सुप्रीम कोर्ट में पहुंचा गैंगस्टर विकास दुबे का मामला: पढ़ें क्यों दायर की गई जनहित याचिका

0

New Delhi News (citymail news ) यूपी के गैंगस्टर एवं 8 पुलिस वालों की हत्या का आरोपी विकास दुबे शुक्रवार को बेशक पुलिस एनकाऊंटर में मारा गया हो, लेकिन इस पूरे प्रकरण को लेकर सुप्रीम कोर्ट में एक जनहित याचिका दायर की गई है। इस याचिका के माध्यम से पुलिस की भूमिका को लेकर सीबीआई जांच की मांग की गई है। हालांकि यह याचिका वीरवार की रात 9 जुलाई को दायर की गई थी, जिसमें विकास दुबे के एनकाऊंटर की आशंका भी जताई गई थी। हालांकि इस याचिका पर सुनवाई होती, उससे पहले ही विकास दुबे का एनकाऊंटर कर दिया गया है। एक वकील धनश्याम उपाध्याय द्वारा यह जनहित याचिका दायर की गई है। अब याचिकाकर्ता इस मामले को लेकर कोर्ट से शुक्रवार को ही सुनवाई करने की अपील कर सकते हैं।

पढ़ें क्या कहा गया है याचिका में-

याचिका में कहा गया था कि मीडिया रिपोर्टस के अनुसार विकास दुबे ने उज्जैन के महाकाल मंदिर में खुद ही गार्ड को अपने बारे में जानकारी दी तथा मध्यप्रदेश पुलिस को भी अपने आप गिरफ्तारी दी, ताकि मुठभेड से बच सके। याचिका में इस पूरे मामले की जांच सीबीआई से करवाने की मांग की गई है। कोर्ट से यह भी कहा गया है कि दुबे के घर, शापिंग मॉल व गाडिय़ां तोडऩे पर यूपी पुलिस के खिलाफ मुकदमा दर्ज होना चाहिए तथा मामले की जांच के लिए समय सीमा निर्धारित की जानी चाहिए। वीरवार को दायर इस याचिका में विकास दुबे को एनकाऊंटर में पुलिस द्वारा मारे जाने का संदेह जताते हुए उसकी जान बचाने की भी मांग की गई थी। हालांकि इस याचिका पर सुनवाई होती, उससे पहले ही शुक्रवार की सुबह करीब 6:30 बजे विकास दुबे को उज्जैन से लाते वक्त कानपुर के पास ही एनकाऊंटर में मार दिया गया है।

READ MORE -आखिरकार मारा गया यूपी का गैंगस्टर व 8 पुलिस वालों का हत्यारा विकास दुबे

गर्माया सियासी माहौल, सीबीआई जांच की मांग-

इस मामले को लेकर देश भर में सियासी माहौल गर्मा गया है। यूपी की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती, यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव एवं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिगविजय सिंह ने यूपी पुलिस पर फर्जी मुठभेड करने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि विकास दुबे को जानबूझकर मारा गया है, ताकि उसे सरंक्षण देने वाले नेता व पुलिस अधिकारियों को बचाया जा सके। इन दोनों नेताओं ने कहा कि यूपी पुलिस ने उन नेता व अधिकारियों को बचाने के लिए विकास दुबे को मारा है। इसलिए वह इस मामले की सीबीआई से जांच करवाने की मांग कर रहे हैं। पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने कहा कि उन्होंने पहले ही शंका जताई थी कि विकास दुबे का एनकाऊंटर कर उन राजनेता व पुलिस अधिकारियों को बचाया जा सकता है, जिन्होंने विकास दुबे को इतना पावरफुल बना दिया कि वह पुलिस अधिकारियों की हत्या करने से भी नहीं डरा। उनकी शंका के अनुसार विकास दुबे का एनकाऊंटर कर उसे मार दिया गया है। लेकिन वह मांग करते हैं कि इस मामले की निष्पक्ष जांच होनी चाहिए, ताकि उन लोगों के चेहरे सामने आ सकें, जिन्होंने विकास दुबे को सरंक्षण देकर गैंगस्टर बनाया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here