Tuesday, December 7, 2021

SRS के ठग अनिल जिंदल के फरीदाबाद व बैंगलोर में कई ठिकानों पर सीबीआई की छापेमारी

Must Read

मात्र 28 रुपए का कर्ज चुकाने अमेरिका से हरियाणा आया ये शख्स, साल 1954 में ली थी इस हलवाई से उधारी

हिसार। कहते हैं कि जीवन में यदि आपने किसी से उधार लिया है तो वह आपको अगले जन्म में...

मुसीबत है कि पीछा नहीं छोड़ती, 86 साल की उम्र में भी 6 लोगों का पेट पाल रहे हैं ये बुजुर्ग बाबा

फ़रीदाबाद । आमतौर पर कई लोग छोटी छोटी मुश्किलों के सामने भी हार मानकर बैठ जाते हैं लेकिन ऐसे...

पेट्रोल-डीजल की महंगाई से बचना है तो करें ये मामूली सा उपाय, मिलेगी बड़ी राहत और बचेंगे हजारों रुपए

नई दिल्ली। पेट्रोल और डीजल के रेटों को लेकर इन हाय-तौबा मची हुई है। देश में हर रोज पेट्रोल...

Faridabad News (citymail news )  जेल में बंद ठग ऑफ फरीदाबाद अनिल जिंदल की मुसीबतें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। हालांकि जेल से छूटने के लिए जमानत के लिए लगातार प्रयास कर रहे एसआरएस के मालिक अनिल जिंदल की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। वीरवार को सीबीआई ने जिंदल के कई ठिकानों पर छापेमारी की है। इस छापेमारी के बाद एसआरएस के मालिकाना हक रखने वाले जिंदल को अदालत से जमानत मिलने में खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है।

  • हजारों करोड़ के धोखाधड़ी कांड से जुड़ा है जिंदल-

बता दें कि हजारों करोड़ रुपए की धोखाधड़ी से जुड़े मामलों को लेकर अनिल जिंदल व उसकी कंपनी में डायरेक्टर रहे कई लोग फरीदाबाद की नीमका जेल में बंद हैं। जिंदल पर आरोप है कि उसने लोगों को मोटे ब्याज का लालच देकर कई हजार करोड़ रुपए लिए और बाद में उन्हें ठेंगा दिखा दिया। इसी प्रकार से रियल एस्टेट का कारोबार करने वाली अनिल जिंदल की कंपनी एसआरएस पर कई बैंकों से हजारों करोड़ रुपए का कर्ज डकारने का भी आरोप है। इसी मामले में ईडी की कार्रवाई तो चल रही ही रही है, वीरवार को सीबीआई ने भी जिंदल के खिलाफ छापेमारी कर बड़ी कार्रवाई को अंजाम दिया है।

  • फरीदाबाद व बैंगलोर स्थित निम्न 9 स्थानों पर तलाशी ली गयी

प्राप्त जानकारी के अनुसार केन्द्रीय जाँच ब्यूरो (CBI) के द्वारा आज SRS Group द्वारा विभिन्न बैंकों व वित्तीय संस्थानों के साथ किये गए हजारों करोड़ रूपए की हेराफेरी, जालसाजी और घोटालों के मामलों में इस ग्रुप से जुड़े विभिन्न स्थानों तथा निदेशकों (Directors) के फरीदाबाद व बैंगलोर स्थित निम्न 9 स्थानों पर तलाशी ली गयी और पूछताछ की गई :

1. SRS टावर, सेक्टर 30, मथुरा रोड, फरीदाबाद।

2. SRS मॉल, सेक्टर 12, फरीदाबाद।

3. फ्लैट न. 701, ओंकारेश्वर सोसायटी, सेक्टर – 65, फरीदाबाद ( बिशन बंसल का निवास स्थान )।

4. मकान न. E-1/111, सेक्टर – 11, फरीदाबाद ( नानक चन्द तायल का निवास स्थान )।

5. मकान न. 413, सेक्टर – 9, फरीदाबाद ( राजेश सिंगला का निवास स्थान )।

6. मकान न. 117, सेक्टर – 9, फरीदाबाद ( जे के गर्ग के भाई रविन्द्र गर्ग का निवास स्थान )।

7. मकान न. 529, सेक्टर – 14, फरीदाबाद ( जे के गर्ग के भाई शैलेन्द्र गर्ग का निवास स्थान )।

8. मकान न. 888, सेक्टर – 15, फरीदाबाद ( अनिल जिन्दल के समधी गोपाल गर्ग का निवास स्थान )।

9. फ्लैट न. 2071, टावर – 2, प्रेस्टीज व्हाइट मीडोज, नजदीक व्हाइट फील्ड पुलिस स्टेशन, व्हाइट फील्ड, बैंगलोर ( अनिल जिन्दल और उसके भाई विनोद जिन्दल का निवास स्थान )

  • CBI की प्रत्येक जाँच टीम में 5 सदस्य थे-

जानकारी मिली है CBI की प्रत्येक जाँच टीम में 5 सदस्य थे जिनमें से 3 सी.बी.आई. अधिकारी और 2 बैंक अधिकारी सम्मिलित थे। पता चला है कि गत कई वर्षों से घोटाले की जाँच के चलते किसी के यहाँ से कोई बहुत ज्यादा आपत्तिजनक कागजात तो टीमों के हाथ नही लगे। किन्तु फिर भी यह टीमें अपने साथ कुछ दस्तावेज ले गयी है। साथ ही उक्त टीमों के द्वारा प्रत्येक स्थान पर उपस्थित किसी एक प्रमुख व्यक्ति के बयान भी कलमबद्ध किये गए।

  • CA सतीश मित्तल ने बताया-

SRS पीड़ित संघ के संयोजक CA सतीश मित्तल ने बताया कि कुछ whistle blowers और विभिन्न बैंकों की शिकायतों पर लगभग 1 वर्ष पूर्व CBI ने अपने यहाँ प्राथमिक जाँच हेतु शिकायतें दर्ज कर उनकी जाँच की कार्यवाही प्रारम्भ कर दी थी। इस दौरान उन्होंने विभिन्न बैंकों से घोटालों से सम्बंधित अनेकों दस्तावेज बैंकों से व अन्य स्रोतों से एकत्र कर लिए थे। उक्त जांच की कार्यवाही CBI के स्तर पर लगातार जारी थी। आज की कार्यवाही उसी जाँच की दिशा में एक और कदम है।

  • इन बैंको से लिया था जिंदल ने कर्जा-

CA सतीश मित्तल ने यह भी बताया कि CBI द्वारा की गई  कार्यवाही का सम्बन्ध Canara Bank द्वारा SRS ग्रुप की एक कम्पनी SRS Real Estate Limited को प्रदान किये गए 110 करोड़ रुपये के ऋण से था, जो अब पूर्णतया NPA हो चुका है तथा इस सम्बन्ध में कैनरा बैंक द्वारा काफी समय पूर्व CBI के पास शिकायत दर्ज की जा चुकी है। CA सतीश मित्तल ने आगे बताया कि उक्त ऋण कैनरा बैंक द्वारा ग्रुप के एक प्रोजेक्ट SRS Royal Hills को पूरा करने के लिए प्रदान किया गया था। कैनरा बैंक को धोखे में रख कर इसी प्रोजेक्ट पर स्टेट बैंक ऑफ इंडिया से भी ऋण प्राप्त किया गया। इस सम्बन्ध में भारतीय स्टेट बैंक की शिकायत पर एक मुकदमा फरीदाबाद की अदालत में भी विचाराधीन है। सतीश मित्तल के अनुसार SRS ग्रुप की अनेकों कम्पनियों पर इस समय विभिन्न बैंकों तथा वित्तीय संस्थानों का लगभग 2,163.50 करोड़ का ऋण बकाया है जो पूरी तरह से NPA हो चुका है।

- Advertisement -
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Connect With Us

223,344FansLike
3,123FollowersFollow
3,497FollowersFollow
22,356SubscribersSubscribe

Latest News

मात्र 28 रुपए का कर्ज चुकाने अमेरिका से हरियाणा आया ये शख्स, साल 1954 में ली थी इस हलवाई से उधारी

हिसार। कहते हैं कि जीवन में यदि आपने किसी से उधार लिया है तो वह आपको अगले जन्म में...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -
Do NOT follow this link or you will be banned from the site!
error: Content is protected !!