मंहगी पड़ी बेटे की शादी, कोरोना फैलाने पर बाप पर 6 लाख का जुर्माना, मुकदमा भी दर्ज

0


राजस्थान के भीलवाड़ा में एक व्यक्ति को अपने बेटे की शादी करना मंहगा पड़ गया। इस शादी में आए लोगों में से 15 कोरोना पॉजीटिव हो गए और एक की मौत हो गई। प्रशासन एवं स्वास्थ्य विभाग ने इस मामले में कड़ा संज्ञान लेते हुए आरोपी व्यक्ति पर ना केवल मुकदमा दर्ज कर दिया , बल्कि उस पर 6 लाख रुपए से अधिक का जुर्माना भी लगा दिया गया है। इस संदर्भ में भीलवाड़ा प्रशासन ने सारे मामले पर संज्ञान लेते हुए जुर्माना एवं मुकदमा दर्ज करने संबंधी आदेश जारी किया है। सरकार ने शादी ब्याह के लिए पचास लोगों को आमंत्रित करने का ही नियम बनाया हुआ है। इसी क्रम में भीलवाड़ा के भदादा मोहल्ले में रहने वाले घीसूलाल राठी ने अपने बेटे रिजूल के विवाह हेतु 50 लोगों के शामिल होने तथा कोविड 19 के सभी नियम मानने का लिखित आश्वासन दिया था। पंरतु शादी में उनके द्वारा पचास से अधिक लोगों को तो बुला ही लिया, साथ ही सोशल डिस्टेंस व मास्क पहनने की पालना भी नहीं की। इसके बाद पता चला कि उक्त विवाह में शामिल होने वाले कई लोग कोरोना सक्रंमित हो गए और उनमें से एक की मौत हो गई। मरने वाला शख्स दूल्हे का दादा बताया जा रहा है। प्रशासन की जानकारी में यह सारा मामला आते ही तत्काल सख्त कदम उठाया गया । कोविड 19 के नियमों की उल्लघंना करने पर तहसीलदार भीलवाड़ा द्वारा घीसूलाल के खिलाफ थाना सुभाष नगर में 22 जून को मुकदमा दर्ज करवा दिया गया। इस मामले की स्वास्थ्य विभाग ने भी रिपोर्ट तैयार की, जिसमें पाया गया कि इस विवाह में शामिल होने वाले 15 लोग तो कोरोना पॉजीटिव पाए ही गए हैं, साथ ही 58 लोगों को कोरोना संभावित मानते हुए क्वारंटाईन किया गया है। इन सभी के क्वारंटाईन पीरियड में रहने का सारा खर्च करीब 6 लाख 26 हजार 600 रुपए होगा। यह सरकार के राजस्व की हानि होगी। इसके चलते ही प्रशासन ने यह सारी राशि जुर्माने के तौर पर घीसूलाल से वसूली जाएगी। इस विवाह समारोह को लेकर राज्य भर में चर्चाओं का बाजार गर्म है। प्रशासन का मानना है कि घीसूलाल को शादी समारोह के आयोजन को लेकर कोविड नियमों की पूरी जानकारी थी, इसके बावजूद उसके द्वारा उल्लघंन कर कोरोना बढ़ाने का काम किया है। इसके चलते ही उस पर मुकदमा दर्ज कर जुर्माना लगाया गया है। भीलवाड़ा के जिला मजिस्टे्रट राजेंद्र भ_ ने इस संदर्भ में तहसीलदार को आदेश दिए है कि जुर्माने की राशि वसूल कर मुख्यमंत्री सहायता कोष में जमा करवाएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here