गोल गप्पे बेचने वाला यह बालक बना क्रिकेट स्टार, भारतीय क्रिकेट टीम में मिला स्थान

0

Mumbai News (citymail news ) आज हम आपको एक ऐसे जनूनी युवक की कहानी बता रहे हैं, जिसने गोलगप्पे बेचकर , प्लास्टिक के छप्पर में रहकर , कई रातें भूखे होने के बावजूद भी क्रिकेट में अपना कैरियर बनाने की ठानी। आज यह 18 साल का युवक आईपीएल मैचों से अपने कैरियर की शुरूआत करने जा रहा है। यही नहीं इसके संघर्ष की दास्तान सुनकर आपके रौंगटे खड़े हो सकते हैं। यहां हम बात कर रहे हैं 18 साल के यशस्वी जायसवाल की। यूपी के भदौही में रहने वाले इस युवक ने मुंंबई पहुंचकर अपने क्रिकेट के अपने जुनून को पूरा करने के लिए कितने कष्ट झेले हैं। इस युवक को अब भारतीय क्रिकेट टीम अंडर-19 की टीम में शामिल होने का गौरव भी हासिल हुआ है। इसके साथ साथ यशस्वी को आईपीएल मैच में भी खेलने का मौका मिला है, जिसमें वह मात्र 6 रन पर आऊट हो गया।

11 साल की उम्र में मुंबई पहुंचा यशस्वी-

यशस्वी महज 11 साल की उम्र में मुंबई आ गया था। गांव में उनके परिवार की माली हालत ठीक नहीं थी। इसलिए उसके पिता ने यशस्वी को मुंबई में उसके चाचा संतोष के पास रहने के लिए भेज दिया, ताकि वहां रहकर वह कुछ काम कर सके। लेकिन उसके चाचा के एक कमरे के घर में किसी और व्यक्ति के रहने की गुंजाईश तक नहीं थी। इसके चलते उसके चाचा संतोष ने यशस्वी के रहने का इंतजाम यूनाईट मुस्लिम क्लब के ग्राऊंड में लगे टेंट में करवा दिया। 3 साल तक यशस्वी इसी टेंट में धूप, गर्मी बरसात व सर्दी में रहा और अपने क्रिकेट के जुनून को पूरा करने में जुटा रहा। लेकिन 3 साल बाद उसे टेंट से भी निकाल दिया गया, इसके बाद यह बच्चा एक डेयरी शॉप में रहा।

गोलगप्पे (पानी पूरी) बेचता तो कभी कहीं मजदूरी कर जैसे तैसे पैसे कमाता-

अपना खर्च चलाने के लिए कभी वह रामलीला में गोलगप्पे (पानी पूरी) बेचता तो कभी कहीं मजदूरी कर जैसे तैसे पैसे कमाता। ताकि वह भारतीय टीम के लिए क्रिकेट खेल सके। हाल ही में यशस्वी को आईपीएल में खेलने का मौका मिला। लेकिन वह अपने पहले अवसर में इतना सफल प्रदर्शन नहीं कर पाया। अब यशस्वी को एक बार फिर से भारतीय क्रि केट टीम अंडर 19 में खेलने का अवसर मिल रहा है। श्रीलंका दौरे पर जाने वाली टीम में यशस्वी को भी मौका मिला है। इस टीम के कोच सतीश सामंत का कहना है कि यशस्वी में अदभुत खेल भावना है। इस खेल के प्रति इसके जुनून को देखकर आज यह कहा जा सकता है कि आगे चलकर यह बालक क्रिकेट की दुनिया में इतिहास रचेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here