पति ने दिया साथ तो आईएस आॅफिसर बनीं काजल ज्वाला, रोशन किया परिवार का नाम

0
- Advertisement -

आईएस बनीं काजल ज्वाला ने साबित कर दिया है कि अगर पति साथ देने वाला हो तो कोई भी कठिन काम किया जा सकता है. जी हां, मेरठ की रहने वाली काजल का बचपन से आईएस बनने का सपना था. शादी के बाद काजल ने अपने इस सपने को पूरा किया, उनके पति ने इसमें उनका पूरा सहयोग दिया. काजल अपने एक इंटरव्यू में बताती हैं पति झाडू-पोछा करने से लेकर मेरे लिए खाना तक बनाते थे.

मथुरा से इलेक्ट्रॉनिक कम्युनिकेशन में बीटेक करने के बाद 2012 में काजल की नौकरी आइटी कंपनी विप्रो में लग गई. काजल नौकरी के साथ—साथ आईएस परीक्षा की तैयारी कर रही थीं. नौकरी के साथ तैयारी करना बेहद कठिन होता है कि लेकिन पति साथ देने वाला हो तो कोई भी मुश्किल काम आसान हो जाता है, ये कहना है कि आईएस अफसर काजल का. चार बार इस एग्जाम में असफल होने के बाद भी उन्होंने हिम्मत नहीं हारी. काजल आॅफिस जाते समय कैब में भी अपनी पढ़ाई जारी रखती थी. छुट्टी के दिन ​कहीं बाहर घूमने जाने के बजाय काजल पूरे दिन घर पर बैठकर पढ़ाई करती थी.

काजल को पांचवे प्रयास में सफलता हाथ लगी. काजल को मेन परीक्षा में कुल 850 अंक प्राप्त हुए थे. इस परीक्षा का सिलेबस असीमित हैं, जितना पढ़ें उतना कम हैं. काजल ने ये कठिन परीक्षा बिना कोचिंग के ही पास की है. काजल ने यूपीएससी की तैयारी कर रहे छात्रों से कहा कि आप न्यूजपेपर रोज पढ़ें और जो भी पढ़ा है उसका बार-बार रिविज़न करें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here