नई शिक्षा नीति पर केंद्रीय मंत्री पोखरियाल ने मानव रचना और डा. प्रशांत भल्ला की सराहना की

0

ASSOCHAM की नेशनल काउंसिल ऑन एजुकेशन ने आज डॉ रमेश पोखरियाल निशंक, शिक्षा मंत्री, भारत सरकार के साथ “राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020: शिक्षा का उज्जवल भविष्य” विषय पर एक वेबिनार का आयोजन किया। पैनल ने शिक्षा मंत्री को एक अच्छी तरह से संरचित और सुविचारित राष्ट्रीय शिक्षा नीति (एनईपी 2020) के लिए बधाई दी और इसके कार्यान्वयन से संबंधित चुनौतियों के साथ-साथ सुझावों को भी रखा।

मंत्री ने डा. भल्ला की जमकर तारीफ की-

शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने अपने विचारों को व्यक्त करते हुए कहा की, प्रशांत भल्ला  की बातें और उनका एक सशक्त कदम जो उनके संपूर्ण मानव विकास और शिक्षा वृद्धि की मंशा की अभिव्यक्ति करता है, मेरे नज़दीक एक सराहनीय गुणवत्ता का प्रतीक है | भारत देश तक्षशिला और नालन्दा विश्वविद्यालय का देश है और ये शिक्षा नीति हमारे देश की नीति है, भारत को एक बार फिर से शिक्षा क्षेत्र में उच्चतम स्थान पे ले जाने के लिए  आज दुनिया के  देशो ने भारत को संपर्क करके हमारे यहाँ के देश की शिक्षा नीति को सराहा है | इस नयी नीति को न सिर्फ शिक्षा की तरफ बल्कि जीवन मूल्यों की तरफ भी मोड़ा गया है | ये बस एक नीति नहीं , एक विचार है हमारे देश में संपूर्ण मानव के विकास और रचना के लिए |  प्रधानमंत्री  के सक्षम नेतृत्व में ये नयी शिक्षा नीति हमारे स्वर्णिम भारत की आधारशिला बनेगी | हमारा स्वर्णिम हिंदुस्तान जो की सक्षम होगा, स्वच्छ होगा और आत्मनिर्भर होगा |”

2020 एक ज्ञान क्रांति लेकर आया है-

निरंजन हीरानंदानी ने सराहना की और कहा : “एनईपी 2020 एक ज्ञान क्रांति लेकर आया है जो प्रत्येक बच्चे को शिक्षा और रोजगार के लिए अवसर प्रदान करेगा। यह एक नया रास्ता है जिसे देश में पहले कभी नहीं देखा गया था। एसोचैम राष्ट्रीय शिक्षा परिषद के चेयरमैन और मानव रचना शैक्षणिक संस्थान के अध्यक्ष डॉ. प्रशांत भल्ला ने भी डॉ.  पोखरियाल के सामने अपने विचार रखे, उन्होने कहा,”नयी शिक्षा  नीति का उद्देश्य यह है की शिक्षा का आधार भारतीयता पर हो और उसका स्तर अन्तराष्ट्रीय हो और शिक्षण संस्थानों का उद्देश्य हो की हर विद्यार्थी शिक्षार्थ आये और सेवार्थ जाए । निश्चित रूप से यह शिक्षा नीति पूर्ण रूप से भारतीय है।”

एसोचैम ने 1000+ शिक्षाविदों, कॉर्पोरेट नेताओं और नीति निर्माताओं को संबोधित किया-

निरंजन हीरानंदानी, अध्यक्ष, एसोचैम; डॉ. प्रशांत भल्ला, अध्यक्ष, एसोचैम राष्ट्रीय शिक्षा परिषद और अध्यक्ष, मानव रचना शैक्षणिक संस्थान; कुंवर शेखर विजेंद्र, सह-अध्यक्ष, एसोचैम राष्ट्रीय शिक्षा परिषद;  विनीत गुप्ता, सह-अध्यक्ष, एसोचैम राष्ट्रीय शिक्षा परिषद;  अनंत कुमार सोनी, प्रो चांसलर और अध्यक्ष, AKS विश्वविद्यालय; सुश्री दिव्या लाल, प्रबंध  नीरज अरोड़ा, एसोचैम ने 1000+ शिक्षाविदों, कॉर्पोरेट नेताओं और नीति निर्माताओं को संबोधित किया |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here