दो महीने के तजिंदर को माता-पिता 20 हजार रुपये में बेचना चाहते थे, वजह एक हाथ नहीं था

0

New Delhi: आप ने सुना होगा, बच्चे की पढ़ाई के लिए माता-पिता ने अपनी जीवन भर की पूंजी खर्च कर दी। लेकिन, आज हम आपको एक ऐसी कहानी से रू-ब-रू कराने जा रहे हैं। जिसमें एक बच्चे के माता-पिता उसे महज 20 हजार रुपये में बेचना चाहते थे। क्योंकि वह बच्चा पैदा होने के वक्त एक हाथ से विक्लांग था। उसका एक हाथ नहीं था। उस बच्चे को उसके माता-पिता हीन भावना से देखने लगे। जिस वक्त उसे बेचने की प्लानिंग की जा रही थी, वह बच्चा महज दो महीने का था। सोच कर देखिए एक मां ने अपने बच्चों को बेचने के लिए कैसे राजी हो गई। हालांकि अपने परिवार से अलग होने के बाद एक अंटी ने उसे आसरा दिया। और उसके जीवन में नई उमंग भरी। जिसके बाद वह बच्चा आज दिल्ली मिस्टर इंडिया कहलाता है। बच्चे का नाम तजिंदर मेहरा है। इनकी उम्र अब 26 साल है। तजिंदर राजधानी दिल्ली में रहते हैं। तजिंदर कहते हैं कि एक हाथ से जीवन जीने में काफी कठिनाईयों से गुजरना पड़ा। लोगों की ओर से हमेशा हीन भावना ही देखने को मिली। बताते चले कि तजिंदर पैसा कमाने के लिए कर्मपुरा इलाके में चिकन प्वाइंट के नाम से अपनी दुकान चला रहा है।

बुआ ने पाला, और शिक्षा दिलाई

तजिंदर बताते हैं कि उनके माता-पिता ने उन्हें बोझ समझा। लेकिन बुआ ने मुझे पाला। उनके परिवार में मुझे किसी तरह से कोई दिक्कतें नहीं आई। बुआ हमेशा कहती रही कि अगर किसी चीज की जरूरत हो तो खुलकर बोलो। उन्होंने मुझे स्कूल में दाखिला दिलवाया। 10वीं तक मैंने पढ़ाई की।

चार बार जीते मिस्टर दिल्ली का खिताब
तजिंदर ने कहा कि वह चार बार मिस्टर दिल्ली का खिताब जीत चुके हैं। और उन्हें बॉडी बिल्डिंग का शौक भी हैं। वह बताते हैं कि उनके घर के पास कोई जिम नहीं था। दोस्त भी कहते थे कि जिम करना मेरी बस की बात नहीं। लेकिन तजिंदर एक प्राइवेट जिम गए जहां उन्होंने दिनेश के नेृत्तव में बॉडी बनाई। उन्होंने मिस्टर दिल्ली के लिए साल 2016 में फॉर्म भरा। इस खिताब को तजिंदर जीतने में कामयाब रहे। इसके बाद 2017-18 में भी खिताब जीता।

source the better india

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here