लालची पिता को सबक सिखाने के लिए 10 किमी पैदल डीएम आॅफिस पहुंची बच्ची

0

ओडिशा में रहने वाली एक बच्ची ने हिम्मत करते हुए अपने ही पिता की शिकायत करने डीएम कार्यालय पहुंच गई. बच्ची ने डीएम से कहा कि मेरे पिता स्कूल से मिलने वाले मिड डे मिल के पैसे और राशन तक छिन लेते हैं. अपने हक की चीज़ को पिता द्वारा हड़पने से नाराज़ ये बच्ची डीएम आॅफिस अकेले 10 किमी पैदच चलकर पहुंची थी. 10 वर्षीय इस बच्ची की हिम्मत को हम सलाम करते हैं.

डीएम समर्थ वर्मा ने बच्ची की शिकायत पर संज्ञान लेते हुए अपने अधिकारियों से कहा कि बच्ची को सारे पैसे और राशन लौटाए जाए और आगे से उसे पैसे उसके अकाउंट में भेजा जाए. बच्ची ने बताया कि मेरा खुद का अकाउंट है लेकिन पैसे पिता के अकाउंट में ही जाते हैं. पिता से अलग रह रही बच्ची ने कहा कि पिता मेरे से राश्न भी छिन कर ले जाता है. मां की मौत के बाद बच्ची अपने पिता से अलग एक अंकल के साथ रहती है. डीएम ने स्कूल के हेडमास्टर को भी आदेश दिया है कि पैसे और चावल बच्ची के अलावा किसी को ना दिया जाए. ये बच्ची सभी के लिए प्रेरणास्त्रोत बन गई है. इसने लालची पिता को सबक सिखा दिया.

लाकडाउन में स्कूल बंद होने के बाद बच्चों को अकाउंट में राज्य सरकार हर रोज 8 रुपये और 150 किलोग्राम चावल भेजती है. ये पैसे बच्चों के अकांउट में ही भेजे जाते हैं. जिन बच्चों के अकांउट नहीं हैं उनके माता—पिता के अकाउंट में ये पैसे भेजे जाते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here