कोरोना केसों में हरियाणा ही नहीं, गुरूग्राम, नोएडा व गाजियाबाद से भी आगे निकला फरीदाबाद

0

Chandigarh News (citymail news ) मुख्यमंत्री मनोहर लाल बेशक कोरोना कंट्रोल को लेकर फरीदाबाद प्रशासन की पीठ थपथपा रहे हैं,मगर हकीकत तो यह है कि इस शहर में तेज गति से यह बीमारी अपना ठिकाना बना रही है। आश्चर्य की बात है कि हरियाणा में ही नहीं बल्कि राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के प्रमुख शहरों नोएडा, गाजियाबाद व गुरूग्राम से भी फरीदाबाद बहुत आगे निकल चुका है। इस औद्योगिक नगरी के आंकड़ों पर नजर डाली जाए तो इस शहर ने हर रोज गुरूग्राम, नोएडा व गाजियाबाद को पछाड़ा है। इसके बावजूद मुख्यमंत्री ना जानें क्यों फरीदाबाद प्रशासन को शाबासी दे रहे हैं।

  • सोमवार को 153 नए पॉजीटिव केस आए-

फरीदाबाद जिले में कोरोना पॉजीटिव के आंकड़े में सोमवार को 153 का इजाफा करते हुए 10280 पर पहुंच गया है। वहीं जिले में अब तक कोरोना से 141 लोगों की मौत भी हो चुकी है। यह आंकड़ा पूरे प्रदेश के साथ साथ एनसीआर के गुरूग्राम, नोएडा व गाजियाबाद ाहरों से भी अधिक है। गुरूग्राम की बात करें तो वहां पॉजीटिव मरीजों का आंकड़ा 9714 है और इस जिले में 125 मरीजों की मौत हुई है। गुरूग्राम अब इन आंकड़ों के साथ हरियाणा में दूसरे नंबर पर आ गया है, जबकि इससे पहले गुरूग्राम पहले स्थान पर था।

  • नोएडा व गाजियाबाद में है यह स्थिति-

उत्तर प्रदेश के साथ साथ दिल्ली के दो प्रमुख शहरों नोएडा व गाजियाबाद में कोरोना की स्थिति फरीदाबाद व गुरूग्राम से बेहतर है। नोएडा में कोरोना पॉजीटिव का कुल आंकड़ा 5945 पर है और गाजियाबाद में यह संख्या नोएडा से करीब सौ केस कम हैं। गाजियाबाद में 5853 पॉजीटिव केस हैं। यूपी सरकार ने समय रहते इन दोनों बड़े शहरों को कंट्रोल करने की मुहिम शुरू कर दी थी। बता दें कि उत्तर प्रदेश के ये दोनों बड़े शहर दिल्ली के साथ लगते हुए हैं। पंरतु सरकार ने कई दफा इन दोनों शहरों की दिल्ली से सटी सीमाओं को सील भी किया है। फिलहाल यूपी में शनिवार व रविवार को पूरी तरह से लॉकडाऊन लागू हैं, जिसके चलते इन दोनों शहरों में अधिक मूवमेंट नहीं होती। इसका लाभ ना केवल उत्तर प्रदेश बल्कि नोएडा व गाजियाबाद को भी मिल रहा है।

  • स्वास्थ्य विभाग का दावा-

हरियाणा में स्वास्थ्य विभाग का दावा है कि फरीदाबाद में बहुत तेजी से कोरोना को कंट्रोल किया गया है, इस जिले के लिए उनका कहना है कि रिकवरी रेट 90 प्रतिशत से भी अधिक है। लेकिन हकीकत यह है कि सरकारी आंकड़ें चाहे कुछ भी कहें, मगर फरीदाबाद में हर रोज कोरोना पॉजीटिव की संख्या 150 से अधिक आ रही है। इसके अलावा इस भारी आबादी वाले औद्योगिक जिले में कोरोना टेस्टिंग की स्पीड माशा अल्लाह है। यही वजह है कि इस जिले में पॉजीटिव का आंकड़ा कम और रिकवरी रेट बढ़ता हुआ दिखाई दे रहा है। स्वास्थ्य विभाग की फुल कोशिश के बावजूद फरीदाबाद में हर रोज काफी संख्या में पॉजीटिव केस सामने आ रहे हैं। इसके बावजूद सरकार आंख बंदकर स्वास्थ्य विभाग की पीठ थपथपा रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here