हुड्डा ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल को ललकारा ,दम है तो बरौदा से मेरे सामने लड़ें चुनाव

0
Sonipat News (citymail news ) पूर्व मुख्यमंत्री और नेता प्रतिपक्ष भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने मौजूदा मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को चुनौती दी है। हुड्डा का कहना है कि अगर सरकार को अपने विकास कार्यों पर भरोसा है तो सीएम खट्टर को ख़ुद बरोदा उपचुनाव में बतौर उम्मीदवार उतरना चाहिए। अगर खट्टर उपचुनाव लड़ते हैं तो मैं उनके सामने चुनाव लड़ने के लिए तैयार हूं। अगर ऐसा होता है तो 2024 के बजाए बरोदा उपचुनाव में ही सरकार के विकास कार्यों और उसकी लोकप्रियता का फ़ैसला हो जाएगा। नेता प्रतिपक्ष ने मुख्यमंत्री खट्टर के बरोदा में दिए बयान को गैर ज़िम्मेदाराना करार दिया। मुख्यमंत्री ने कहा था कि अगर बरोदा की जनता सरकार में हिस्सेदारी चाहती है तो बीजेपी को वोट दे। भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने कहा कि ज़िम्मेदार पद पर बैठकर मुख्यमंत्री को ऐसी हल्की बयानबाज़ी नहीं करनी चाहिए। उन्हें हिस्सेदारी का प्रलोभन देने के बजाय बरोदा की जनता को आश्वासन देना चाहिए था कि वो यहां का विकास करवाएंगे क्योंकि वो बरोदा समेत पूरे हरियाणा के मुख्यमंत्री हैं। पूर्व सीएम ने गोहाना में एक प्रेसवार्ता को संबोधित करते हुए मौजूदा सीएम को यह चुनौती दी।
हुड्डा ने कहा कि 6 साल राज करने के बाद भी मुख्यमंत्री के पास बरोदा में गिनवाने के लिए एक भी काम नहीं है। जबकि कांग्रेस सरकार के दौरान बरोदा में बिजली, पानी, रोजगार, सड़क, स्कूल, स्वास्थ्य, सिंचाई, कृषि और व्यापार हर क्षेत्र में जमकर विकास हुआ। सच तो ये है कि बरोदा ही नहीं बीजेपी सरकार के पास पूरे हरियाणा में गिनवाने के लिए कोई भी बड़ा काम नहीं है। बीजेपी सरकार ने प्रदेश पर कर्ज़ को बढ़ाकर 60 हज़ार करोड़ से 2 लाख करोड़ कर दिया। बावजूद इसके बीजेपी ने पूरे कार्यकाल में कोई बड़ी यूनिवर्सिटी, मेडिकल कॉलेज, बड़ा संस्थान, बड़ा उद्योग, नई रेलवे लाइन या मेट्रो लाइन स्थापित नहीं की। मौजूदा सरकार से ग़रीब, मध्यम वर्ग, मजदूर, दुकानदार, व्यापारी और कर्मचारी समेत हर वर्ग दुखी है। सबसे ज़्यादा मार किसान पर पड़ रही है। एक तरफ कोरोना तो दूसरी तरफ तेल की कीमतें और सरकार की नीतियां किसान की दुश्मन बन बैठी हैं। बीजेपी 2022 तक किसान की आय दोगुनी करने का वादा करती है। लेकिन लगातार खेती की लागत को दोगुना करने की दिशा में काम कर रही है।
पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि आज देश और प्रदेश की जनता 5 सी से घिरी हुई है। चीन और कोरोना से तो पूरी दुनिया ही परेशान है। लेकिन हरियाणा की जनता पर करप्शन, क्राइम और कास्टीज्म की अलग मार पड़ रही है। कांग्रेस सरकार में जो हरियाणा विकास, निवेश, खेलकूद और रोजगार में अव्वल हुआ करता था, वो आज क्राइम, करप्शन, बेरोजगारी और नशे में टॉप पर है। क्राइम का आलम ये है कि आज ना आमजन सुरक्षित है और ना ही पुलिस वाले। सरेआम हत्याएं हरियाणा में आम बात हो गई है। उन्होंने कहा कि गोहाना में जिन दो पुलिसवालों की हत्या की गई है उनके परिवारों की मांग मानते हुए सरकार को उन्हें यूपी की तरह 1-1 करोड़ रुपए आर्थिक मदद और परिवार में एक-एक सरकारी नौकरी देनी चाहिए। भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने ड्यूटी के दौरान शहीद हुए दोनों पुलिसवालों के घर जाकर उन्हें श्रद्धांजलि दी और परिजनों के प्रति अपनी संवेदनाएं प्रकट की।
हुड्डा ने कहा कि क्राइम ही नहीं करप्शन के मामले में भी बीजेपी सरकार नए रिकॉर्ड स्थापित कर रही है। धान ख़रीद, माइनिंग और शराब घोटाला सबके सामने है। घोटालों की जांच के लिए सरकार के भीतर ही किसी तरह का समन्व्य देखने को नहीं मिलता। शराब घोटाले की जांच को एसआईटी और एसईटी के फेर में उलझा कर रफादफा कर दिया गया। आजतक असली दोषियों पर कोई कार्रवाई नहीं हुई। बाकी घोटालों की भी जांच करने के बजाय, उन्हें ढकने का काम किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here