Faridabad में खुली पानी बेचने वाले टैंकरों की हड़ताल, टयूबवेल व R.O प्लांट की तोड़ी गई सील

0

Faridabad News (citymail news) फरीदाबाद में अवैध रूप से पानी बेचने वाले टैंकर, आर.ओ. प्लांट और टयूबवेल वालों की हड़ताल समाप्त हो गई है। इन सभी ने भारी दबाव बनाकर प्रशासन व सरकार को झुकाने में सफलता हासिल कर ली है। अब ये अवैध टैंकर फिर से पानी की बिक्री कर पाएंगे। यही नहीं बल्कि जिन टयूबवेल व आर.ओ प्लांट को सील किया गया था, वह भी सील तोडक़र धड़ल्ले से पानी बेचने का धंधा फिर से शुरू कर चुके हैं। इसके अलावा नगर निगम द्वारा टयूबवेल व आर.ओ. प्लांट की सील तोडऩे पर एफआईआर दर्ज करवाने के नोटिस भी जारी किए गए थे, लेकिन इन नोटिसों की परवाह किए बिना सभी सील तोडक़र पानी बेचने का धंधा शुरू हो गया है।

पार्षद सहायक ने की पुष्टि-

वार्ड नंबर-5 की महिला पार्षद ललिता यादव के सहायक व एडवोकेट अजय सिंंह ने इसकी पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि टैंकर मालिकों की हड़ताल की वजह से लोगों को पानी की भारी किल्लत झेलनी पड़ रही थी। पेयजल का संकट भी लोगों के लिए सिरदर्द बन गया था। इस विकट समस्या का देखते हुए उन्होंने अपने स्तर पर केंद्रीय मंत्री कृष्णपाल गुर्जर से समाधान करने की अपील की थी। श्री गुर्जर के हस्तक्षेप पर नगर निगम ने अवैध टयूबवेल व आर.ओ. प्लांट को सीलिंग करने का अभियान बंद कर दिया है। अब लोगों को पानी की आपूर्ति आरंभ हो गई है। उन्होंने कहा कि टैंकर व टयूबवेल माफिया को पनपने का अवसर नगर निगम प्रशासन ने दिया है। यदि निगम प्रशासन लोगों को अपने स्तर पर पानी की आपूर्ति कर सके तो फिर इन टैंकर व टयूबवेल माफियाओं की जरूरत ही नहीं है। उन्होंने कहा कि वह भी जानते हैं कि टैंकर माफिया को पनपने देना गलत है, मगर लोगों की मजबूरी को देखते हुए ही उन्हें इस समस्या का समाधान करने के लिए सामने आना पड़ा है।

ब्लैक में पानी खरीद रहे थे लोग-

बता दें कि सीलिंग के विरोध में टैंकर चालक हड़ताल पर चले गए थे। वहीं आर.ओ. प्लांट सील होने से लोगों को ब्लैक में नकली पानी खरीदना पड़ रहा था। 20 लीटर पानी की बोतल लोगों को 25 से 30 रुपए में मिल रही थी। इसके अलावा टैंकरों ने पानी की आपूर्ति बंद कर दी थी। इससे एनआईटी व बडख़ल क्षेत्र में लोगों को बड़ी दिक्कत का सामना करना पड़ रहा था। इसे देखते हुए ही फिलहाल निगम ने सीलिंग अभियान रोक दिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here