लोगों में भाजपा सरकार के प्रति नाराजगी

0
- Advertisement -

फरीदाबाद। अवैध निर्माणों को छोडक़र नगर निगम का दस्ता शुक्रवार को एनआईटी क्षेत्र की दुकानों पर बनें छज्जों और सीढिय़ों को तोडऩे के लिए पहुंच गया। सीधे तौर पर नगर निगम की यह कार्रवाई आम पब्लिक को परेशान करने के अलावा और कुछ नहीं थी। ज्वाइंट कमिश्नर प्रशांत कुमार के नेतृत्व में तोडफ़ोड़ विभााग का बुलडोजर दुकानदारों के छज्जों और सीढियों पर चला, जिनसे शायद ही किसी को परेशानी होती हो।

अवैध निर्माणों को देखा तक नहीं

मगर निगम ने शहर में उन अवैध निर्माणों को देखा तक नहीं, जहां से संभवतय: लाखों रुपए की वसूली हो रही है। इससे एनआईटी क्षेत्र में ना केवल नगर निगम की छवि और ज्यादा धूल में मिली, बल्कि सत्ताधारी नेताओं को भी आने वाले चुनावों में इसका खामियाजा भुगतना पड़ सकता है। सीधे तौर पर कहा जाए तो कुछ अधिकारियों ने अपने व्यक्तिगत एजेंडे को पूरा करने के लिए बेवजह की अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई को अंजाम दिया। सीधी भाषा में कहा जाए तो इसका नुक्सान स्थानीय भाजपा विधायक सीमा त्रिखा को उठाना पड़ सकता है।

अवैध निर्माणों के नाम पर मचा है गदर

वैसे भी इन शहर में अवैध निर्माणों के नाम पर पूरा गदर मचा हुआ है। उनसे तो जमकर वसूली की जा रही है, मगर अतिक्रमण के नाम पर बेवजह लोगों को परेशान किया जा रहा है। संभवयत: निगम प्रशासन की इस कार्रवाई से सत्ताधारी दल भाजपा को बहुत नुक्सान हो सकता है। पंरतु निगम अधिकारियों को इससे कोई लेना देना नहीं है। वह आज फरीदाबाद में हैं तो कल किसी दूसरे शहर में होंगे।

इस एरिए में की गई कार्रवाई

बता दें कि निगम प्रशासन ने शुक्रवार की सुबह से बीके चौक से लेकर हार्डवेयर तक दुकानों के सामने होने वाले उन अतिक्रमणों को अपना निशाना बनाया, जिससे शायद ही किसी शहरी को कोई बहुत अधिक दिक्कत होती हो। जबकि एनआईटी नंबर-1 के बाजार में जहां लोगों को पैदल चलने में भी परेशानी होती है, वहां इस तरह के अभियान की जरूरत जरूर है। पंरतु वहां से निगम ने अपनी आंखें मंूदी हुई हैं। मार्केट में दुकानदारों ने सडक़ तक अपनी दुकानों को लगाया हुआ है। उसके बाद रेहडी पटरी वालों को मोटे किराए पर बिठा लिया है। मगर वहां निगम प्रशासन जाने की जरूरत नहीं समझता।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here