एनकाऊंटर के बाद बड़ा खुलासा, विकास दुबे ने महिलाओं को बंधक बनाकर ली थी फरीदाबाद में शरण

0

Faridabad News (citymail news ) विकास दुबे ने फरीदाबाद में श्रवण मिश्रा के घर पर उनकी महिलाओं को डरा धमका कर शरण ली थी। एक तरह से उसने पूरे परिवार को डराकर उनके घर पर कब्जा कर लिया था। इस बात का खुलासा शुक्रवार को विकास दुबे के एनकाऊंटर के बाद जेल में बंद श्रवण की पत्नी व अंकुर की मां शांति मिश्रा ने किया। जैसे ही उन्हें आज विकास दुबे की मौत की खबर मिली तो संतोष जाहिर किया।

बता दें कि यूपी के गैंगस्टर विकास दुबे ने 6 जुलाई को नहरपार स्थित हरि नगर में श्रवण मिश्रा व अंकुर मिश्रा के घर पर शरण ली थी। शुक्रवार को मीडिया से बात करते हुए अंकुर की मां शांति मिश्रा व उसकी पत्नी गुंजन ने गैंगस्टर विकास दुबे को लेकर यह खुलासा किया है। उन्होंने बताया कि विकास दुबे, प्रभात और अमर दुबे ने फरीदाबाद के हरि नगर में शरण ली थी। इन सभी पर कानपुर के बिकरू गांव में आठ पुलिस वालों की नृशंस हत्या का आरोप था। फिलहाल यूपी पुलिस ने इन तीनों को ही मुठभेड में मार गिराया है। मगर इससे पहले इन तीनों ने फरीदाबाद के इस परिवार को खासी पीड़ा भी पहुंचाई है। इन तीनों को शरण देने के आरोप में श्रवण मिश्रा व उनका बेटा अंकुर को फरीदाबाद पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था। ये दोनों 14 दिन की न्यायिक हिरासत में हैं।

विकास दुबे की मौत पर संतोष जताया-

विकास के एनकाऊंटर के बाद मीडिया से बात करते हुए शांति मिश्रा ने कहा कि 6 जुलाई को विकास दुबे व उनके साथी मुंह पर मास्क व चश्मा लगाकर उनके घर में घुस आए थे। दरवाजा खोलते ही वह सीधे उनके घर में घुस आए। जब उन्होंने मास्क हटाया तो उन्होंने उसे पहचाना। शांति के अनुसार उन्होंने विकास दुबे को वहां से जाने के लिए कहा था। मगर विकास ने जबरन घर में रहने की बात की। जिस समय ये तीनों उनके घर आए तो घर में उनके पति व बेटा काम पर गए हुए थे। इस बीच उन्होंने विकास दुबे को पुलिस के सामने सरेंडर होने की सलाह भी दी थी। यह सुनकर विकास उनसे गुस्सा हो गया था और उन्हें धमकाने लगा। शांति के अनुसार उनकी विकास से कोई रिश्तेदारी नहीं थी, हां जान पहचान जरूर थी। अंकुर जब शाम को घर आया तो उसने भी विकास दुबे से चले जाने की बात कही थी। मगर वह जबरन उनके घर में घुसकर बैठ गया था। यही नहीं बल्कि उसने अंकुर की पत्नी का फोन भी अपने पास रख लिया था। बाद में वह उन सभी को डराने धमकाने लगा और श्रवण व अंकुर के कागज भी अपने पास रख लिए। वह अंकुर को धमकी देकर अपने साथ होटल ले गया और अपने लिए कमरा बुक करवाया। शांति मिश्रा व अंकुर की पत्नी ने पुलिस के उच्च अधिकारियों से इस मामले में खुद को निर्दोष बताते हुए निष्पक्ष जांच की मांग की है। उन्होंने कहा कि विकास व उसके साथियों के मारे जाने के बाद अब उनका पति व बेटा जल्द छूटकर आ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here