जिला रजिस्ट्रार से भारत के सबसे कम उम्र के आईपीएस कैसे बने सफिन हसन

0
photo instagram by safin hasan
- Advertisement -

New Delhi: सफिन हसन किसी परिचय के मोहताज नहीं है। इन्हें तो आप जानते ही होंगे। सफिन हसन भारत के पहले ऐसे आईपीएस अ्रफसर हैं, जिन्होंने महज 22 साल की उम्र में सीविल सेवा परीक्षा पास की। उन्हें आईपीएस के लिए चुना गया। हालांकि आईपीएस तक का सफर सफिन के लिए आसान नहीं था। सफिन गुजरात के राजकोट के रहने वाले हैं। उनके पिता हीरा तराशने का काम करते हैं। वहीं जब सफिन को पढ़ाई के दौरान पैसे कम पड़े तो उनकी मां नसीम बानो ने रेस्तरां और शादी समारोह में भी काम किया। लेकिन बेटे को किसी तरह से कोई परेशानी नहीं होने दी। सफिन भी अपनी मां के बेहद करीब हैं। देखिए सफिन ने अफसर बन मां के सपने को पूरा किया। बताते चले कि सफिन को अब नई जिम्मेदारी मिलने जा रही है। उन्हें जामनगर के जिला पुलिस उपाधीक्षक बनाए जाने की घोषणा की गई है।

photo instagramed by safin hasan

 

पहले बने रजिस्ट्रार फिर मन किया बनता हूं आईपीएस

सफिन बताते हैं कि वह गुजरात स्थित एक छोटे से गांव से आते हैं। उन्होंने गांव से ही प्रारंभिक शिक्षा ली। इसके बाद इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने के लिए गांव से निकलकर वह सुरत चले गए। हालांकि इन दिनों ही उन्होंने स्टेट पीसीएस की परीक्षा दी और परीक्षा पास कर वह रजिस्ट्रार बन गए। लेकिन उन्हें इस काम में मन नहीं लगा और उनका झुकाव सीविल सेवा की तरफ हुआ। कड़ी मेहनत के बाद उन्होंने 570वीं रैंक लाकर उन्होंने सीविल सेवा परीक्षा पास कर ली। बताते चले कि सफिन हसन उन युवाओं के लिए एक मार्गदर्शक के रूप में भी काम कर रहे हैं जो अपना भविष्य सीविल सेवा परीक्षा में देखते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here