हरियाणा में फिर 14 दिसंबर से खोले जाएंगे स्कूल, करने होंगे ये काम, क्या सरकार के फैसले से सहमत हैं आप

0
- Advertisement -
Chandigarh News (citymail news) हरियाणा में 14 दिसंबर से सरकारी व निजी स्कूल फिर से खुल जाएंगे। सरकार ने केवल 10वीं व 12वीं के छात्रों को ही स्कूलों में बुलाने का निर्णय लिया है। आठवीं कक्षा तक के स्कूल आगामी आदेश तक बंद ही रहेंगे। अब 9वीं व 11वीं की कक्षाएं भी नहीं लगेंगी। स्कूलों को दोबारा से खोलने का निर्णय बुधवार देर शाम शिक्षा मंत्री कंवर पाल की अध्यक्षता में हुई उच्च स्तरीय बैठक में लिया गया। इसमें शिक्षा विभाग के सभी उच्च अधिकारी शामिल रहे।
स्वास्थ्य विभाग की एडवाइजरी का पालन करना होगा-
स्कूल खुलने पर मुखिया को आठ दिसंबर 2020 को जारी स्वास्थ्य विभाग की एडवाइजरी का पालन सुनिश्चित करना होगा। 14 दिसंबर से स्कूलों में पहले की तरह कक्षाएं तो लगेंगी लेकिन कोरोना के मद्देनजर सिर्फ बोर्ड कक्षा 10वीं और 12वीं के विद्यार्थी ही स्कूल आएंगे। इसके लिए भी अभिभावकों की अनुमति जरूरी होगी।
स्कूल खुलने से पहले  पूरी तरह सैनिटाइजेशन करवाना होगा-
मुखिया को स्कूल खुलने से पहले परिसर को पूरी तरह सैनिटाइजेशन करवाना होगा। हरियाणा के कई जिलों में बड़ी संख्या में छात्र कोरोना पॉजिटिव मिले थे। जिसके बाद सरकार ने 20 से 30 नवंबर तक सभी स्कूल बंद कर दिए थे। इसके बार फिर समीक्षा हुई और स्कूलों को 10 दिसंबर तक बंद रखने का निर्णय लिया गया। बुधवार को हुई बैठक में 14 दिसंबर से खोलने पर सहमति बनी है। 11 दिसंबर को स्कूल खुलते भी तो एक ही दिन की पढ़ाई होती, चूंकि 12-13 दिसंबर को शनिवार-रविवार की छुट्टी है।
स्वास्थ्य विभाग की इन हिदायतों का करना होगा पालन-
कक्षाओं में सोशल डिस्टेंसिंग सुनिश्चित करनी होगी।
स्कूल आने वाले सभी शिक्षकों व विद्यार्थियों की स्क्रीनिंग की जाएगी। 
कोरोना के बिना लक्षण वालों को ही परिसर में प्रवेश मिलेगा।
बिना लक्षण वाले शिक्षकों व विद्यार्थियों के कोरोना टेस्ट की व्यवस्था स्वास्थ्य विभाग के स्थानीय अफसरों के साथ मिलकर करनी होगी, निगेटिव रिपोर्ट वाले छात्रों को ही स्कूल आने की अनुमति दें।
बच्चों को हुआ कोरोना तो किसकी होगी जिम्मेदारी-
हरियाणा अभिभावक एकता मंच ने कहा ने कहा है कि मंच को 10वीं व 12वीं के बोर्ड विद्यार्थियों के लिए स्कूल खोलने पर कोई आपत्ति नहीं है लेकिन जो गाइडलाइन जारी की गई है उन का सख्ती से पालन होना चाहिए और अगर किसी छात्र व अध्यापक को पढ़ाई करते व कराते हुए कोरोना हो जाता है तो उसकी पूरी जिम्मेदारी स्कूल प्रबंधक की तरह होनी चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here