केरल में ई-रिक्शा चालक बनकर महिला और ट्रांसेजडर रोज कमा रही हैं 500-600 रुपये

0
- Advertisement -

केरल में महिलाएं ड्राइवर चालक के रूप में काम करके अपना घर चला रही है. 30 वर्षीय सूसी कोचुकुट्टी के अलावा 25 महिलाएं इस व्यवसाय के जरिए अपनी रोजी-रोटी का जुगाड़ कर रही हैं. सूसी का कहना है कि वह लाकडाउन से पहले आॅटो चलाने का काम करती थी लेकिन लाकडाउन में उनकी नौकरी छूट गई थी. नौकरी छूटने के बाद उनके लिए काम ढूंढना बेहद मुश्किल हो गया था.

image source- twitter

केरल स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत शहर को साफ और स्वच्छ बनाने के लिए ई-रिक्शा और ई-आॅटो चलाने का निर्णय लिया गया है. इसके शुरू होने से कई महिलाओं को नौकरी मिल गई है. सुसी के अलावा 28 महिलाएं चालक के रूप में काम कर रही हैं, जिसमें दो ट्रांसजेंडर भी है. सुसी का कहना है कि इसे चलाकर मैं प्र​तिदिन 500 से 600 रुपये कमा लेती है. डीजल से चलने वाली गाड़ियों के मुकाबले इसकी लागत भी कम होती है. इसे चार्ज करने में केवल चार घंटे का समय लगता है. डीज़ल पर पैसा भी खर्च नहीं करना पड़ता है.

14 साल से ड्राइवर का काम करने वाली मुमताज़ का कहना है कि लोग कोविड के कारण रिक्शा में बैठने से हिचकिचाते हैं लेकिन कुछ लोग कोरोना की परवाह किए बिना हमारी रिक्शा में बैठते हैं. निगम द्वारा शुरू किए गए इस पहल का हम स्वागत करते हैं. इस पहल के जरिए हम महिला ड्राइवर अब बेरोजगार नहीं रहे हैं. मुमताज का कहना है कि ड्राइवर का काम करके मैं अपने परिवार को चलाने में बेहद सक्षम हो गई हूं.

source-the new indian express

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here