पलवल में दोहरी मार, कोरोना के साथ डेंगू व मलेरिया भी बना जानलेवा

0

Palwal News (citymail news ) पलवल जिले में कोरोना के साथ साथ लोगों को मलेरिया व डेंगू से भी लड़ाई लडऩी होगी। इस जिले में जहां लगातार कोरोना के केस फिर से बढऩे लगे हैं, वहीं अब लोगों को डेंगू व मलेरिया से बचाव करना एक बड़ी चुनौती बन गई है। स्वास्थ्य विभाग का मानना है कि मच्छरों के पनपने की वजह से यह दोनों बीमारी गंभीर रूप धारण करती जा रही हैं। लोगों को अब कोरोना, डेगू व मलेरिया से भी अपना बचाव करना होगा।

  • सिविल सर्जन ने बताया तरीका-

सिविल सर्जन डा. ब्रह्मदीप ने बताया कि पलवल जिले में मच्छरों की समस्या कई सालों से चली आ रही है, जिसके कारण मलेरिया एवं डेंगू के बहुत केस निकलते रहते है, जिसका मुख्य कारण मच्छरों का ज्यादा से ज्यादा पनपना है।
सिविल सर्जन ने बताया कि इस साल स्वास्थ्य विभाग ने मलेरिया व डेंगू पर भी पूरा ध्यान देते हुए पूर्ण कंट्रोल करने का लक्ष्य रखा है। उन्होंने बताया कि जिला में अब तक मलेरिया व डेंगू का किसी भी प्रकार का कोई भी मामला नही है। फिर भी जिला पलवल का स्वास्थ्य विभाग मलेरिया व डेंगू को लेकर पूरी तरह से मुस्तैदी के साथ अपने कार्य मे लगा हुआ है। अब तक जिला पलवल मे मलेरिया की जांच के लिए पिछले महीने तक 43 हजार 679 से ज्यादा बुखार के मरीजो की जांच की जा चुकी है, जिसमे एक भी मलेरिया का मरीज नही पाया गया है। जून के महीने को समस्त जिले मे एंटी मलेरिया माह के रूप मे मनाया गया, जिसमे सभी गांवो मे आशा व एम.पी.एच.डब्ल्यू (मेल) ने घर-घर जाकर मलेरिया रोधी एक्टिविटीज की, जिसमे लोगो को मलेरिया व डेंगू के प्रति जागरूक किया गया।

  • 270 घरो में चेतावनी  नोटिस दिए –

इसके अलावा स्वास्थ्य विभाग की टीम कोविड-19 के बारे मे भी लोगो को सामजिक दूरी रखने व मास्क लगाने के लिए भी जागरूक कर रहे है। जिले मे मलेरिया विभाग की टीमो द्वारा घरो की जांच की गई है। मच्छर का लार्वा पाए जाने पर 270 घरो में चेतावनी सम्बन्धी नोटिस भी दिए जा चुके है। यह तभी संभव हो सकता है जब समाज का हर एक नागरिक जागरूक हो कि मच्छर कहां से पैदा होते है जैसे कि मच्छर कूलर के पानी, एकत्रित पानी, फ्रीज के पिछले ट्रे, पक्षियों के पानी के बर्तन, पुराने टायरो में पानी के एकत्रित होने से मच्छर पैदा होते है। हम स्वयं अपने घर व आस-पास नजर रखे व कहीं पर भी पानी इक_ïा ना होने दे।

  • रविवार का दिन ड्राई-डे के तौर पर मनाएं-

रविवार का दिन हम सब ड्राई-डे के तौर पर मनाएं। अपने घर व आस-पड़ोस में सारा पानी गिराकर और बर्तनों को सुखा दे, जिससे की मच्छरो को पनपने का मौका ही ना मिले। उन्होंने कहा कि आज ही हम सब प्रण ले कि हर रविवार की तरह इस रविवार को भी ड्राई-डे के रूप में मनाएगे। हमेशा पूरी बाजू के कपडे पहने। मॉस्किटो रिपिलेंट का प्रयोग करे और अगर किसी को भी मलेरिया व डेंगू के लक्षण नजर आते है तो तुरंत स्वास्थ्य विभाग से संपर्क करें। उन्होंने प्राइवेट डॉक्टर्स से भी आह्वïान किया है कि इस प्रकार के कसिज के लिए स्वास्थ्य विभाग को रिपोर्ट करें। मलेरिया व डेंगू से लडऩे के लिए जागरूकता ही एक हथियार है। आइए हम सब स्वयं भी जागेंगे और औरों को भी जगाएंगे और सब मिलकर अपने शहर को मलेरिया व डेंगू से मुक्त कराएंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here