Tuesday, December 7, 2021

हो जाएं सावधान, कहीं किराएदार बनकर ना हो जाएं धोखाधड़ी के शिकार

Must Read

मात्र 28 रुपए का कर्ज चुकाने अमेरिका से हरियाणा आया ये शख्स, साल 1954 में ली थी इस हलवाई से उधारी

हिसार। कहते हैं कि जीवन में यदि आपने किसी से उधार लिया है तो वह आपको अगले जन्म में...

मुसीबत है कि पीछा नहीं छोड़ती, 86 साल की उम्र में भी 6 लोगों का पेट पाल रहे हैं ये बुजुर्ग बाबा

फ़रीदाबाद । आमतौर पर कई लोग छोटी छोटी मुश्किलों के सामने भी हार मानकर बैठ जाते हैं लेकिन ऐसे...

पेट्रोल-डीजल की महंगाई से बचना है तो करें ये मामूली सा उपाय, मिलेगी बड़ी राहत और बचेंगे हजारों रुपए

नई दिल्ली। पेट्रोल और डीजल के रेटों को लेकर इन हाय-तौबा मची हुई है। देश में हर रोज पेट्रोल...

Chandigarh News (citymail news ) हरियाणा पुलिस ने एक महत्वपूर्ण एडवाजरी जारी करते हुए नागरिकों से अनुरोध किया है कि किराया भुगतान संबंधी किसी भी ऑनलाइन भुगतान प्रक्रिया को शुरू करने से पहले रेंट पेमैंट एप की साख को सही प्रकार से जांच-परख लें, क्योंकि साइबर जालसाज ऐसे आॅनलाइन प्लेटफार्मों के माध्यम से बैंक खातों में सेंध लगाने का प्रयास कर सकते हैं। हरियाणा पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) मनोज यादव ने ऐसे साइबर जालसाजों से सावधान रहने की सलाह देते हुए बताया कि ऑनलाइन एप द्वारा क्रेडिट / डेबिट कार्ड के माध्यम से रेंट ट्रांसफर की सुविधा शुरू होने के बाद साइबर क्राइम का एक नया तरीका सामने आया है। नाॅब्राडर पे, रेंटपेमेंट, सीआरइडी जैसे रेंट पेमैंट ऐप के जरिए यूजर मकान मालिक के बैंक अकाउंट में किराया ट्रांसफर कर सकते हैं और डिजिटल रसीद भी प्राप्त कर सकते हैं।
उन्होंने बताया कि किराया मासिक आधार पर व्यक्ति द्वारा वहन किया जाने वाला सबसे बड़ा खर्च होता है इसलिए ऐसे जालसाजों से बचने के लिए ऑनलाइन भुगतान के हर विवरण पर बारीकी से परख की जानी चाहिए।
जालसाज ऐसे करते हैं धोखाधडी
क्राइम के तरीके बारे बताते हुए श्री यादव ने कहा कि सबसे पहले ऐसे जालसाज एक किराया भुगतान ऐप के साथ एक खाता खोलकर अपने खाता नंबर के साथ खुद को मकान मालिक के रूप में पंजीकृत करते हैं। फिर वे व्यक्ति को फोन कर उसे कार्ड की जानकारी देने के लिए हथकंडे अपनाते हैं। जैसे ही साइबर धोखेबाज को जानकारी प्राप्त होती है, वह ऐप के माध्यम से किराए के भुगतान की प्रक्रिया शुरू करता है, जिसके परिणामस्वरूप क्रेडिट/डेबिट कार्ड से धन की ठगी हो जाती है। डीजीपी ने एहतियाती उपायों का जिक्र करते हुए कहा कि नागरिक कोई भी ऑनलाइन भुगतान करने से पहले रेंट पेमैंट ऐप की साख व प्रतिष्ठा और मकान मालिक की सही ढंग से जांच-परख कर ले। यदि कोई धोखाधड़ी सामने आती है तो तुरंत रेंट पेमैंट ऐप के ग्राहक सहायता केंद्र से संपर्क करें क्योंकि अनाधिकृत निकासी द्वारा इस तरह के लेनदेन को एक समयसीमा के भीतर रोका जा सकता है। नागरिकों को फोन कॉल/व्हाट्सएप या टेक्स्ट मैसेज पर किसी को भी अपना क्रेडिट/डेबिट कार्ड विवरण साझा करने से बचना चाहिए। किसी के कहने पर एनीडेस्क, क्विक स्र्पोट जैसे रिमोट एक्सेस सॉफ्टवेयर को भी इंस्टाल करने से बचना चाहिए।

- Advertisement -
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Connect With Us

223,344FansLike
3,123FollowersFollow
3,497FollowersFollow
22,356SubscribersSubscribe

Latest News

मात्र 28 रुपए का कर्ज चुकाने अमेरिका से हरियाणा आया ये शख्स, साल 1954 में ली थी इस हलवाई से उधारी

हिसार। कहते हैं कि जीवन में यदि आपने किसी से उधार लिया है तो वह आपको अगले जन्म में...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -
Do NOT follow this link or you will be banned from the site!
error: Content is protected !!