साइकिल हुई पंचर, फिर भी अपने परिवार से मिलने के लिए 550Km चलाई साइकिल

0
- Advertisement -

New Delhi: कोराना काल में अपनी चिंता जितनी नहीं रहती उससे ज्यादा अपने परिवार की रहती है। हमेशा मन लगा रहता है कि परिवार कैसे रह रहा होगा। वह कोराना से बचने के लिए कौन-कौन से उपाय कर रहे होंगे। यह सब ख्याल तब और ज्यादा आने लगते हैं, जब कोई अपने परिवार से दूर रह रहा होता है। ऐसा ही कुछ ख्याल एक शख्स को भी आया। इनका नाम है राहुल आर नायर। जिन्होंने इस कोराना काल में अपने परिवार से मिलने के लिए एक नहीं बल्कि 550 किलोमीटर साइकिल चलाकर अपने परिवार तक पहुंच गया। राहुल बताते हैं कि वह कोराना काल में सफर करने के लिए किसी भी प्राइवेट ट्रांसपोर्ट पर भरोसा नहीं कर सकते हैं। इसलिए वो बेंगलुरु से अपने घर कोच्चि जाने पहुंचने के लिए साइकिल चलाई। गौर करने वाली बात यह है कि उनका चार पहिया का लाइसेंस की वेलिडिटी खत्म हो चुकी थी। जिसके बाद उन्होंने फैसला किया कि वह साइकिल से ही घर पहुंचेंगे। बताते चले कि राहुल एक स्टूडेंट होने के साथ स्टार्टअप चलाते हैं, और दूसरे बच्चों को पढ़ाते भी हैं।

जब रास्ते में साइकिल हुई पंचर

राहुल बताते हैं कि उन्हें साइकिल चलाना पसंद है। वह रोजाना 50 से 60 किलोमीटर तक साइकिल चलाते हैं। वह बताते हैं कि उन्होंने घर जाने के लिए 18 नवंबर को साइकिल से घर तक के सफर की यात्रा शुरु की थी। 21 नवंबर को वह घर पहुंचे थे। लेकिन यात्रा के तीसरे दिन साइकिल पंचर हुई। बावजूद वह 20 किलोमीट के जंगल को पार कर घर पहुंचे। परिवार से मिलने का यह जजबा अपने आप में काफी लाजवाब है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here