भारत में तैयार हुई कोरोना की दवा, 15 अगस्त को मोदी देंगे देश को तोहफा

0
- Advertisement -

New Delhi News (citymail news ) लगता है कि देश से जल्द ही कोरोना हमेशा के लिए समाप्त होने वाला है। खबर आ रही है कि भारत में कोरोना की वैक्सीन तैयार कर ली गई है। इस दवा का मानव ट्रायल भी लगभग पूरा हो चुका है। संभावना है कि 15 अगस्त को लालकिले से इस दवा को लांच करने की पूरी तैयारी की जा रही है। इस दवा के निर्माण के बाद माना जा रहा है कि विश्व भर में भारत सबसे पहले कोरोना की दवाई को अपने देश के लोगों को समर्पित कर सकता है। हालांकि अमेरिका व ब्रिटेन सहित कई देश कोरोना की दवा बनाने की पूरी कोशिश कर रहे हैं, लेकिन इसमें अभी तक पूरी तरह से उन्हें सफलता नहीं मिली है, जहां तक भारत की बात है तो आपको बता दें कि देश ने स्वदेशी दवा लगभग तैयार कर ली है। इसका जानवरों पर भी सफल परीक्षण किया जा चुका है। बताया गया है कि पंद्रह अगस्त के दिन लालकिले से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस दवा को लांच कर सकते हैं। आईसीएमआर और भारत बायोटेक की पार्टनरशिप में इस दवा को तैयार करने के बाद जानवरों पर सफल परीक्षण भी कर लिया गया है। फिलहाल इसके मानव ट्रायल की दिशा में तेज गति से काम चल रहा है। आईसीएमआर ने ट्रायल के लिए चुने हुए सभी संस्थाओं को तय सीमा के भीतर इसके परीक्षण का सख्त आदेश दिया है। प्रधानमंत्री भी चाहते हैं कि जल्द से जल्द इस दवा का ट्रायल पूरा कर लिया जाए, ताकि वह पंद्रह अगस्त को लालकिले से इस दवा से पूरे देश को अवगत करवाकर खुशी के पल सौंप सकें। वैसे बता दें कि कोरोना की वैक्सीन पर दुनिया भर में 140 दवाओं पर काम चल रहा है। इनमें ब्रिटेन की आक्सफोर्ड यूनिवसर्टी और अमेरिका की मोडरेना कंपनी इस दौड़ में सबसे आगे मानी जा रही हैं। ये दोनों कंपनियां दो बार मानव ट्रायल के चरण को पूरा कर चुकी हैं, उनका इस दिशा में तीसरा चरण चल रहा है। हालांकि भारत के इस ट्रायल को सबसे पीछे माना जा रहा था, लेकिन भारतीय अनुसंधान चिकित्सा परिषद आईसीएमआर के महानिदेशक डाक्टर बलराम भार्गव की ओर से वैक्सीन ट्रायल के लिए चुने गए एक दर्जन संस्थाओं को लिखे के पत्र के बाद यह साफ होता दिखाई दे रहा है कि भारत इस वैक्सीन को लेकर दुनिया भर के देशों को पीछे छोडऩे की तैयारी कर चुका है। डा. भार्गव के अनुसार इस वैक्सीन का मानव परीक्षण जल्द से जल्द पूरा करने का फैसला किया गया है, ताकि पंद्रह अगस्त को इसे आम लोगों के लिए उपलब्ध करवाया जा सके। उन्होंने बताया कि इस दवा की प्रक्रिया की सरकार द्वारा उच्चतम स्तर पर निगरानी की जा रही है। बताया गया है कि सात जुलाई तक पहले ट्रायल के लिए उन लोगों का पंजीकरण का काम भी पूरा कर लिया जाएगा, जिन पर इसका परीक्षण होना है। यदि सब कुछ ठीक रहा तो आने वाली पंद्रह अगस्त को कोरोना के प्रकोप से परेशान लोगों को बड़ा तोहफा मिल सकता है और इसके सफल परीक्षण के बाद स्वतंत्रता दिवस को देशवासियों को कोरोना से हमेशा के लिए आजादी मिलने की संभावना प्रबल होती दिखाई देने लगी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here