फरीदाबाद वालों हो जाओ सावधान, लाईट जंप की तो घर बैठे पहुंचेगा हजारों का चालान

0

Faridabad News (citymail news) फरीदाबाद वासियों के लिए यह बड़ी खबर है। इन दिनों शहर के चप्पे चप्पे पर तीसरी आंख की नजर है। जरा से चूके तो घर बैठे पहुंचेगा हजारों का चालान। बता दें कि इन दिनों फरीदाबाद शहर में हर रेड लाईट पर सीसीटीवी कैमरे लगे हैं। सीसीटीवी कैमरों से सडक़ों पर आने जाने वाले हर आम व खास पर पूरी नजर है। सुबह से लेकर देर रात तक कैमरों की जरिए शहर के हर कोने पर पूरी नजर रखी जा रही है।

इस तरह से आता है चालान का मैसेज-

बता दें कि जरा सी रेड लाईट जंप करते ही आपके फोन पर चालान काटे जाने का मैसेज आ जाएगा। यानि कि ठीक विदेशी तर्ज पर फरीदाबाद में चालान काटने की प्रक्रिया शुरू हो गई है। फरीदाबाद में स्मार्ट सिटी परियोजना की तर्ज पर 1600 सीसीटीवी कैमरे लगाए जाने हैं। अब तक 800 कैमरे लगाए जा चुके हैं। बाकि कैमरे लगाए जाने को लेकर काम तेजी से चल रहा है। इन सभी कैमरों का कमांड एंड कंट्रोल रूम से जोड़ा गया है, जहां से शहर के चप्पे चप्पे पर नजर रखी जा रही है।

कैमरों से पकड़े हैं कई अपराधी-

हालांकि इन कै मरों के जरिए केवल यातयात व्यवस्था पर ही नजर नहीं रखी जा रही, बल्कि कई अपराधिक वारदातों का खुलासा भी इनके जरिए हुआ है। मुख्य तौर पर एक साल पहले मेट्रो मोड से एक कार चालक एक युवती को लिफ्ट देकर सैनिक कालोनी ले गया था तथा उससे दुष्कर्म का प्रयास किया गया था। हालांकि युवती ने किसी तरह से खुद को सुरक्षित तौर पर बचा लिया था ,मगर इस कार चालक को बड़ी मुश्किल व मेहनत से पुलिस ने सीसीटीवी कैमरों की हैल्प से गिरफ्तार किया था।

रेड लाईट तोडऩे वालों के लिए मुसीबत-

अपराधियों को गिरफ्तार करने के साथ साथ ये कैमरे उन लोगों के लिए भी बड़ी मुसीबत बन गए हैं, जिन्हें कार या बाईक चलाते हुए रेड लाईट तोडऩे की आदत है। ऐसी आदतों को सुधारने के लिए ही सीसीटीवी कैमरे यातायात पुलिस के लिए खासे मददगार साबित हो रहे हैं। रेड लाईट जंप करते ही कम से कम पांच हजार रुपए का चालान किए जाने का प्रावधान है। चालान का यह मैसेज मोबाईल फोन के जरिए घर बैठे आपके पास पहुंच जाएगा। इस चालान को सैक्टर 12 जिला अदालत परिसर में भुगतान करने के बाद ही रेड लाईट तोडऩे की आदत में सुधार हो सकता है। इसलिए आपको इस खबर के जरिए सतर्क किया जा रहा है कि रेड लाईट जंप करने की आदत छोडक़र कुछ सैकेंड का इंतजार करें और फिर एक आम शहरी की हैसियत से सडक़ पार करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here