देंखे कैसे फरीदाबाद पुलिस से बच निकला यूपी का मोस्ट वाटेंड गैंगस्टर विकास दुबे

0

उत्तर प्रदेश का मोस्ट वाटेंड गैंगस्टर विकास दुबे आज पुलिस के हत्थे चढऩे से बच गया, लेकिन उसका एक साथी जरूर पुलिस ने दबोच लिया। यह मामला है दिल्ली के साथ लगते फरीदाबाद का। फरीदाबाद के नेशलन हाईवे स्थित बडख़ल मोड पर बने एक ओयो होटल में विकास दुबे व उसके साथियों के छुपे होने की सूचना मिली थी। इस सूचना पर फरीदाबाद पुलिस जैसे ही वहां पहुंची तो विकास दुबे अचानक लापता हो गया। फरीदाबाद क्राईम ब्रांच की कई टीमें होटल में पहुंची, लेकिन वहां से पहले ही अचानक वह कैसे गायब हो, यह किसी को समझ नहीं आ रहा। लेकिन उसका एक साथी पुलिस के हाथ कैसे लग गया, यह रहस्य भी किसी को पता नहीं। इस मामले की जानकारी मिलते ही उत्तर प्रदेश की एसटीएफ की एक टीम फरीदाबाद पहुंच गई।

बता दें कि ये वहीं विकास दुबे है जिसके तार कानपुर के बिसरू गांव में आठ पुलिस कर्मियों की नृशंस हत्या करने से जुड़े हुए हैं। विकास दुबे पर आरोप है कि उसने अपने गैंग के साथ मिलकर बिसरू गांव में आठ पुलिस वालों को बेरहमी से मार डाला है। हालांकि गैंग का मुखिया विकास दुबे अभी तक फरार है और पूरी यूपी पुलिस व एसटीएफ की लाख कोशिश के बाद भी वह उनके हत्थे नहीं चढ़ पा रहा है। यूपी पुलिस ने अभी तक विकास दुबे से संबंधित चार लोगों को गिरफ्तार किया है। लेकिन गैंग का मुखिया विकास दुबे व उसके गुर्गे पुलिस की पकड़ से बाहर हैं। विकास दुबे गैंग को पकडऩे के लिए एसटीएफ सहित उत्तर प्रदेश के 40 थानों की पुलिस दिन रात खाक छान रही है। मगर उनकी भनक तक पुलिस को नहीं लगी है। परंतु इस दौरान खबर यह आई कि विकास दुबे व उसके कुछ गुर्गे फरीदाबाद में बडख़ल चौक पर स्थित ओयो होटल में ठहरे हुए हैं।

इस सूचना पर फरीदाबाद क्राईम ब्रांच की कई टीमों ने एक सामूहिक आपरेशन के जरिए विकास दुबे गैंग को पकडऩे की योजना बनाई। क्राईम ब्रांच की सभी टीमें मौके पर पहुंच गई। कहा जा रहा है कि इस दौरान पुलिस की वहां विकास गैंग के साथ अपने बचाव को लेकर गोलियां भी चलीं। लेकिन इसके बावजूद विकास दुबे पुलिस के हाथ नहीं आया और वहां से फरार हो गया। जबकि उसका एक साथी पुलिस ने दबोच लिया। वहीं दूसरी ओर फरीदाबाद पुलिस इस बारे में कोई भी जानकारी देने से बच रही है। बता दें कि यूपी पुलिस इस हत्याकांड के मुख्य आरोपी विकास दुबे को पकडऩे के लिए नेपाल बार्डर तक की खाक छान रही है। लेकिन तमाम प्रयासों के बावजूद उसे पकडऩे में सफलता नहीं मिल रही है। माना जा रहा है कि यूपी पुलिस में उसके खबरी लगातार उसकी मदद कर रहे हैं, तभी तो वह पुलिस के हत्थे नहीं चढ़ पा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here