निकिता हत्याकांड: भाई ने कहा हिन्दू की बेटी है तो कोई कुछ भी करेगा, मुस्लमान की होती तो सारा प्रशासन इकठ्ठा हो जाता

0

बल्लभगढ़ । हिन्दू की बेटी है तो कोई कुछ भी करेगा, मुस्लमान की होती तो सारा प्रशासन इकठ्ठा हो जाता यहां। यह व्यथा है बल्लभगढ़ की उस निकिता के भाई की, जिसकी बहन को एक दरिंदे ने केवल इसलिए मौत के घाट उतार दिया, जोकि अपना धर्म बदलने के लिए तैयार नहीं थी। बल्लभगढ़ के अग्रवाल कॉलेज में पढऩे वाली निकिता तौमर की एक मुस्लिम युवक ने बीते सोमवार को दिनदहाड़े उस समय हत्या कर दी थी, जब वह पेपर देकर अपने घर जा रही थी। मेवात के रहने वाला तौसीफ पिछले दो सालों से लगातार निकिता को परेशान कर रहा था। वर्ष 2018 में भी उसने निकिता का अपहरण किया था। मगर तब तौसीफ के परिवार वालों ने माफी मांगकर भविष्य में इस प्रकार की घटना ना होने का आश्वासन देकर मामले को रफा दफा कर दिया था। इसका खामियाजा निकिता को अपनी जान से हाथ धोकर भुगतना पड़ा।

बीते सोमवार को शाम को करीब 4 बजे तौसीफ अपने दोस्त रेहान के साथ निकिता को जबरन कार में डालकर ले जाना चाहता था। निकिता ने किसी तरह से खुद को तौसीफ के चंगुल से छुडाकर भागने का प्रयास किया, लेकिन तभी उसने सरेआम गोली मारकर बच्ची को मौत के घाट उतार दिया। इस हत्याकांड के बाद से लगातार एक मामला सामने आ रहा है। जिसमें इस हत्याकांड को लव जेहाद से जोडक़र देखा जा रहा है। मृतक निकिता के परिजन साफ तौर पर आरोप लगा रहे हैं कि तौसीफ उनकी बच्ची पर मुस्लमान बनकर उसके साथ निकाह करने का दबाव डाल रहा था। मगर निकिता इसके लिए कतई तैयार नहीं थी। इसका परिणाम यह हुआ कि तौफीक ने अपने दोस्त रेहान के साथ मिलकर निकिता की सरेआम गोलीमार हत्या कर दी।

Source-opindia.com

 

इस घटना ने पूरे देश में उबाल ला दिया है। इंडिया टीवी ने मंगलवार को आज की बात में इस खबर को प्रमुखता से दिखाया है। वहीं निकिता के भाई ने भी साफ तौर पर आरोप लगाया है कि उसकी बहन को मुस्लमान ना बनने की सजा मौत के रूप में मिली है। उन्होंने कहा कि आरोपियों को तत्काल सजा मिलनी चाहिए, ना कि यह केस दस से पंद्रह साल तक चलना चाहिए। निकिता के भाई ने कहा कि तौसीफ के खिलाफ पहले भी अपहरण का मुकदमा दर्ज किया गया था, तभी उसके खिलाफ ठोस कार्रवाई की गई होती तो आज उनकी बहन को मौत की सजा ना मिलती। निकिता की मौत के बाद गुस्साए लोगों ने मंगलवार को नेशनल हाईवे जाम कर दिया। सरकार व स्थानीय प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की गई। लोगों के आक्रोश को देखते हुए मंत्री मूलचंद शर्मा ने भी सख्ती दिखाई और पुलिस अधिकारियों से बात कर आरोपियों को जल्द से जल्द गिरफ्तार करने के लिए कहा। मंत्री मूलचंद शर्मा ने एक टवीट के जरिए इस घटना पर दुख भी जताया।


वहीं राज्य के गृहमंत्री अनिल विज ने भी टवीट के जरिए बताया कि आरोपियों को जल्द से जल्द गिर$फतार कर लिया गया था। फरीदाबाद के एसीपी क्राईम अनिल कुमार ने तत्परता दिखाते हुए आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here