बंदरों के आंतक से त्रस्त हैं ओल्ड फरीदाबाद,एनआईटी और सैनिक कालोनी के लोग, सरेआम घरों में घुस जाते हैं

0
- Advertisement -

फरीदाबाद। ओल्ड फरीदाबाद विधानसभा ,एनआईटी सहित सैनिक कालोनी सैक्टर 49 के लोग बंदरों के आंतक से काफी परेशान हैं। क्षेत्र में पड़ने वाले सैक्टर-18 हाऊसिंग बोर्ड कॉलोनी के निवासी बंदरो के आतंक से काफ़ी परेशान हैं। इससे इलाके के लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता हैं। क्षेत्र में आने-जाने वाले कई बच्चे व महिलाएं बंदरों से परेशान रहते हैं क्योंकि न जाने किस गली या मोड़ पर बंदरों का झुंड या टोली मिल जाए और उन पर हमला कर दे। 

हमला कर लोगों को घायल कर देते हैं बंदर-

सैक्टर-18 गुरुद्वारा के पास रह रहे स्थानीय निवासी अरुण कुमार का कहना है कि बंदर कभी भी बेवजह किसी पर भी हमला कर लोगों को घायल कर देते हैं। इसी भय के साथ लोग जीने को मजबूर हैं। इसके साथ ही बंदर छत पर सूख रहे कपड़े फाड़ देते हैं, टंकियों की पाइपों को भी पूरी तरह से तोड़ देते हैं तथा लोगो के घर में लगे पेड़-पौधे भी तहस-नहस कर देते हैं। बंदरों को न पकड़े जाने की वजह से बंदरों की संख्या निरंतर बढ़ती जा रही है और समस्या प्रतिदिन विकराल होती जा रही है। उनकी प्रशासन से मांग है कि सैक्टर-18 में बंदरों को तुरंत पकड़वा कर जीव-जंतु वन्य क्षेत्र में छुड़वाया जाए। जिससे कि उन्हें बंदरों के आतंक से मुक्ति मिल सके।

टंकियों की पाइप पूरी तरह तहस-नहस कर देते हैं-

यदि बंदर किसी पर भी हमला न करे और लोगो का सामान तहस-नहस न करें तो उन्हें कोई परेशानी नहीं है। परंतु बंदर बेवजह किसी पर भी हमला कर देते  हैं तथा लोगों के घर में लगे पेड़-पौधे, सूख रहे कपड़े, टंकियों की पाइप पूरी तरह तहस-नहस कर देते हैं। जिससे लोगो को काफी परेशानी का सामान करना पड़ता है। फरीदाबाद नगर निगम हाऊस टैक्स की वसूली तो करता है। परन्तु निवासियों को कोई भी सुविधा मुहैया नहीं करता है। 

आयुक्त से अपील बंदरों के आंतक से मुक्ति दिलवाएं-

वहीं सैनिक कालोनी आरडब्ल्यूए के प्रधान राजू अनिल अरोड़ा का कहना है कि बंदरों की समस्याओं को लेकर वह कई बार शिकायत कर चुके हैं, मगर कोई सुनता नहीं है। बंदरों से लोग इतने त्रस्त है कि वह चाहकर भी कुछ नहीं कर पाते। बंदर जबरन घरों में घुस जाते हैं और सामान उठाकर ले जाते हैं। विरोध करने पर वह लोगों को खा जाते हैं। बंदरों के काटने का ईलाज भी उपलब्ध नहीं है। इसलिए वह नगर निगम आयुक्त से अपील करते हैं कि फरीदाबाद निवासियों को बंदरों के आंतक से मुक्ति दिलवाएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here