पलवल में नहीं थम रहा कोरोना: हुए कुल 592 पॉजीटिव, 11 हजार 376 सर्विलांस पर

0
- Advertisement -

Palwal News (citymail news )सिविल सर्जन डॉ. ब्रह्मदीप ने बताया कि जिले में सर्विलांस पर 11 हजार 376 लोग आ चुके है और उनमे से 8 हजार 345 लोगों का सर्विलांस पूरा हो चुका है तथा अभी भी 3 हजार 31 लोग सर्विलांस पर है। उन्होंने बताया कि जिला में अभी तक 592 में से 457 लोग ठीक होकर घर जा चुके है। आइसोलेशन वार्ड में 34 व्यक्ति एडमिट है। जिला में 178 सैंपल की रिपोर्ट का इंतजार है। कुल 11 हजार 321 सैंपल में से 10 हजार 562 की रिपोर्ट नेगेटिव है। उन्होंने बताया कि हमारे पास लगातार दूसरे प्रेदेशों से काफी लोग आ रहे है। लगातार उनकी स्क्रीनिंग जारी है और नागरिक अस्पताल में गर्भवती महिलाओं, आपातकालीन में आने वाले सभी मरीजों की जांच की जा रही है।

  • सिविल सर्जन के अनुसार-

सिविल सर्जन के अनुसार अभी तक स्वास्थ्य विभाग की तरफ से 9 हजार 274 लोगों को साइक्लोजिकल काउंसलिंग की जा चुकी है। उन्होंने लोगों से निवेदन किया है कि कही पर भी भीड़ दिखती है तो जिम्मेदार नागरिक होने के नाते एक-दूसरे को सोशल डिस्टेंसिंग के प्रति जागरूक करें। उन्होंने लोगो से अपील की है कि कोरोना के खिलाफ जंग में स्वास्थ्य विभाग व जिला प्रशासन का साथ देंगे तो जल्द ही हम इस जंग में जीत पाएंगे। उन्होंने लोगों से अपील की है कि जब तक अत्यंत जरुरी न हो तब तक घर से न निकले और सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखें तथा मास्क पहनकर ही घर से बाहर निकलें। अपने आस-पास किसी भी संदिग्ध मरीज की जानकारी मिले तो तुरंत हेल्पलाइन नंबर पर जानकारी देवें।
सिविल सर्जन डा. ब्रह्मïदीप सिंह ने बताया कि अस्सी प्रतिशत से अधिक कोरोना संक्रमित मरीज आसानी से घर पर ही रहकर रोग-मुक्त हो सकते है। उन्होंने कहा कि यदि आपके घर या पड़ोस में कोई कोरोना संक्रमित मरीज है तो घबराएं नहीं। अस्सी प्रतिशत से अधिक कोरोना मरीजों में लक्षण लगभग न के बराबर होते है। ऐसे मरीज अपने घर पर ही आसानी से ठीक हो सकते है।

  • मरीज के लिए निर्देश-

हमेशा ट्रिपल लेयर मास्क पहने व हर आठ घंटे में इसे बदले। गीला होने पर तुरंत बदले व एक प्रतिशत सोडियम हायपोक्लोराइट घोल में धोकर निस्तारण करें। एकांतवास के अंत तक अपने कमरे में ही रहे। अपना निजी शौचालय ही इस्तेमाल करें। नियमित रूप से गर्म पानी व चाय एवं पौष्टिक तथा संतुलित भोजन ही खाए। छीकते या खांसते समय रुमाल व कोहनी का इस्तेमाल करें। अपने हाथ नियमित रूप से साबुन-पानी या अल्कोहल युक्त सेनेटाइजर से साफ करें। रोगी अपने कमरे में ही भोजन करे। अपने बर्तन व बिस्तर तथा तौलिया आदि अलग रखे। मदिरा सेवन व ध्रूमपान से बचें। अपना मोबाइल फोन भी अलग रखे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here