एक क्लिक की वजह से सिद्धांत बत्रा का सपना हुआ चकनाचूर, नहीं मिला आईआईटी में एडमिशन

0
- Advertisement -

एक क्लिक पर आपकी ज़िंदगी कितनी बदल सकती है, इसका ताजा उदाहरण पेश किया है आगरा के रहने वाले सिद्धांत बत्रा ने. सिद्धांत के सिर से माता—पिता का साया बचपन में ही उठ गया था. ऐसे में सिद्धांत ने कड़ी मेहनत करके जेइई परीक्षा में पूरे भारत में 270 वीं रैंक हासिल की. लेकिन इतने अच्छी रैंक होने के बावजूद फॉर्म भरते समय गलती से सिद्धांत ने सीट वापसी का लिंक सेलेक्ट कर लिया जिसकी वजह से आईआईटी बॉम्बे में पढ़ने का उनका सपना अधूरा ही रह गया.

दादी और चाचा सा​थ रहने वाले सिद्धांत ने आईआईटी बॉम्बे से इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग करने के लिए पहले राउंड में ही अपने लिए सीट रिजर्व कर ली थी लेकिन अपना रोल नंबर अपडेट करते समय उनसे गलती से ‘अगले राउंड में सीट वापसी’ का लिंक क्लिक हो गया जिसकी वजह से उन्हें अपनी सीट गंवानी पड़ गई. इस एक गलती से उनके कई सपने चकनाचूर हो गए. इस लिंक का मतलब था कि छात्र को इस सीट पर एडमिशन नहीं चाहिए था. सिद्धांत का जब अगले लिस्ट में भी नाम नहीं आया तो उन्होंने बॉम्बे हाइकोर्ट में इसके लिए याचिका डाल दी है. हालांकि कोर्ट ने याचिका खारिज़ कर दी है.

आईआईटी बॉम्बे ने कहा कि उनके पास अब ए​डमिशन देने के लिए पर्याप्त सीट नहीं है इसलिए सिद्धांत अगले साल ट्राई करें. ये सुनकर सिद्धांत निराश जरूर हुए लेकिन हिम्मत नहीं हारी सिद्धांत अब इस मामले को सुप्रीम कोर्ट पहुंच गए हैं. अब देखना है कि सुप्रीम कोर्ट सिद्धांत के हित में फैसला सुनाती है या नहीं. तभी कहते हैं कि किसी भी काम को करते समय बेहद सावधानी बरतनी चाहिए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here