अवैध निर्माण 1 सी/ 113-114 को तोडऩे गई टीम के साथ अभद्रता, पुलिस में दी शिकायत, ठेकेदार पर भी होगी कार्रवाई ?

0

अवैध निर्माण तोडऩे गई नगर निगम की टीम के साथ अभद्रता करने के आरोप में कई लोगों पर गाज गिर सकती है। तोडफ़ोड़ विभाग की टीम एनआईटी नंबर 1 सी/ 113-114 में अवैध निर्माण पर कार्रवाई करने के लिए गई थी। पंरतु विभाग के अधिकारी व कर्मचारियों को वहां कुछ लोगों के विरोध का सामना करना पड़ा, जिस वजह से यह कार्रवाई अधर में रह गई और टीम को वहां से बैरंग लौटना पड़ा। विभाग के अधिकारियों ने बताया कि जिन लोगों ने विरोध किया और बदतमीजी की, उनके खिलाफ थाना कोतवाली में शिकायत दे दी गई है। जिन लोगों के खिलाफ शिकायत दी गई है, जल्द ही उन पर एफआईआर भी दर्ज हो जाएगी।

डीसी के आदेश पर कार्रवाई की

डीसी एवं नगर निगम आयुक्त यशपाल यादव ने ही इस अवैध निर्माण पर कार्रवाई के आदेश दिए थे। लोगों के विरोध की वजह से जब तोडफ़ोड़ की कार्रवाई नहीं हो सकी तो श्री यादव ने आरोपी लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने के आदेश दिए। इसके बाद तोडफ़ोड़ विभाग की टीम ने थाना कोतवाली में अपनी ओर से शिकायत दे दी है।

सुधीर ठेकेदार ने बनाया अवैध निर्माण

बता दें कि जिस प्लाट पर टीम कार्रवाई करने के लिए गई थी, उसका निर्माण सुधीर नाम का ठेकेदार कर रहा है। एनआईटी में बहुत से ऐसी जगह हैं, जहां इसी ठेकेदार द्वारा अवैध निर्माण किया जा रहा है। बताया गया है कि इस अवैध निर्माण को बनाने वाले ठेकेदार सुधीर को निगम के ही कुछ अधिकारियों ने सरंक्षण दिया है, जिसके चलते इस ठेकेदार का अवैध निर्माण का धंधा तेजी से फल फूल रहा है।

ये अवैध निर्माण भी बना रहा है ठेकेदार

प्लाट नंबर 1-सी, 113-114 के अलावा भी ठेकेदार सुधीर एनआईटी नंबर 5 डी-51 और 5 एल-45 में भी अवैध निर्माण का काम धड़ल्ले से कर रहा है। यह ठेकेदार निगम अधिकारियों का कृपापात्र बनकर शहर में अवैध निर्माणों का जाल फैला रहा है। इसके अलावा और भी कई ठेकेदार हैं ,जोकि अवैध निर्माणों का धंधा करते हैं। इसके अलावा एनआईटी नंबर 1 से लेकर 5 तक अवैध फ्लैटस भी खूब बनाए जा रहे हैं। जिनमें पानी और सीवर के अवैध कनेक्शन लगाकर निगम को चूना लगाया जा रहा है। इसलिए निगम आयुक्त यशपाल यादव को उन अवैध निर्माणों पर कार्रवाई के साथ साथ उन ठेकेदारों पर भी गाज गिरानी चाहिए, जोकि इन अवैध निर्माणों और निगम अधिकारियों से मिलीभगत के ठेके लेते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here