जिस प्लास्टिक को लोग फेंकते हैं, उससे सालाना करोड़ों कमाते हैं ये चार दोस्त

0
photo source the better india
- Advertisement -

New Delhi: प्लास्टिक को रीसाइकल कर उससे घरों में इस्तेमाल की जाने वाली वस्तुएं बनाकर चार दोस्त सालाना एक करोड़ रुपये कमा रहे हैं। जिस प्लास्टिक को लोग फेंकते हैं, उस प्लास्टिक को रीसाइकल किया जा रहा है। इन चारों दोस्तों ने मिलकर रीसाइकल बेल प्राइवेट लिमिटेड शुरु किया। इनके ब्रांड की खास बात यह है कि इनकी डिमांड लोगों के बीच में काफी है। ब्रांड का सपना सजोने वाले मधुर एन राठी ने कहा कि उन्हे यह विश्वास नहीं होता कि उनकी एमबीए की पढ़ाई के दौरान वेस्ट मेनेजमेंट पर आयोजित एक कॉन्फ्रेंस ने उनके जीवन को बदल कर रख दिया है। वह कहते हैं कि हम से ज्यादातर लोग ईको-फ्रेंडली जीवन के लिए प्लास्टिक के उत्पादों का रीसाइकल करते हैं. लेकिन बहुत कम लोग जानते हैं कि रीसाइकल प्लास्टिक का भी रीसाइकल किया जा सकता है। हमारे ब्रांड के उत्पाद इसका उदाहरण है।

साल 2017 में कंपनी की नीव रखी
मधुर व उनके दोस्तों ने कंपनी की शुरुआत साल 2017 में की। जिसमें उनके तीनों दोस्तों ने भी सहयोग किया। तीनों दोस्तों ने 5 लाख रूपये का लोन भी लिया। तो दूसरे दोस्त ने किसी बैंक से 10 लाख रूपये का लोन लिया। मधुर बताते हैं कि शुरुआत के दिनों में सूखा कचरा जमा करते थे।

photo source the better india

 

इसके बाद इन्हें विभिन्न रिसाइकलरों को बेचते थे। वह आगे उन्हें रीसाइकल किया करते थे। हालांकि इस काम के बाद चारों दोस्तों ने रीसाइकल प्लास्टिक से खुद का उत्पाद बनाना शुरु कर दिया। एक साल इस विषय पर काम भी किया गया। साल 2019 के अक्टूबर माह में ईकोनीचर लॉन्च किया गया। इसका मतलब है कि ईकोफ्रेंडली फर्नीचर। यह ब्रांड घर की फर्नीचर व साज-सजावट का सामान बनाता है। इसके साथ ही कुर्सियां, मल, रैक, अलमारियां, बर्तन, बेंच , टेबल के साथ अन्य उत्पाद शामिल है। बताते चले कि अब तक ईकोनीचर रिसाइकलिंग के लिए 1400 मीट्रिक टन से अधिक सूखे कचरे को परिवर्तित किया जा चुका है।

photo source by the better india

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here