धरे रह गए पटाखे बेचने व चलाने के प्रतिबंध, Delhi -NCR व हरियाणा में दीवाली पर जमकर हुई आतिशबाजी

0

सरकार व प्रशासन की मनाही के बावजूद दिल्ली-एनसीआर व हरियाणा के तमाम शहरों में जमकर आतिशबाजी हुई। लोगों ने प्रतिबंध को धत्ता बताते हुए ना केवल पटाखे खरीदे, बल्कि जमकर चलाए भी। दिल्ली व हरियाणा में सरकार ने एनजीटी के आदेश के बाद पटाखे बेचने व चलाने पर प्रतिबंध लगाया था। इस कानून की अवेहलना करने पर 6 महीने की जेल व जुर्माने का भी प्रावधान किया गया था। मगर छोटी दीवाली से ही लोगों ने इस प्रतिबंध को ठेंगा दिखाते हुए जमकर पटाखे फोड़े।

पुलिस -प्रशासन ने नहीं दिखाई सख्ती-

इस अवसर पर ना तो पुलिस ने कोई कार्रवाई की और ना ही किसी प्रकार की सख्ती दिखाई दी। लोगों ने अपने घरों के बाहर जमकर पटाखे चलाए। हालांकि प्रदूषण को देखते हुए एनजीटी ने सख्त तौर पर आदेश दिए थे कि पटाखे किसी भी सूरत में ना चलाए जाएं। एनजीटी के आदेश पर दिल्ली व हरियाणा के पटाखों को लेकर उपरोक्त सख्त तौर पर आदेश जारी किए थे। सरकार ने प्रत्येक जिला प्रशासन को हिदायत दी थी कि कोई भी पटाखे ना बेचे और ना ही चलाए। मगर ना तो प्रशासन ने इस दिशा में कोई ठोस कदम उठाया और ना ही लोगों ने सरकार का सहयोग किया। इसका परिणाम यह हुआ कि दीवाली से एक दिन पहले ही जमकर पटाखे चलाए गए।

शाम होते हुए भी जमकर चले पटाखे-

दीवाली वाले दिन भी शाम होते ही लोगों ने पटाखे फोडऩे शुरू कर दिए। हैरत की बात है कि दिल्ली व हरियाणा में पटाखों की जमकर बिक्री हुई। हालांकि सार्वजनिक तौर पर पटाखे बेचते हुए कोई दुकानदार दिखाई नहीं दिया, मगर भीतरखाने दुकानों पर जमकर पटाखों की बिक्री हुई। इसका परिणाम यह हुआ कि दीवाली वाले दिन लोगों ने शाम से लेकर देर रात तक जमकर पटाखे चलाए। चिकित्सा अधिकारियों का कहना है कि इस आतिशबाजी का आने वाले दिनों में कोरोना के केस बढऩे में पूरा सहयोग दिखाई देगा। इसके साथ साथ प्रदूषण में भी भारी स्तर पर बढ़ोतरी देखी जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here