दिल्ली से सटे सूरजकुंड में सैंकड़ों लोगों के घरों पर चले बुलडोजर, MCF ने कहा, वन विभाग की जमीन था कब्जा

0

दिल्ली के साथ लगते सूरजकुंड एरिया में नगर निगम फरीदाबाद व वन विभाग ने संयुक्त रूप से जमकर तोडफ़ोड़ की। बड़ी बड़ी मूर्तियों के लिए फेमस आनंद वन के पीछे स्थित अनंगपुर एरिया में तोडफ़ोड़ का यह बड़ा अभियान चलाया गया। निगम ने वीरवार की सुबह ही सूरजकुंड स्थित आनंद वन के पीछे वाले एरिया की घेराबंदी शुरू कर दी थी। भारी पुलिस फोर्स के साथ नगर निगम ने जाते ही तोडफ़ोड़ का काम शुरू कर दिया। निगम के बुलडोजरों ने वहां बने मकानों पर कहर बरपाने की कार्रवाई शुरू कर दी।

लोगों ने किया विरोध, मगर वो बेअसर रहा-

वहां रहने वाले लोगों ने इस तोडफ़ोड़ अभियान का विरोध भी किया, मगर भारी पुलिस बल के सामने किसी का विरोध कोई भी प्रभाव नहीं डाल पाया और देखते ही देखते बुलडोजरों ने लोगों की छतों को तोडऩे का काम शुरू कर दिया। डयूटी मजिस्टे्रट के तौर पर नियुक्त निगम के एक्सईएन ओपी कर्दम ने बताया कि दस एकड़ जमीन पर करीब 22 मकान बने हुए थे। उनके अनुसार यह जमीन वन विभाग की है। इस जमीन पर लोगों ने कब्जा करके पक्के मकान बना लिए थे। वन विभाग की ओर से इस कार्रवाई के लिए निगम प्रशासन से कहा गया। वन विभाग और नगर निगम ने संयुक्त अभियान में उक्त जमीन पर बने सभी मकानों को ध्वस्त कर दिया है। कर्दम के अनुसार वहां करीब 22 मकान बने हुए थे। जिन्हें जमीन में मिला दिया गया है।

अधिकारियों के खिलाफ नहीं होती कार्रवाई-

बता दें कि फरीदाबाद शहर अवैध निर्माण, सरकारी जमीनों पर कब्जा और अतिक्रमण का गढ़ बन चुका है। अधिकांश तौर पर निगम अधिकारियों के सरंक्षण में पहले अवैध निर्माण होते हैं और बाद में उन्हें तोड़ा जाता है। लेकिन हैरत की बात है कि आज तक निगम अधिकारियों के खिलाफ कभी कार्रवाई नहीं की गई है। लोगों के अवैध निर्माण तोडऩे के साथ यदि अवैध निर्माणों के लिए दोषी अधिकारियों पर भी कार्रवाई हो तो संभवतय: इस पर काफी हद तक लगाम लग सकती है। लेकिन सरकार व प्रशासन ने इस ओर कभी ध्यान देने की कोशिश ही नहीं की। यही वजह है कि अधिकारी बैखौफ होकर धड़ल्ले से अवैध निर्माणों को अपना धंधा बनाए हुए हैं। इसलिए लोगों की मांग है कि जिस अधिकारी के कार्यकाल में अवैध निर्माण, कब्जे और अतिक्रमण हों तो उसके खिलाफ भी कार्रवाई की जानी चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here