बिना काम के MCF ने ठेकेदारों को दे दी करोड़ों रुपए की पेमेंट, दर्ज होगी FIR

0
- Advertisement -
Faridabad News (citymail news ) बिना काम किए पचास करोड़ रुपए की पेमेंट लेने वाले ठेकेदारों के खिलाफ चार पार्षदों ने नगर निगम फरीदाबाद के कमिश्नर को शिकायत दी है। यह मामला खासा तूल पकड़ सकता है। निगम कमिश्नर ने कहा है कि वह इस मामले की विजिलेंस से जांच करवाएंगे तथा पुलिस में मुकदमा भी दर्ज करवाएंगे। पार्षदों ने बिना काम के करोड़ों रुपए की पेमेंट लेने वाले ठेकेदारों के नाम भी कमिश्नर को बताए हैं। शिकायत देने वाले पार्षदों में बल्लभगढ़ से तेजतर्रार पार्षद दीपक चौधरी, एनआटी से सुरेंद्र अग्रवाल, महेंद्र सरपंच व दीपक यादव शामिल हैं। इन चारों ने निगम कमिश्नर को बताया कि उन्होंने आरटीआई के माध्यम से जानकारी हासिल की है कि वर्ष 2017 से 2019 के बीच उनके वार्डों में करीब पचास करोड़ रुपए के विकास कार्य करवाने की बात कही गई है, जबकि यह कार्य हुए ही नहीं और ठेकेदारों को भुगतान कर दिया गया। यह अपने आप में बहुत बड़ा घोटाला है। हैरत की बात है कि यह भुगतान भी जनरल फंड से किया गया है। पार्षद दीपक चौधरी ने बताया कि एक ओर तो निगम के कई ठेकेदार पिछले तीन वर्षों से काम करने के बावजूद अपनी पेमेंट के लिए धक्के खा रहे हैं, मगर वहीं दूसरी ओर निगम के चहेते व बड़े अधिकारियों की मेहरबानी से ऐसे ठेकेदारों की पेमेंट कर दी गई, जिन्होंने काम ही नहीं किए। उन्होंने संदेह जताया कि यदि इस मामले की निष्पक्ष स्तर पर जांच हो गई तो कई बड़े अधिकारियों के चेहरे बेनकाब हो जाएंगे। उनके अनुसार यह अधिकारी उन ठेकेदारों के साथ पार्टनरशिप में काम करके नगर निगम को करोड़ों रुपए का चूना लगा चुके हैं।
सीएम फंड में भी बड़े घोटाले की आशंका
पार्षद दीपक चौधरी ने कहा है कि बल्लभगढ़ विधानसभा क्षेत्र में 2014 से लेकर 2019 के बीच में सीएम घोषणा के अंतर्गत 210 करोड़ रुपए की पेमेंट की गई है। यह राशि सीएम फंड से ही जारी हुई है। उनके अनुसार इस राशि के तहत हुए विकास कार्यों की भी उचित व निष्पक्ष जांच होनी चाहिए। इसमें भी बड़ा घोटाला सामने आ सकता है। उनके अनुसार सीएम फंड में भी कई काम ऐसे हो सकते है, जोकि बिना काम किए ही पेमेंट जारी कर दी गई हो। इसलिए इसकी भी जांच होनी चाहिए। दीपक चौधरी के अनुसार उन्होंने इस संदर्भ में निगम से पूरा ब्यौरा मांगा है। वह इस मुद्दे पर मुख्यमंत्री मनोहर लाल व डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला से मिलकर उच्च स्तरीय जांच की मांग करेंगे।

कई ठेकेदारों के बकाया हैं करोड़ों रुपए

नगर निगम फरीदाबाद में जहां एक ओर कुछ ठेकेदारों को बिना काम किए ही करोड़ों रुपए का भुगतान कर दिया, वहीं दूसरी ओर कई सालों से काम करके पेमेंट के लिए धक्के खा रहे ठेकेदारों को हाईकोर्ट का सहारा तक लेना पड़ा है। निगम ठेकेदार यूनियन के अध्यक्ष गिर्राज सिंह ने बताया कि 50 से अधिक ठेकेदार ऐसे हैं, जिन्होंने जनरल फंड से काम किए और 60 करोड़ रुपए से अधिक की रकम उन्होंने नगर निगम से लेनी है। मगर ढाई साल से वह धक्के खा रहे हैं, परंतु कोई उनकी सुनने के लिए तैयार ही नहीं। इसके अलावा 30 ठेकेदार ऐसे भी हैं, जिन्होंने सीएम फंड के अंतर्गत काम किए हैं, जिनकी रकम करीब 60 करोड़ रुपए है, मगर पिछले 9 महीने से उनका भी भुगतान नहीं किया जा रहा है। इस तरह से निगम में तमाम बड़े घोटाले हो गए और अधिकारी सब कुछ जानते हुए भी चुप्पी साधे हुए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here