शर्मनाक है तोडफ़ोड़ विभाग की करतूत, एनआईटी नंबर-3 में सील हुए अस्पताल में चल रहा है अवैध निर्माण

0
- Advertisement -

एनआईटी क्षेत्र में धड़ल्ले से अवैध निर्माण चल रहे हैं। जिन अधिकारियों को अवैध निर्माण रोकने की जिम्मेदारी दी गई है, वहीं उन्हें बचाने के धंधे में जुट गए हैं। यही वजह है कि एनआईटी नंबर-3 चिमनीबाई धर्मशाला के सामने स्थित प्राची अस्पताल में चौथी मंजिल पर धड़ल्ले से अवैध निर्माण किया जा रहा है। हैरत की बात है कि यह अस्पताल ना केवल पूरी तरह से अवैध बना हुआ है, बल्कि उसे सील भी किया जा चुका है। निगम अधिकारियों की मिलीभगत का आलम यह है कि इस अस्पताल को अब अवैध निर्माण करने की पूरी छूट दे दी गई है।

कही जा रही है नोटिस देने की बात

अपने बचाव को देखते हुए इस अस्पताल में अवैध निर्माण से संबंधित नोटिस दिए जाने की बात कही जा रही है। जबकि यह अस्पताल पहले से ही ना केवल अवैध है, बल्कि उसे सील भी किया जा चुका है। निगम के कुछ कर्मचारी शनिवार को अस्पताल में अवैध निर्माण को देखने के लिए पहुंचे। मगर उस पर कार्रवाई करने की बजाए अवैध निर्माण करने वाले ठेकेदारों से सैटिंग कर वापिस लौट गए।

अवैध रूप से बन रही है दुकान भी

इसी तरह से वहीं एक दुकान भी अवैध तौर पर बन रही है। कुछ दिन पहले बिल्डिंग इंस्पेक्टर संदीप इस दुकान के अवैध निर्माण को देखने के लिए पहुंचा था। मगर उसे रूकवाने की कोई कोशिश की गई हो ऐसा लगता नहीं है। यही वजह है कि दोनों ही अवैध निर्माण आज भी धड़ल्ले से हो रहे हैं। बता दें कि हाल ही में अवैध निर्माणों की तमाम शिकायतों एवं सिटीमेल की न्यूज पर तोडफ़ोड़ विभाग के एसडीओ हकमूददीन और बिल्डिंग इंस्पेक्टर सुमेर सिंह को हटाकर उनके स्थान पर अमित कुमार व बिल्डिंग इंस्पेक्टर के तौर पर कांटे्रक्ट के जूनियर इंजीनियर संदीप को बिल्डिंग इंस्पेक्टर लगाया गया था।

धूमिल कर दी आयुक्त की उम्मीद

आयुक्त यश गर्ग को पूरी उम्मीद थी कि ये युवा अधिकारी अपनी कार्यप्रणाली से उनकी साख को बचाने का काम करते हुए अवैध निर्माणों को रोकने का काम करेंगे। मगर आयुक्त की तमाम उम्मीदों पर इन दोनों युवा अधिकारियों ने पानी फेर दिया और आज भी शहर में धड़ल्ले से अवैध निर्माण हो रहे हैं। इन अधिकारियों को जितनी भी शिकायतें भेजी गई, उनमें से किसी पर भी कार्रवाई की गई हो ऐसा दिखाई नहीं दे रहा है। ताजा मामला निगम प्रशासन के लिए और भी शर्मनाक है कि सील पड़ी हुई बिल्डिंग में ना केवल अस्पताल चल रहा है, बल्कि उसकी चौथी मंजिल पर अवैध निर्माण भी हो रहा है। पता होने के बावजूद तोडफ़ोड़ विभाग के दोनों अधिकारी चुप्पी साधे हुए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here