Tuesday, December 7, 2021

डीसी ने दी चेतावनी, फरीदाबाद में कोरोना पर सहन नहीं होगी लापरवाही

Must Read

मात्र 28 रुपए का कर्ज चुकाने अमेरिका से हरियाणा आया ये शख्स, साल 1954 में ली थी इस हलवाई से उधारी

हिसार। कहते हैं कि जीवन में यदि आपने किसी से उधार लिया है तो वह आपको अगले जन्म में...

मुसीबत है कि पीछा नहीं छोड़ती, 86 साल की उम्र में भी 6 लोगों का पेट पाल रहे हैं ये बुजुर्ग बाबा

फ़रीदाबाद । आमतौर पर कई लोग छोटी छोटी मुश्किलों के सामने भी हार मानकर बैठ जाते हैं लेकिन ऐसे...

पेट्रोल-डीजल की महंगाई से बचना है तो करें ये मामूली सा उपाय, मिलेगी बड़ी राहत और बचेंगे हजारों रुपए

नई दिल्ली। पेट्रोल और डीजल के रेटों को लेकर इन हाय-तौबा मची हुई है। देश में हर रोज पेट्रोल...
Faridabad News (citymailnews ) उपायुक्त यशपाल ने कहा कि कोरोना से मजबूती के साथ फाइट करनी है और इसके संक्रमण से लोगों को बचाना भी है। इसके लिए जोनल, मानीटरिंग, सेक्टर व लोकल कमेटियां बनाई गई हैं, जो चेन के रूप में कार्य कर रही हैं तथा सभी प्रकार की एसओपी को अपने एरिया में लागू करवा रही हैं। ये कमेटियां पूरी कर्तव्यनिष्ठा व सक्रियता से कार्य करें। लापरवाही को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा तथा संबंधित कर्मचारी के खिलाफ आवश्यक कार्यवाही अमल में लाई जाएगी।

लापरवाही पर अधिकारियों को दी चेतावनी-

उपायुक्त  बल्लबगढ़ शहरी व बल्लबगढ़ ग्रामीण, एनआईटी फरीदाबाद व तिगांव अर्बन से संबंधित जोनल, मानीटरिंग, सेक्टर व लोकल कमेटियों के सदस्यों को उनके कार्य के संबंध में आयोजित प्रशिक्षण के दौरान संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि जिला में अब दो प्रकार का सर्वे का कार्य किया जा रहा है। दोनों ही सर्वे लोगों की मदद के लिए बहुत जरूरी हैं। पहले सर्वे में फैमिली आईडी के संबंध में प्रत्येक हाउसहोल्ड से संबंधित जानकारी एकत्रित की जानी है। किसी भी आपदा की स्थिति में फैमिली डाटा बहुत जरूरी होता है, ताकि सभी परिवारों तक आवश्यक मदद पहुंचाना संभव हो पाए। आधार नंबर की इसलिए जरूरत है कि परिवार को एक यूनिक आईडी दी जा सके, क्योंकि इससे डाटा को एक्सैस करना आसान होता है। इस कार्य को प्रदेश स्तर पर मुख्यमंत्री स्वयं मॉनिटर कर रहे हैं, इसलिए इसकी गंभीरता को देखते हुए जल्द से जल्द इस कार्य को पूरा करें। दूसरा सर्वे प्रत्येक हाउसहोल्ड के व्यक्तियों के स्वास्थ्य के संबंध में हैं। जिला प्रशासन का प्रयास है कि प्रत्येक व्यक्ति के स्वास्थ्य संबंधी जानकारी का डाटा एकत्रित हो, ताकि गंभीर व कई बीमारियों से ग्रसित व्यक्ति की अतिरिक्त देखभाल करना संभव हो पाए। लोगों को भी चाहिए कि वे पूर्ण रूप से सही जानकारी उपलब्ध करवाएं।

इस तरह से पता लगाते हैं बीमारी का –

उपायुक्त ने कहा कि स्वास्थ्य सर्वे के संबंध में स्पष्ट है कि जिन लोगों में आईएलआई के सिम्टम मिलते हैं, उनका टेस्ट करके बीमारी का पता लगाया जाता है और फिर इलाज शुरू किया जाता है। इसके अलावा किसी भी उम्र के व्यक्ति को कोई गंभीर बीमारी है तो उसकी जानकारी भी हमारे पास आ जाती है। ऐसे व्यक्तियों की इम्युनिटी कमजोर होती है और उन्हें कोरोना से खतरा अधिक ज्यादा है। ऐसे मरीजों की पहचान से फायदा यह होगा कि उन्हें इम्युनिटी बूस्ट करने की दवाइयां व उचित परामर्श दिया जा सकता है। इसके अलावा उनका हालचाल जानने के लिए प्रतिदिन उनसे संपर्क भी किया जाएगा। अगर उनमें बीमारी आती है तो उनका इलाज भी तुरंत किया जाएगा। जब भी आप किसी परिवार या आर.डब्ल्यू.ए. के पास जा रहे हैं तो अच्छी प्रकार से उन्हंन इन विषयों के बारे में समझाएं। सभी कमेटियों के सदस्य काम पर लग जाएं तथा प्रतिदिन की रिपोर्ट हर हालत में पहुंचाएं। अगर कोई व्यक्ति गैरहाजिर रहता है तो उसकी रिपोर्ट जिला प्रशासन के पास भेज दें।  अतिरिक्त उपायुक्त सतबीर मान ने भी विस्तार से सभी कमेटियों के सदस्यों को उनके कार्यों के बारे में जानकारी दी।  इस अवसर पर संपदा अधिकारी एवं इंसीडेंट कमांडर परमजीत चहल, एसडीएम त्रिलोकचंद, खंड विकास एवं पंचायत अधिकारी पूजा शर्मा, प्रदीप कुमार व नवनीत कौर, जिला मौलिक शिक्षा अधिकारी शशी अहलावत सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।
- Advertisement -
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Connect With Us

223,344FansLike
3,123FollowersFollow
3,497FollowersFollow
22,356SubscribersSubscribe

Latest News

मात्र 28 रुपए का कर्ज चुकाने अमेरिका से हरियाणा आया ये शख्स, साल 1954 में ली थी इस हलवाई से उधारी

हिसार। कहते हैं कि जीवन में यदि आपने किसी से उधार लिया है तो वह आपको अगले जन्म में...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -
Do NOT follow this link or you will be banned from the site!
error: Content is protected !!